ग्राउंड रिपोर्ट1000 लोगों की जान बचा चुके हैं श्रीपाल:गोमती में मौत की छलांग लगाने वालों को बचाते हैं; बेटे की मौत के दिन भी काम किया

लखनऊ2 महीने पहलेलेखक: देवांशु तिवारी
  • कॉपी लिंक

श्रीपाल निषाद... यह उस शख्स का नाम है, जिसने 1011 ऐसे लोगों को बचाया जो खुद मरना चाहते थे। लोग सुसाइड करने के लिए गोमती नदी में कूदते, लेकिन ऐन वक्त पर श्रीपाल उन्हें बचाने पहुंच जाते। यही नहीं, बीते 30 सालों में उन्होंने नदी से 1500 से ज्यादा लाशें निकालकर पुलिस को सौंपी हैं। इस काम के लिए उन्हें कोई सैलरी नहीं मिलती। हां, कभी-कभी थोड़ा बहुत सम्मान जरूर मिल जाता है। यूपी पुलिस ने श्रीपाल को विशेष पुलिस अधिकारी का दर्जा दिया है।

दैनिक भास्कर की टीम गोमती नदी के उस पॉइंट पर पहुंची, जहां बीते एक साल में सबसे ज्यादा सुसाइड की कोशिशें हुईं। हमने श्रीपाल और उनके साथी गोताखोरों से बात की। लाशों के बीच काम करते हुए उनके अनुभवों को करीब से जाना। आइए आपको उनकी पूरी कहानी बताते हैं। शुरुआत 5 दिन पुरानी एक घटना से...

25 जनवरी 2023...दोपहर के 12:30 बजे। लखनऊ के गोमती रिवरफ्रंट के किनारे श्रीपाल और उनके भाई रामशंकर निषाद खाना खाने बैठे। इस बीच उन्होंने देखा कि एक लड़की तेजी से नदी की तरफ भाग रही है। दूसरे गुंबद के पास पहुंचकर वह रुक गई। उसके रुकने तक श्रीपाल पूरा माजरा समझ चुके थे। उन्होंने चिल्लाते हुए उससे पीछे हटने को कहा। लड़की नहीं मानी। वो गुंबद पर चढ़ी और 50 फीट की ऊंचाई से नदी में कूद गई।

श्रीपाल खाना छोड़कर भागे। बगल में बैठे रामशंकर से नाव लाने को कहा और नदी में छलांग लगा दी। पानी के अंदर 3 मिनट तक वह लड़की को खोजते रहे। जहां बुलबुले निकल रहे थे वहां तैर कर पहुंचे। लड़की पानी के अंदर छटपटा रही थी। हाथ-पांव मार रही थी। श्रीपाल ने उसके बाल पकड़ लिए और पानी के ऊपरी छोर पर ले आए।

श्रीपाल 30 साल से गोताखोरी कर रहे हैं। गोमती बैराज के पास 3 मेन पुलों पर यह तैनात रहते हैं। इनका घर भी नदी से सटा हुआ है।
श्रीपाल 30 साल से गोताखोरी कर रहे हैं। गोमती बैराज के पास 3 मेन पुलों पर यह तैनात रहते हैं। इनका घर भी नदी से सटा हुआ है।

'मैं जिंदा नहीं रहना चाहती...मुझे डूब जाने दो। छोड़ो मुझे।' लड़की चिल्लाती रही पर श्रीपाल ने नहीं छोड़ा। तब तक उनके भाई रामशंकर वहां नाव लेकर पहुंच गए। लड़की को बाहर निकाला। पुलिस मौके पर पहुंची। जांच की तो पता चला लड़की को प्यार में धोखा मिला है। इसलिए वह जीना नहीं चाहती।

दिनभर नदी किनारे रहते हैं, 24 घंटे फोन ऑन रहता है
लखनऊ में जान देने के लिए गोमती नदी में कूदने वालों में कई जिंदा नहीं बचते, तो कुछ को नदी किनारे मौजूद गोताखोर बचा लेते हैं। श्रीपाल की तरह लखनऊ में करीब 25 गोताखोर हैं, जो अपने पुरखों की तरह ये जोखिम भरा काम करते हैं। इनमें से कुछ तेज-तेर्रार गोताखोरों को यूपी पुलिस से 'विशेष पुलिस अधिकारी' का दर्जा मिला है। श्रीपाल भी उनमें से एक हैं।

यूपी पुलिस से दिए गए अपने कार्ड को दिखाते हुए श्रीपाल कहते हैं, "सुबह से शाम तक नदी के किनारे रहते हैं। खाली वक्त में मछली भी पकड़ता हूं। लखनऊ के सभी पुलिस स्टेशनों पर हमारे नंबर दिए गए हैं। इसलिए 24 घंटे फोन ऑन रखना पड़ता है। देर रात थाने से फोन आने पर भी मौके पर पहुंचना पड़ता है। मैंने ठंड के वक्त 9 डिग्री तापमान में भी पानी में 15 फीट नीचे जाकर रेस्क्यू किया है।"

दिसंबर 2022 में श्रीपाल और उनके साथी गोताखोरों ने गोमती बैराज के पास ये डेडबॉडी निकाली थी।
दिसंबर 2022 में श्रीपाल और उनके साथी गोताखोरों ने गोमती बैराज के पास ये डेडबॉडी निकाली थी।

श्रीपाल 30 साल से गोमती किनारे गोताखोरी का काम कर रहे हैं। इस दरमियान उन्होंने 1000 से ज्यादा लोगों की जान बचाई। वहीं, 1500 से ज्यादा डेडबॉडी निकाली है। श्रीपाल के पिता रामचंदर निषाद भी लखनऊ के पुराने गोताखोर थे। साल 2013 में उनका निधन हो गया।

'बेटे की मौत के दिन भी मैंने काम किया'
श्रीपाल के परिवार में 6 लोग हैं। पत्नी, 2 लड़के और लड़कियां। सबसे बड़े बेटे विकास की मौत 2019 में एक सड़क हादसे में हो गई थी। जब विकास की मौत हुई, उस दिन भी श्रीपाल ने काम किया था।

वह कहते हैं, "31 मार्च 2019 का दिन था। मेरा बेटा घर से बाहर मोबाइल पर किसी से बात कर रहा था। तभी अचानक तेजी से आ रही कार ने उसे ठोकर मार दी। 20 मीटर दूर जाकर गिरा। हम उसे ट्रॉमा सेंटर ले गए, लेकिन खून बहुत ज्यादा बहने से उसकी मौत हो गई। बेटे की बॉडी मॉर्च्युरी में रखने की तैयारी हो रही थी, तभी मेरे पास गोमतीनगर थाने से फोन आया कि एक लड़की नदी में कूद गई है। मैं पत्नी को पोस्टमॉर्टम हाउस छोड़कर चला गया।"

"जब मैं वहां पहुंचा तो लड़की को नदी में कूदे हुए आधे घंटे बीत गए थे। नदी में गया, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। मैंने नदी से लाश निकाली और पुलिस को सौंपकर वापस बेटे का अंतिम संस्कार करने पहुंच गया। मेरी जिंदगी में उस दिन से बुरा कोई दिन नहीं था।"

अब यहां रुकते हैं। श्रीपाल की कहानी पर आगे बढ़ने से पहले देशभर में डूबने से हुई मौतों से जुड़े आंकड़ों पर चलते हैं...

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने 2020 और 2021 के देशभर के आंकड़े जारी किए। इसमें नदी, तालाबों में यानी पानी में कूदकर सुसाइड करने वालों की संख्या 16 हजार है।
नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने 2020 और 2021 के देशभर के आंकड़े जारी किए। इसमें नदी, तालाबों में यानी पानी में कूदकर सुसाइड करने वालों की संख्या 16 हजार है।

जान बचाने गए थे, खुद मरने से बचे
नदी में डूबते लोगों को बचाते समय गोताखोरों की जान को भी खतरा रहता है। लंबे समय तक पानी में रहने से शरीर का वजन बढ़ जाता है। इस वजह से गहराई में जाकर रेस्क्यू करना कई बार गोताखोरों के लिए भी जानलेवा साबित होता है।

गोताखोर रमेश कहते हैं, "हम गोताखोर पानी में 3 से 4 मिनट तक सांस रोक सकते हैं। बावजूद इसके हर वक्त जान जाने का खतरा रहता था। पिछले साल डालीगंज पुल के पास एक महिला नदी में कूद गई थी। हमारे साथी गोताखोर रामलखन उसकी लाश निकालने नदी में कूदे थे। वह बॉडी के बाल पकड़कर किनारे ला रहे थे, लेकिन लाश के भारी वजन के कारण उनका बैलेंस बिगड़ गया। दोनों नदी की गहराई में जाने लगे। किसी तरह रस्सी के सहारे उन्हें बाहर लाया गया।"

ऐसी ही एक घटना साल 2020 में गोताखोर रामशंकर के साथ हो चुकी है। वह बताते हैं, "गोमती बैराज के पास एक लड़का नदी में कूद गया था। बहुत देर तलाशी के बाद भी उसकी लाश नहीं मिल पाई थी। पुलिस के बुलाने पर मैं और श्रीपाल मौके पर पहुंचे। दोनों ने 40 मिनट के बाद उसके शव को खोज निकाला, लेकिन लाश उठाते वक्त नदी में पत्थर पर लगा सरिया मेरे सीने के पास घुस गया। इसके बाद मैं पानी में ही छटपटाने लगा। उस चोट का निशान आज भी मेरे सीने पर मौजूद है।"

