पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लखनऊ गोमती रिवर फ्रंट घोटाला:सिंचाई विभाग के पूर्व चीफ इंजीनियर व क्लर्क को CBI ने किया अरेस्ट; 3 साल की जांच में पहली और बड़ी कार्रवाई

लखनऊ12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गोमती रिवर फ्रंट। इस मामले में सिंचाई विभाग की तरफ से साल 2017 में 19 जून को गोमतीनगर थाने में 8 इंजीनियर्स के खिलाफ FIR दर्ज करवाई गई थी।
  • दोनों आरोपी 24 नवंबर तक रिमांड पर रहेंगे, कोर्ट ने CBI को दी मंजूरी
  • पूर्व की सपा सरकार में गोमती नदी पर रिवर फ्रंट बनाया गया था
  • CBI जल्द ही कई अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर सकती है

पूर्व की समाजवादी पार्टी की सरकार के कार्यकाल में सिंचाई विभाग के चीफ इंजीनियर रहे रुप सिंह यादव और क्लर्क राजकुमार यादव को CBI ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। दोनों लखनऊ में गोमती नदी पर बने रिवर फ्रंट में हुए घोटाले में आरोपी हैं। बीते तीन साल में यह पहली गिरफ्तारी है। दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश करने के बाद रिमांड की अर्जी दाखिल की गई। कोर्ट ने 24 नवंबर तक की रिमांड CBI को दी है। जल्द ही इस घोटाले के अन्य आरोपियों की भी गिरफ्तारी संभव है।

2017 में दर्ज हुआ था मुकदमा

गोमती रिवर फ्रंट के लिए सपा सरकार ने 1,513 करोड़ रुपए स्वीकृत किए थे, जिसमें से 1437 करोड़ रुपए जारी होने के बाद भी मात्र 60 फीसदी काम ही हुआ। 95 फीसदी बजट जारी होने के बाद भी 40 फीसदी काम अधूरा ही रहा। आरोप है कि डिफाल्टर कंपनी को ठेका देने के लिए टेंडर की शर्तों में बदलाव किया गया था। पूरे प्रोजेक्ट में करीब 800 टेंडर निकाले गए थे, जिसका अधिकार चीफ इंजीनियर को दे दिया गया था।

योगी सरकार ने घोटाले की जांच के लिए हाईकोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस आलोक सिंह की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई थी। कमेटी की रिपोर्ट पर ही इस प्रकरण में एक्शन शुरू हुआ था। दिसंबर 2017 में रिवर फ्रंट घोटाले में CBI ने FIR दर्ज की थी। यह FIR एक्सईएन रूप सिंह यादव, सुरेंद्र सिंह यादव, मुख्य अभियंता काजिम अली, शिव मंगल यादव, अधीक्षण अभियंता कमलेश्वर सिंह और तत्कालीन मुख्य अभियंता गुलेस चंद समेत 8 लोगों के खिलाफ हुई थी। CBI ने जिन 8 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की है, उनमें से 7 लोग विभाग से रिटायर्ड हो चुके हैं। इन सभी लोगों के खिलाफ अधिशाषी अभिवित्तीय अनियमितता और कथित भ्रष्टाचार के धाराओं में केस दर्ज हुआ था।

गोमती रिवर फ्रंट प्रोजेक्ट में घोटाले की जांच CBI से करवाने की सिफारिश योगी सरकार ने 2017 जुलाई में की थी। सिफारिश में न्यायिक जांच समिति की रिपोर्ट, गोमतीनगर थाने में दर्ज FIR की कॉपी व अन्य दस्तावेज भी प्रारूप के साथ भेजे गए थे।

कई बड़ों पर भी आ सकती आंच
इस मामले में सिंचाई विभाग की तरफ से साल 2017 में 19 जून को गोमतीनगर थाने में 8 इंजीनियर्स के खिलाफ FIR दर्ज करवाई गई थी। सूत्रों की मानें तो तत्कालीन सिंचाई मंत्री शिवपाल सिंह यादव, मुख्य सचिव आलोक रंजन, तत्कालीन प्रमुख सचिव वित्त राहुल भटनागर, प्रमुख सचिव सिंचाई दीपक सिंघल, शिवपाल के करीबी अधिशासी अभियंता रूप सिंह यादव समेत कई बड़ों पर जांच की आंच आ सकती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें