पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लखनऊ कमिश्नरेट का नाका पुलिस को नोटिस:माफिया बबलू श्रीवास्तव गैंग के दो गुर्गों को संरक्षण देने का आरोप, क्राइम ब्रांच ने 6 पॉइंट पर मांगा जवाब

लखनऊ14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नाका इंस्पेक्टर मनोज कुमार मिश्रा का कहना है कि दोनों के खिलाफ काफी पुराने केस दर्ज हैं और वह जेल में हैं। क्राइम ब्रांच की नोटिस का जवाब दे दिया गया है। - Dainik Bhaskar
नाका इंस्पेक्टर मनोज कुमार मिश्रा का कहना है कि दोनों के खिलाफ काफी पुराने केस दर्ज हैं और वह जेल में हैं। क्राइम ब्रांच की नोटिस का जवाब दे दिया गया है।

लखनऊ में खौफ का पर्याय बने रहे माफिया बबलू श्रीवास्तव के गैंग के दो सदस्यों की संपत्ति जब्त करने का निर्देश अधिकारी कई महीने से दे रहे हैं। लेकिन नाका कोतवाली पुलिस कार्रवाई करने की बजाय जेल में बंद इन अपराधियों को संरक्षण दे रही थी। लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच ने नाका पुलिस को कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

लखनऊ पुलिस की अपराध शाखा की तरफ से नाका इंस्पेक्टर को भेजी गई नोटिस में कहा गया है कि बार बार उच्चाधिकारियों के निर्देश के बावजूद बरेली जेल में बंद अपराधी मंजीत सिंह उर्फ मंगे और सरदार बृजेन्द्र राय के खिलाफ गैंगेस्टर की कार्रवाई कर उनकी सम्पत्ति अभी तक क्यों नही जब्त की गयी। नाका इंस्पेक्टर मनोज कुमार मिश्रा का कहना है कि दोनों के खिलाफ काफी पुराने केस दर्ज हैं और वह जेल में हैं। क्राइम ब्रांच की नोटिस का जवाब दे दिया गया है।

क्राइम ब्रांच की नोटिस में इस तरह जताई गई नाराजगी

अवगत कराना है कि शासन एवं पुलिस मुख्यालय द्वारा प्रदेश से चिन्हित माफिया अपराधी एवं उनके गैंग के सदस्यों, सहयोगियों के विरुद्ध कार्यवाही पूर्ण न होने के कारण उच्चाधिकारियों द्वारा बार-बार नाराजगी व्यक्त करने के बावजूद उक्त अपराधियों के विरुद्ध कार्यवाही के सम्बन्ध में आप द्वारा बरती गयी लापरवाही से यह स्पष्ट है कि आप अपने पदीय कार्य का निर्वहन न करके कर्तव्य के प्रति उदासीन हैं। अतः आपको निर्देशित किया जाता है कि निम्नलिखित अपराधियों के बारे में मांगी जा रही जानकारी तत्काल उपलब्ध कराएं।

1-मंजीत सिंह उर्फ मुंगे पुत्र राजेन्द्र सिंह निवासी 228 / 152 आर्य नगर खोया मण्डी थाना नाका।

2-सरदार बृजेन्द्र राय उर्फ का पुत्र जगजीत सिंह निवासी चूहड़ सिंह कालोनी पानदरीबा थाना नाका।

यह जानकारियां मांगी गई

  • आपराधिक इतिहास
  • इनके खिलाफ दर्ज मामलों की वर्तमान स्थिति
  • हिस्ट्रीशीटर की कार्यवाही हुई हो तो हिस्ट्रीशीट संख्या और अगर नहीं हुई है, तो अब तक क्यों नहीं की गई
  • अपराध कारित कर अर्जित की गयी सम्पत्ति को गैंगेस्टर अधिनियम की धारा 14 (1) के अन्तर्गत जब्तीकरण की कार्यवाही क्यों नहीं की गई
  • शस्त्र लाइसेन्स धारक है या नहीं
  • अपराधी की वर्तमान स्थिति यदि जेल में है तो पूर्ण विवरण यदि जमानत पर है, तो जमानत निरस्त कराकर जेल रवाना कराएं। यदि लापता या फरार हो तो जमानतदारों के विरुद्ध कार्यवाही कराएं।
खबरें और भी हैं...