भर्ती के नाम पर ठगी कर रहा था पूर्व सैनिक:लखनऊ STF ने तीन जालसाजों को गिरफ्तार किया, लाखों रुपए की ठगी कुबूल किए

लखनऊ10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सेना के असम राइफल्स रेजिमेंट का पूर्व सैनिक गुरुवार को लखनऊ से गिरफ्तार किया गया है। वह दो अन्य साथियों के साथ मिलकर सेना में भर्तियां करवाने के नाम पर ठगी कर रहा था। STF ने तीनों को गोमतीनगर से पकड़ा है।

जोधपुर राजस्थान के रहने वाले नारायण सिंह ने 17 नवम्बर को STF मुख्यालय पहुँचे। उन्होंने बताया की उनके बेटे धर्मेंद्र को सेना में भर्ती कराने के नाम पर उनसे एक लाख रुपये ठग लिए गए। जालसाजों ने उन्हें बेटे के सर्टिफिकेट और अन्य कागजात लेकर लखनऊ बुलाया था। यहाँ कैंट इलाके में बातचीत के बाद उनसे रुपये लिए गए थे। STF ने छानबीन शुरू की तो फिरोजाबाद निवासी सर्वेश कुमार के बारे में जानकारी हुई। गुरुवार को सर्वेश अपने दो साथियों के साथ किसी काम से लखनऊ आया था। यहां गोमतीनगर मनोज पांडेय चौराहे से पकड़ लिया गया।

सेना की नौकरी छोड़कर बन गया ठग, आधा दर्जन लोगों से ठगी कुबूला

एडीजी STF अमिताभ यस ने बताया कि सर्वेश कुमार ने पूछताछ पर बताया कि 16 नवम्बर को अपने साथी हरी सिंह के साथ अपनी बुलेरो गाड़ी नं०-यूपी-83 बीबी 0790 से लखनऊ सेण्टर आया था। गाड़ी का चालक हरेन्द्र यादव है। यही पर नारायण सिंह से मुलाकात हुई। वह अपने लड़के को सेन्टर के अंदर भर्ती कराने के लिए लाया था। उसका बेटा सेण्टर के अन्दर था। नारायण सिंह सेण्टर के बाहर खड़े थे। मेरे द्वारा नारायण सिंह से भर्ती के सम्बन्ध में बातचीत की जा रही थी, उसी दौरान चालक हरेन्द्र बोलेरो खड़ी करके हरी सिंह के साथ आ गया। नारायण सिंह से आर्मी में भर्ती कराने के लिए मेरे जानने वाले हिमांशु के खाते में दो लाख रुपये जमा करने की बात तय हुई। तब नारायण सिंह ने अपने पुत्र धर्मेन्द्र के कागज दिये। भर्ती का आश्वासन मिलने पर नारायण सिंह ने हिमांशु बैंक खाता में एक लाख रूपया ट्रान्सफर कर दिये। हिमांशु यह काम 2 प्रतिशत कमीशन पर करता है। उसने बताया कि 2005 में एएमसी सेन्टर असम रायफल डोगरा रेजीमेंट सेन्टर फैजाबाद (अयोध्या) में भर्ती हुआ था। 2011 में अवकाश पर घर आया और बीमार हो गया। उसके बाद वापस नौकरी पर नहीं गया। फौज ने केस किया जिसके बाद पहचान पत्र आर्मी को डाक से भेज दिया था। जिसकी कलर फोटो बनवा ली थी, जिसका इस्तेमाल असली के रूप में करता था। लोगों को फौज का परिचय पत्र दिखाकर विश्वास में ले लेता था। उसने करीब आधा दर्जन लोगों से लाखों रुपये ठगने की बात स्वीकार की है।

आरोपियों का विवरण

-सर्वेश कुमार, निवासी ग्राम नगला डम्बर थाना एका फिरोजाबाद।

-हरी सिंह, निवासी ग्राम नगला डम्बर थाना एका फिरोजाबाद।

हरेन्द्र यादव, निवासी ग्राम नगला बावन थाना एका फिरोजाबाद।

खबरें और भी हैं...