• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • LU B. Ed Joint Entrance Exam More Than 5 Lakh Candidates Of BEd Entrance Will Be Gathered At 1476 Centers: Joint Entrance Examination Being Held In All 75 Districts, Command Center Built In LU, Candidates Will Get Corona Rescue Kit Before The Exam

UP में BEd एग्जाम के बीच पर्चा आउट!:सभी प्रश्नों के सही उत्तर पर लगे थे निशान, STF प्रयागराज ने कहा- ये फर्जी है, युवती समेत दो साल्वर गिरफ्तार, 75 जिलों में चल रही प्रवेश परीक्षा

लखनऊ/प्रयागराज4 महीने पहले

प्रदेश के सभी 75 जिलों में आज यानी शुक्रवार को संयुक्त प्रवेश परीक्षा बीएड 2021-23 हो रही है। इसमें 5.91 लाख स्टूडेंट्स रजिस्टर्ड हैं। पहली पाली की परीक्षा 12 बजे खत्म हो चुकी है। इससे पहले प्रयागराज में परीक्षा का एक फर्जी पेपर सेट वायरल हो गया। इस पर्चे में सभी प्रश्नों के सही उत्तर पर टिक का निशान लगा था। पर्चा आउट होने की खबर से एसटीएफ व विश्वविद्यालय प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। एसटीएफ जांच में जुट गई और वायरल पर्चे का सभी चार सेटों से मिलान किया गया। अभी तक की जांच में वायरल पर्चा फर्जी निकला है। उधर, हंडिया के एक PG कॉलेज से सॉल्वर गिरोह की एक युवती समेत दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

दूसरी पाली के चार सेटों से भी नहीं मिल रहे प्रश्न
प्रयागराज में एसटीएफ के सीओ नावेंदु कुमार सिंह ने बताया कि पर्चे की जांच की गई है। इसे परीक्षा के सभी चार सेटों के प्रश्न पत्र से मिलाया गया है। वायरल पर्चे और परीक्षा के पर्चे के प्रश्न एकदम अलग हैं। एक भी प्रश्न नहीं मिल रहे हैं। उधर, परीक्षा के नोडल सेंटर प्रो. राजेंद्र सिंह रज्जू भैय्या विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार सिंह ने बताया कि जो पर्चा आउट हुआ है, वह फर्जी है। इसके प्रश्नों का मिलान कर लिया गया है। हमारे पास प्रश्न पत्र के जो चार सेट हैं, उनमें से एक से भी वायरल पर्चे के प्रश्न नहीं मिल रहे हैं।

यहां तक की दूसरी पाली में जो चार सेट यूज होने हैं, उनके प्रश्नों का भी मिलान किया गया है। उनमें से भी इसके प्रश्न नहीं मिल रहे हैं। पर्चा वायरल होने के पीछे क्या मंशा थी और कौन लोग शामिल हैं उसकी जांच की जा रही है। टीमें अपना काम कर रही हैं। जल्द सब साफ हो जाएगा।

सॉल्वर गिरोह का भंडाफोड़, युवती समेत दो गिरफ्तार
उधर, प्रयागराज के हंडिया के एक PG कॉलेज से शुक्रवार को सॉल्वर गिरोह का भंडाफोड़ हो गया। STF ने गैंग की सदस्य एक युवती को दूसरे के स्थान पर परीक्षा देते हुए गिरफ्तार किया है। युवती ने उसे परीक्षा में बैठाने वाले शिक्षक का नाम लिया है। उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया है।
पूछताछ में आरोपी युवती ने अपना नाम दीक्षा बताया है। वह गाजियाबाद स्थित HDFC बैंक में रिसेप्शनिस्ट के पद पर कार्यरत है।

CO, एसटीएफ नावेंदु सिंह ने बताया कि दीक्षा मूल रूप से फतेहपुर की रहने वाली है और प्रतियोगी परीक्षाओं में सॉल्वर के रूप में बैठती रही है। इससे पहले भी कई परीक्षाओं में वह दूसरे की जगह पर परीक्षा दे चुकी है। शुक्रवार को वह कोरांव की रहने वाली उषा देवी की जगह बीएड परीक्षा में बैठी थी। पूछताछ में उसने बताया कि शंकरगढ़ के रहने वाले इंटर कॉलेज के शिक्षक बालेंद्र सिंह पटेल ने उसे बीएड परीक्षा में बैठाया था।