चोट का निशान दिखाते हुए रामशंकर कहते हैं, "अगर उस दिन श्रीपाल भइया साथ नहीं होते, तो आज जिंदा न बच पाते।"

ये उस चोट का निशान है, जब रामशंकर के सीने में रेस्क्यू के वक्त सरिया घुस गया था।
ये उस चोट का निशान है, जब रामशंकर के सीने में रेस्क्यू के वक्त सरिया घुस गया था।

लाश निकालते-निकालते आंखें लाल हो गई पर सुरक्षा उपकरण नहीं मिले
गोताखोर श्रीपाल बताते हैं, "पुलिस का फोन आने पर लखनऊ, बाराबंकी, सीतापुर और उन्नाव तक शव निकालने जाना पड़ता है। फिर भी गोताखोरों को कोई सुरक्षा उपकरण नहीं दिए जाते। नदी में कई जगह नालों का बदबूदार पानी भी गिरता है। गंदे पानी में जाकर सांस रोकना और शव खोजना मुश्किल भरा काम होता है। इसमें जोखिम के साथ बीमारी होने का भी खतरा है।"

वो आगे कहते हैं कि गोमती का पानी इतना खराब है कि लाश निकालते-निकालते आंखें लाल हो गई हैं। ये काम करने का हमें कोई इनाम नहीं मिलता। हां... कभी-कभी शव निकालने पर पुलिस 300 से 500 रुपए जरूर थमा देती है।

पुलिस की मदद के लिए हमेशा नदी में कूदने को तैयार रहने वाले गोताखोरों को कोई खास सुविधा भी नहीं मिलती। गोमती रीवरफ्रंड के 3 मेन पुलों पर गोताखोर श्रीपाल, रामशंकर, रमेश और अजीत तैनात हैं। सब ने बताया कि गोताखोरी से जुड़े परिवारों की मूलभूत सुविधाओं पर भी कोई ध्यान नहीं देता। चाहे ठंड हो या गर्मी हमें पूरा दिन घाट पर रहना पड़ता है। यहां गोताखोरों के ठहरने के लिए कोई चौकी भी नहीं बनाई गई है। इतनी तंगी है कि घर चलाने के लिए कुछ गोताखोरों ने काम छोड़कर सब्जी बेचना, मछली पकड़ना और रिक्शा चलाने का काम शुरू कर दिया है।

डूबे लोगों के शरीर से पानी निकालने में पसीना छूट जाता है
गोमती में कूदे लोगों को बाहर निकालने के बाद भी गोताखोरों का काम खत्म नहीं होता। कई बार लोग बेहोश हो जाते हैं, जिन्हें होश में लाने के लिए उनके शरीर का पानी निकालना पड़ता है।

श्रीपाल कहते हैं, "पिछले साल नदी में एक लड़की कूद गई थी। लड़की को जब नदी से बाहर लाया तब वो होश में नहीं थी। हम सभी ने मान लिया था कि वो मर चुकी है। फिर हमने आखिरी कोशिश की। उसे उल्टा लिटाकर कमर के पीछे जोर से धक्का दिया। इसके बाद वो अचानक खांसने लगी और उल्टी कर दी। वो लड़की आज भी हम लोगों से कभी-कभी मिलने आती है। मुझे बहुत खुशी होती है जब हमारे बचाए हुए लोग हमसे मिलने आते हैं।"

10वीं-12वीं रिजल्ट के बाद काम बढ़ जाता है
श्रीपाल के मुताबिक, वैलेंटाइन-डे और 10वीं-12वीं का रिजल्ट आने से पहले गोताखोरों का काम बढ़ जाता है, क्योंकि इस बीच प्यार में धोखा खाए लोग और परीक्षा में फेल होने पर छात्र अक्सर नदी में कूदते हैं। इसलिए जिस दिन रिजल्ट आना होता है, उस दिन हर पुल के नीचे 2 से 3 गोताखोर रहते हैं। छठ पूजा और गणेश चतुर्थी में भी गोताखोरों का वर्क लोड बढ़ जाता है।

गोताखोरों को भत्ते के नाम पर सिर्फ वादे मिले
साल 2008 में लखनऊ के 29 गोताखोरों को स्पेशल पुलिस अफसर (एसपीओ) का दर्जा मिला। सबको स्पेशल कार्ड बनाकर दिए गए। गोताखोरों को हर महीने 500 रुपए भत्ता देने की बात भी तय हुई, लेकिन एक बार भी यह राशि नहीं मिली। 1 जुलाई 2019 को भी डीजीपी ओपी सिंह ने गोताखोरों को सम्मानित किया। तब भी हर गोताखोर को वर्दी और भत्ता देने का वादा किया गया, लेकिन इसके बाद भी कुछ नहीं हुआ।

