बारिश ने खोली स्मार्ट सिटी के दावों की पोल:नाले और नालियां के चोक होने से सड़कों पर आया गंदा पानी, लखनऊ में नालों की सफाई के लिए नगर निगम ने जारी किया था 5 करोड़ का बजट

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ में नालों की सफाई में खर्च हुए करोड़ों रुपए बारिश के पानी मे बह गए। - Dainik Bhaskar
लखनऊ में नालों की सफाई में खर्च हुए करोड़ों रुपए बारिश के पानी मे बह गए।

लखनऊ नगर निगम बजट में इस बार नाला सफाई पर 5 करोड़ रुपए का बजट जारी किया गया था। दलील थी कि इससे नालों की सफाई बेहतर होगी। शहर में जलभराव नहीं होगा लेकिन इस सफाई व्यवस्था की पोल एक बारिश में खुल गई है। स्थिति यह है कि शहर में कोई ऐसा बड़ा या छोटा नाला नहीं है, जिसकी ठीक से सफाई की गई हो। यहीं कारण है बारिश में नालों का पानी सड़क पर आने लगा है। शक्ति नगर और सहारा एस्टेट के पास लोगों ने नाला टूटने की शिकायत दर्ज कराई गई है।

नहीं की गई थी ठीक से सफाई

मौलवीगंज वार्ड के पार्षद मुकेश सिंह मोंटी और इस्माईलगंज द्वितीय के पार्षद समीर पाल सोने ने बताया कि इस बार सफाई के नाम पर खानापूर्ति किया गया था। इसकी वजह से नाले पहले ही भर गए थे। अधिकारी और ठेकेदार की मिलीभगत से पांच करोड़ रुपए का घपला किया गया है।

छोटे नालों की सबसे ज्यादा अनदेखी

सफाई के मामले में सबसे ज्यादा खेल छोटे नालों में किया गया है। 1 हजार से ज्यादा नालों की सफाई ठीक से नहीं की गई है। इसको लेकर पार्षद अमित चौधरी, अमिता सिंह, दिलीप श्रीवास्तव, पंकज पटेल समेत कई पार्षद काम पर सवाल उठाते आए हैं। लेकिन उस समय ध्यान नहीं दिया गया। गुरुवार की बारिश के बाद एक बार फिर से भ्रष्टाचार का मामला सामने आ गया है।

नालों की संख्या

  • आरआर विभाग-तीन मीटर से ऊपर-83
  • अभियंत्रण विभाग-एक से तीन मीटर तक-456
  • स्वास्थ्य विभाग-एक मीटर से कम-1063
खबरें और भी हैं...