• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Lucknow The Critical Patient Of Ayodhya Did Not Get Ventilator In The Trauma Center, The Attendant Arrived With The Private Hospital, Did Not Save His Life At The Cost Of More Than One Lakh

KGMU में मरीज को नही मिला वैंटिलेटर, हुई मौत:अयोध्या के गंभीर रोगी को ट्रामा सेंटर में नही मिला वैंटिलेटर, तीमारदार निजी अस्पताल लेकर पहुंचे,एक लाख से ऊपर हुए खर्च पर नही बची जान

लखनऊएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ में दम तोड़ती स्वास्थ्य व्यवस्था - प्रतीकात्मक चित्र - Dainik Bhaskar
लखनऊ में दम तोड़ती स्वास्थ्य व्यवस्था - प्रतीकात्मक चित्र

राजधानी लखनऊ में चिकित्सा व्यवस्था सुधरने का नाम ही नही ले रही। वैंटिलेटर के अभाव में मौत होने का सिलसिला जारी है, वही निजी अस्पताल भी मौके का फायदा उठाकर गरीब मरीजों का चूना लगाने में पीछे नही है। मामला अयोध्या के मरीज से जुड़ा है। जहां गंभीर हालत में जिला अस्पताल से KGMU भेजे गए मरीज को चिकित्सा विश्वविद्यालय में वैंटिलेटर न मिलने से तीमारदार निजी अस्पताल ले जाने को मजबूर हुए पर दो दिन के अंदर ही उन्हें लाखों का बिल थमा दिया गया। इधर एक बार फिर वैंटिलेटर की आस में तीमारदार मरीज को लेकर ट्रामा सेंटर पहुंचे, पर वैंटिलेटर नही मिला और मंगलवार सुबह मरीज ने दम तोड़ दिया।

नही मिला वैंटिलेटर -

दरअसल अयोध्या निवासी 28 वर्षीय हितेश को जिला अस्पताल से केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर भेजा गया था। मरीज को वैंटिलेटर की जरूरत थी। परिजन मरीज को लेकर केजीएमयू गए। वहां पर वैंटिलेटर खाली नहीं मिला। इसी बीच एंबुलेंस दलाल ने मरीज को राजा बाजार स्थित यूनाइटेट हॉस्पिटल एंड ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करा दिया। निजी अस्पताल ने भर्ती दौरान तीमारदारों से महज दो दिन में करीब सवा लाख रुपए बिल वसूले जाने का आरोप लगया। इस बीच पैसे खत्म होने पर पुनः परिजन मरीज को KGMU लेकर पहुंचे पर होर्डिंग एरिया में लगे सभी वैंटिलेटर भरे थे। ऐसे में मरीज को यहां शिफ्ट नहीं कराया जा सका। इस बीच बिगड़ती तबियत देख परिजन दोबारा से एक दूसरे निजी अस्पताल ले गए। पर मंगलवार सुबह इलाज दौरान मरीज की मौत हो गई। वही परिजनों ने निजी अस्पताल पर वैंटिलेटर के नाम पर मोटी रकम वसूले जाने का आरोप लगाते हुए हैं प्रकरण की शिकायत सीएम से की है।

क्या बोले जिम्मेदार -

वही पूरे मामले पर लखनऊ सीएमओ से बात की गई तो उन्होंने बताया की गई तो डॉ. मनोज अग्रवाल ने बताया कि मामले की जांच कराई जाएगी। दोषियों लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वही निजी अस्पताल यूनाइटेड हॉस्पिटल एंड ट्रॉमा सेंटर के संचालक भूपेंद्र ने बताया कि तीमारदारों के आरोप बेबुनियाद है। वैंटिलेटर के नाम पर कोई अधिक शुल्क नहीं लिया गया है।

खबरें और भी हैं...