गोताखोर श्रीपाल ने बताया, "एसपीओ कार्ड को हर साल रिन्यू कराना पड़ता है। इसी को दिखाकर भत्ता लिया जा सकता है। साल 2019 में हमने डीजी ऑफिज जाकर कार्ड रिन्यू करवाया था। इसके बाद से वहीं कार्ड इस्तेमाल कर रहे हैं। कार्ड रिन्यू करवाने के लिए हम थाने भी गए, लेकिन पुलिस का कहना है कि इसी कार्ड से काम करो।"

गोताखोर श्रीपाल को मिला स्पेशल पुलिस अधिकारी का कार्ड। पानी में भीगकर ये पुराना दिख रहा है।
गोताखोर श्रीपाल को मिला स्पेशल पुलिस अधिकारी का कार्ड। पानी में भीगकर ये पुराना दिख रहा है।

अब...
यहां तक आपने गोताखोरों की जिंदगी के बारे में जाना। इनको मिलने वाली सुविधाओं के बारे में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का क्या कहना है। ये भी जान लीजिए...

पूर्व DGP एके जैन बोले- यूपी पुलिस SPO को भत्ता नहीं देती
यूपी के पूर्व डीजीपी AK जैन कहते हैं ,"उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में गोताखोरों के लिए अलग से कोई पद स्वीकृत नहीं है। हां, नदी किनारे रहने वाले मल्लाहों को जरूर SPO का दर्जा दिया गया है। ताकि विशेष परिस्थितियों में पुलिस इनकी मदद ले सके। इसके लिए अलग से कोई भत्ता भी अभी तक नहीं तय किया गया है, लेकिन बॉडी रेस्क्यू करने के बाद इन्हें प्रशासन अपनी मर्जी से सम्मानित कर सकता है।"

आखिर में अखबार की उस कटिंग को देख लिजिए जब श्रीपाल के साथ लखनऊ के 29 गोतोखोरों को स्पेशल पुलिस ऑफिसर बनाया गया था...

2008 में लखनऊ के SSP अखिल कुमार ने गोताखोरों को सम्मानित किया था। उस समय हर थाने पर इनके फोन नंबर दिए गए थे। सभी घाटों पर इनके नंबर बड़े अक्षरों में लिखे गए।
2008 में लखनऊ के SSP अखिल कुमार ने गोताखोरों को सम्मानित किया था। उस समय हर थाने पर इनके फोन नंबर दिए गए थे। सभी घाटों पर इनके नंबर बड़े अक्षरों में लिखे गए।
  • आखिर में आप इस पोल में शामिल होकर अपनी राय दे सकते हैं...

उत्तर प्रदेश की इन ग्राउंड रिपोर्ट्स को भी पढ़िए...
1. डकैत राधे बोला- मेरे सामने बम फटा; ददुआ के चीथड़े उड़ गए, अब योगी मुझे सिक्योरिटी दें

200 से ज्यादा हत्याएं करने वाले डकैत ददुआ का राइट हैंड डाकू राधे रिहा हो चुका है... उसने 14 साल 11 महीने जेल काटी। लूट, हत्या, डकैती जैसे 100 से ज्यादा मुकदमे झेले। सलाखों के पीछे रहते हुए उसे तीन जेलों से ट्रांसफर किया गया। 8 मामलों में उम्रकैद और फांसी की सजा सुनाई गई। राधे जिंदगी के आखिरी दिन गिन रहा था, लेकिन हाईकोर्ट के एक आदेश ने उसे फिर से जिंदा कर दिया। पढ़िए पूरी खबर...

2. मुआवजे के नाम पर मिले बस वादे; रेप के झूठे आरोप के बाद अब ऑटो चलाने को मजबूर
साल 2002 में 23 साल की उम्र में विष्णु को रेप के इल्जाम में जेल में बंद कर दिया गया। उसके 19 साल 3 महीने जेल में बंद रहने के बाद पता चला कि उसने रेप किया ही नहीं। लड़की के परिवार ने आपसी विवाद के चलते उस पर झूठा इल्जाम लगाया था। अपनी बेगुनाही साबित करने के बाद जब वो बाहर आया तो उसके मां-बाप और दो भाइयों की मौत हो चुकी थी। पढ़िए पूरी खबर...

2. मैंने 4000 लावारिस शवों को मुखाग्नि दी, शव वाहन चलाती तो लोग हंसते थेयूपी के लखनऊ जिले की रहने वाली वर्षा 2018 से लावारिस शवों का अंतिम संस्कार कर रही हैं। वे अब तक 4000 से ज्यादा शवों का अंतिम संस्कार कर चुकी हैं। कोविड के दौरान वर्षा के काम को सराहते हुए उन्हें BEAUTIFUL INDIANS-2022 लिस्ट में शामिल किया गया। पढ़िए पूरी खबर...

खबरें और भी हैं...