• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Lucknow Deputy CM Brajesh Pathak Initiates Swasthya Apka, Sankalp Sarkar Ka Compaign Brijesh Pathak Will Take Feedback Of Treatment From Patients Of Five Districts, Will Select Patients At Random

डिप्टी सीएम ने मरीजों को किया फोन:पूछा- अस्पताल से दवा मिल रही है कि नहीं; तीमारदार के नहीं कहने पर बोले- मैं लखनऊ से भेजूंगा

लखनऊ7 महीने पहले

हेलो! मैं लखनऊ से ब्रजेश पाठक बोल रहा हूं। मुझे पता चला है कि आप हरदोई के जिला अस्पताल में भर्ती हैं। सही से इलाज तो मिल रहा है न? अस्पताल में जांच हो रही है और दवा भी मिल रही है कि नहीं? हरदोई के जिला अस्पताल में भर्ती रामरती के फोन पर जब डिप्टी सीएम का फोन आया, तो उनके दामाद ने बात की। दामाद ने बताया कि सासू मां को उल्टी दस्त और पेट दर्द की शिकायत पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टर ने मुफ्त इलाज मुहैया कराया। छुट्टी के समय सात दिन की दवा दी है। डॉक्टर और कर्मचारियों का बर्ताव भी ठीक रहा है।

इसी तरह एटा के राजपाल को जब डिप्टी सीएम ने फोन कर जिला अस्पताल में इलाज कराने में कोई अड़चन नहीं आई पूछा तो उन्होंने जवाब दिया कि पिता जी के दोनों गुर्दे खराब है। डॉक्टर ने डायलिसिस की सलाह दी है। अस्पताल में कुछ दवाएं तो मिली गई लेकिन गुर्दे की कुछ दवाई बाहर से लेनी पड़ी है। इस पर डिप्टी सीएम ने कहां कि आप परेशान मत हो मैं लखनऊ से दवा भेजूंगा।

खबर आगे भी है, उससे पहले भास्कर के पोल में अपनी राय दे सकते हैं...

दरअसल, डिप्टी सीएम और स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक मरीजों से डायरेक्ट फीडबैक ले रहे हैं। बुधवार को उन्होंने 'स्वास्थ्य आपका, संकल्प सरकार का' अभियान का शुभारंभ किया है। इसके बाद उन्होंने 5 मरीजों से बात की। यूपी में मरीजों से फीड बैक लेने की शुरुआत पहली बार हुई है।

यूपी के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक बुधवार को लोक भवन में 'स्वास्थ्य आपका, संकल्प सरकार का' अभियान के बारे में बताते हुए।
यूपी के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक बुधवार को लोक भवन में 'स्वास्थ्य आपका, संकल्प सरकार का' अभियान के बारे में बताते हुए।

स्वास्थ्य विभाग से मरीजों का रोज का ब्योरा मांगा
डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने बताया, ‘स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग के महानिदेशक से मरीजों का रोज का ब्योरा मांगा है। रोजाना प्रदेश के पांच जिलों के कुछ मरीजों से फोन पर इलाज का फीडबैक लिया जाएगा। इन मरीजों का चयन रैंडम तरीके से होगा। इसके बारे में पहले से किसी को पता नहीं होगा।’

ब्रजेश पाठक बोले- मरीजों की हर शिकायत होगी दूर
डिप्टी सीएम ने कहा, ‘मरीजों को बेहतर इलाज देने की दिशा में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। रोज मरीजों से बात करूंगा। इससे कमियों का आसानी से पता लगाया जा सकेगा। शिकायतों को दूर करने के प्रयास किए जाएंगे।’ उन्होंने बताया, ‘अस्पताल में मरीज परेशानी के हालत में आते हैं। अगर उन्हें अस्पताल में भी सुविधा और राहत नहीं मिली, तो सारे प्रयास बेमतलब होंगे। लिहाजा मरीजों का फीडबैक जरूरी है। शिकायत और सुझाव के आधार पर जरूरी सुधार किए जाएंगे। इससे स्वास्थ्य के ढांचे में सुधार होगा।’

डॉक्टर-कर्मचारी बेहतर काम कर रहे
डिप्टी सीएम ने कहा कि डॉक्टरों और कर्मचारियों के काम करने के तरीके में काफी सुधार देखने को मिल रहा है। लोहिया, KGMU, सिविल और प्रदेश के कई अस्पतालों का दौरा कर मरीजों से इलाज के बारे में जानकारी हासिल की। सभी ने डॉक्टरों और कर्मचारियों की मेहनत की तारीफ की है। जो भी खामियां थी, उन्हें दुरुस्त कराया जाएगा।

यह होगा एक्शन पॉइंट

  • रोगियों से डायरेक्ट फीडबैक लेकर गड़बड़ी करने वालों पर होगा एक्शन।
  • मरीजों से पूछा जाएगा कि भर्ती, मुफ्त दवा और जांच में कोई दिक्कत तो नहीं हो रही।
  • डॉक्टरों-कर्मचारियों का मरीज-तीमारदारों के प्रति व्यवहार कैसा है?
  • साफ-सफाई का क्या हाल है? कूलर, पंखे और AC की क्या स्थिति है?
  • ओपीडी पंजीकरण, ओपीडी में डॉक्टरों के बैठने का समय और वार्ड में राउंड लेने का समय क्या है?