UP में ब्लॉक प्रमुख चुनाव पर घमासान:अखिलेश बोले- गुंडों के साथ खड़े होने वाले अफसरों की बन रही सूची; मायावती ने कहा- सत्ता और धनबल के दुरुपयोग ने सपा की याद दिला दी

लखनऊ4 महीने पहले

उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के नामांकन में गुरुवार को 16 जिलों में जमकर बवाल हुआ। इसको लेकर भाजपा सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है। शुक्रवार को अखिलेश यादव ने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि ब्लॉक प्रमुख चुनाव में प्रशासन गुंडों के साथ खड़ा है। महिलाओं का अपमान किया गया। भाजपा ने गुंडों को छूट दे रखी है। अफसरों ने मोबाइल बंद किया था। ऐसे अफसरों की सपा सूची बना रही है।

अखिलेश बोले- मुख्यमंत्री के इशारे पर हिंसा
अखिलेश यादव ने सवाल पूछा कि आखिर कौन से लोग हैं जो हिम्मत बढ़ा रहे हैं, जो गुंडों के बल पर नामांकन नहीं करने दे रहे हैं? प्रयागराज की महिला के पूरे परिवार के साथ हम खड़े हैं, भाजपा पार्टी जो चाल चरित्र चेहरे की बात करती है, उसका नकाब उतर गया। महिला का पर्स चोरी हुआ है। अपमान किया गया है। यह पूरा कांड मुख्यमंत्रीजी के इशारे पर हुआ है। मुख्यमंत्रीजी उत्तर प्रदेश में कुछ गुंडों को बढ़ावा दे रहे हैं। आने वाले चुनाव में उत्तर प्रदेश की जनता इनको सबक सिखाएगी।

अखिलेश यादव ने कहा, मैंने पूर्व विधानसभा माता प्रसाद पांडेय से बात की। उन्हें अपमानित किया गया। माता प्रसाद नामांकन नहीं कर पाए। समाजवादी पार्टी ने विकास करके दिखाया है। भाजपा के मुख्यमंत्री के पास बताने के लिए कुछ काम नहीं है, केवल अपनी ताकत से गिनती बढ़ाना चाहते हैं। जिला पंचायत जनता ने हरा दिया। ब्लॉक प्रमुख चुनाव में हिंसा, धांधली को लेकर 11 जुलाई को सपा का पूरे प्रदेश में प्रदर्शन करेगी। कार्यकर्ता राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन सौंपेंगे। सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर प्रदर्शन होगा।

मायावती ने कहा- सपा अब तक निष्क्रिय क्यों?
वहीं, बसपा अध्यक्ष मायावती ने सपा के शासनकाल को जिक्र करते हुए योगी सरकार पर हमला किया। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा- यूपी पंचायत चुनाव में भाजपा के द्वारा पहले जिला पंचायत अध्यक्ष व ब्लाक प्रमुख के चुनाव के दौरान सत्ता व धनबल का दुरुपयोग किया जा रहा है। यह हिंसा सपा शासनकाल की यादों को ताजा करती है। इसीलिए बसपा ने इन दोनों (पंचायत और ब्लॉक प्रमुख) अप्रत्यक्ष चुनाव को नहीं लड़ने का फैसला लिया।

...और क्या कहा?

  • अब यूपी विधानसभा का चुनाव निकट है। तब भाजपा सरकार के खिलाफ सपा जो जुबानी विरोध व आक्रामकता दिखा रही है। वह छलावा व अविश्वसनीय है। क्योंकि, इन्हीं सब सत्ता के दुरुपयोग व हर कीमत पर चुनाव जीतने के लिए सपा का पूरा शासनकाल चर्चाओं में रहा है। जनता कुछ भी नहीं भूली।
  • साथ ही, बात-बात पर 'हल्लाबोल’ के तेवर वाली सपा यहां के गरीबों, किसानों व बेरोजगारों के अधिकारों और दलितों, पिछड़ों व मुस्लिम समाज के ऊपर यहां लगातार हो रहे अन्याय-अत्याचार व हिंसा पर अभी तक निष्क्रिय क्यों रही है? यह भी सोचने की बात है।
सीतापुर में गुरुवार को जमकर हिंसा हुई थी।
सीतापुर में गुरुवार को जमकर हिंसा हुई थी।

मायावती के बयान पर अखिलेश का पलटवार
मायावती के बयान पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा- मैं मायावती के बयान पर कुछ नहीं कहना चाहता हूं। जमीन पर कौन काम कर रहा है? समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर कितने मुकदमे दर्ज किए गए। कितने धरना दिए जा रहे हैं। पुलिस कितने गलत व्यवहार कर रही है। मकान गिराए जा रहे हैं, समाजवादी पार्टी नेता हर मुद्दे पर संघर्ष कर रहे हैं।

विपक्ष हमलावार हुआ तो योगी ने दिखाई सख्ती
गुरुवार को नामांकन के दौरान हुए बवाल पर मुख्यमंत्री योगी ने कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने शुक्रवार को टीम-9 के साथ बैठक में जिम्मेदार अधिकारियों और माहौल बिगाड़ने पर कठोर कार्रवाई का निर्देश दिया है। कहा, कई जिलों में अप्रिय घटनाएं हुई हैं। किसी भी दशा में माहौल खराब करने की एक भी कोशिश स्वीकार नहीं की जाएगी।

केशव ने माया-अखिलेश पर साधा निशाना
मायावती और अखिलेश यादव के बयान पर यूपी के डिप्टी CM केशव प्रसाद मौर्य ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा, मायावती ज्ञान न दें, अपनी पार्टी देखें। वहीं, अखिलेश यादव को नसीहत देते हुए कि सपा अपने कार्यकाल का तांडव याद करें। शांतिपूर्ण, निष्पक्ष तरीके से चुनाव कराए गए। यूपी में भाजपा की सरकार बनने जा रही है। 300 से अधिक सीट जीतकर सरकार बनाएंगे।

इन 16 जिलों में हुई थी अराजकता
उत्तर प्रदेश के सभी 75 जिलों में गुरुवार को ब्लॉक प्रमुख चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया पूरी हुई। इस दौरान कन्रौज, सीतापुर, बुलंदशहर, पीलीभीत, झांसी, उन्नाव, अयोध्या, बस्ती, गोरखपुर, सम्भल, चित्रकूट, जालौन, फतेहपुर, एटा, अंबेडकर नगर, महराजगंज में अराजकता, गुंडागर्दी, धांधली, मारपीट, फायरिंग और लूटपाट की घटनाएं हुईं। कई जिलों में बवाल इतना हुआ कि पुलिस पीछे हो गई और प्रत्याशी के समर्थकों ने एक-दूसरे पर फायरिंग करते हुए लाठी-डंडों से हमला किया।

खबरें और भी हैं...