एसटीएफ ने वायरल प्रश्नों की जांच की है।
एसटीएफ ने वायरल प्रश्नों की जांच की है।

एक कैंडीडेट से लेते थे 6 से 15 लाख रुपए
गिरफ्तार आरोपी व साल्वर गैंग का सरगना बालेंद्र सिंह पटेल ने पूछताछ में बताया कि वर्तमान में वह शांति देवी इंटर कॉलेज शंकरगढ़ में तैनात है। वह हिंदी और संस्कृत का अध्यापक है। इसके साथ ही साथ वह LIC का एजेंट भी है। उसने बताया कि वह धर्मेंद्र सिंह यादव के साथ मिलकर सॉल्वर गैंग संचालित करता है। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सॉल्वर बैठाने के एवज में वह 6 से लेकर 15 लाख रुपए लेता है। सॉल्वर को एडवांस के रूप में 50 हजार देते हैं। परीक्षा पास होने के बाद दो से छह लाख रुपये देते हैं। बाकी बचे पैसे अपने पास रख लेते हैं। बालेंद्र सिंह ने यह भी बताया कि धर्मेंद्र सिंह यादव के गिरोह के 7 सदस्यों को STF ने पहले ही 31 जनवरी 2021 को जेल भेज दिया है।

साल्वर गैंग के सक्रिय होने का एसटीएफ के पास था इनपुट
पर्चा आऊट होने की खबर तेजी से फैलने के बाद एसटीएफ की टीम सक्रिय हो गई। हालांकि, साल्वर गैंग के सक्रिय होने का खुफिया इनपुट एसटीएफ के पास पहले से ही था। सभी परीक्षा केंद्रों पर पुलिस की तैनाती की गई थी। जबकि एसटीएफ की टीम मोबाइल सर्विलांस कर रही थी। ऐसे में अभी तक की जांच में जो बात सामने आई है कि पर्चा आउट नहीं हो पाया है। यह किसी ने अफवाह फैलाकर ऐसी शरारत की है।

प्रोफेसर राजेंद्र सिंह (रज्जू भैय्या) राज्य विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार और परीक्षा के नोडल अधिकारी शैलेंद्र शुक्ल ने बताया कि बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए प्रयागराज में सर्वाधिक 104 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। 104 परीक्षा केंद्रों पर कुल 39,610 परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं।

परीक्षा कराने की जिम्मेदारी लखनऊ विश्वविद्यालय को मिली है। विश्वविद्यालय परिसर में स्टेट नोडल सेंटर बनाते हुए कंप्यूटर कमांड सेंटर भी बनाया गया है। इसके अलावा AI व मशीन लर्निंग जैसी नवीन तकनीक के जरिए नकलचियों पर नकेल कसने का दावा किया गया है।

हर एक सवाल 2 नंबर, निगेटिव मार्किंग भी
बीएड प्रवेश परीक्षा कि राज्य समन्वयक प्रो. अमिता वाजपेई के मुताबिक प्रवेश परीक्षा राज्य के समस्त 75 जनपदों में आयोजित की जा रही। पहली शिफ्ट में सामान्य ज्ञान व भाषा सम्बन्धी ज्ञान की परीक्षा होगी वही द्वितीय शिफ्ट में सामान्य मानसिक योग्यता व विषय सम्बन्धी ज्ञान की परीक्षा होगी। प्रत्येक प्रश्न पत्र में 100 प्रश्न होंगे तथा प्रत्येक प्रश्न 2 अंकों का होगा।इसके साथ ही निगेटिव मार्किंग की जाएगी। डिप्टी सीएम खुद लगातार परीक्षा को लेकर सभी जिलों के DM को निर्देश जारी कर चुके हैं।

लखनऊ विश्वविद्यालय में बने कमांड सेंटर का निरक्षण करती परीक्षा की राज्य समन्वयक अमिता बाजपेई।
लखनऊ विश्वविद्यालय में बने कमांड सेंटर का निरक्षण करती परीक्षा की राज्य समन्वयक अमिता बाजपेई।

फैक्ट फाइल

डिप्टी नोडल सेंटर की संख्या: 76 (सभी जिलों में एक सेंटर, वाराणसी में BHU व MG कॉलेज में दो सेंटर बनाएं गए हैं)।

दो शिफ्ट में परीक्षा

मॉर्निंग शिफ्ट - 09 से 12 बजे तक।

दूसरी शिफ्ट - दोपहर 2 से 5 बजे तक।

स्टूडेंट्स व इनविजीलेटर रेश्यो: 1:25 (25 स्टूडेंट्स पर 1 नियंत्रक)।

प्रदेश में बीएड सीट की संख्या: 2 लाख 15 हजार (अनुमानित)।

यूपी में बीएड कराने वाले कुल कॉलेज: 2500।

खबरें और भी हैं...