• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Mayawati's Big Announcement, Told Election Strategy, Mayawati Said That Shiromani Akali Dal & BSP Will Form Next Government In Punjab Election.

दलबदलू नेताओं से प्रदेश का भला नहीं, मायावती बोलीं:कहा- यूपी में आयाराम-गयाराम से कुछ नहीं होगा, स्वार्थी नेता किसी काम के नहीं

लखनऊ5 महीने पहले
मायावती ने विपक्ष पर तंज कसा-फाइल फोटो

बसपा प्रमुख मायावती ने मंगलवार को विपक्ष पर जमकर हमला किया। एक निजी चैनल से बातचीत में कहा कि यूपी में आया राम-गया राम से कुछ नहीं होने वाला हैं। मायावती ने पार्टी छोड़ दूसरे दलों में शामिल होने वाले नेताओं पर तंज कसा। कहा कि इससे किसी भी दल का फायदा नहीं होने वाला है। सपा को घेरते हुए बहनजी ने कहा कि जो दल इस गलतफहमी में है कि ऐसे दल-बदलू नेताओं से उनका भला हो सकता है तो उन्हें समझना होगा कि ऐसे स्वार्थी और निष्क्रिय नेताओं को शामिल कराने से उनका बेड़ा पार नहीं होगा। उनका जनाधार नहीं बढ़ेगा।

पंजाब की आवाज है अकाली दल
बसपा प्रमुख मायावती ने शिरोमणि अकाली दल के 100 साल पूरे होने पर बधाई दी। इस मौके पर मायावती ने पार्टी प्रमुख प्रकाश सिंह बादल, पुत्र सतवीर सिंह बादल और शिरोमणि अकाली दल से बसपा के रिश्तों को भी याद किया। मायावती ने कहा कि अकाली दल 100 साल से समाज की सेवा कर रही है। मायावती ने कहा कि पंजाब का मेरे ह्रदय में विशेष स्थान है। पंजाब मान्यवर काशी राम की जन्म स्थली है। बसपा के संस्थापक कांशीराम का प्रकाश सिंह बादल से अच्छे संबंध को पूरा पंजाब जानता है। बसपा कांशीराम के सपनों को साकार करने में जुटी है।

मायावती ने कहा कि चुनावी दौर में पार्टी जो शिलान्यास और उद्घाटन से जनता का फायदा नहीं होता
मायावती ने कहा कि चुनावी दौर में पार्टी जो शिलान्यास और उद्घाटन से जनता का फायदा नहीं होता

कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया था
मायावती ने कहा कि सतवीर सिंह के साथ गठबंधन में पंजाब में सरकार बनेगी। सतवीर सिंह को अपने पिता प्रकाश सिंह बादल का आशीर्वाद है। 1996 में बसपा और शिरोमणि अकाली दल के नेतृत्व में बड़ी जीत दर्ज कर कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया था। एक बार फिर पंजाब में अकाली दल-बसपा गठबंधन की सरकार बनेगी।

चुनावी वक्त में शिलान्यास-उद्घाटन से जनता का भला नहीं होने वाला
मायावती ने भाजपा पर प्रहार करते हुए कहा कि चुनावी दौर में शिलान्यास और उद्घाटन से जनता का फायदा नहीं होता। जनता इस बात को बखूबी जानती है। ऐसे कार्यक्रमों को इवेंट बनाकर भीड़ इकट्ठा करने से कोई बड़ा चुनावी फायदा नहीं होने वाला। कहा कि एक सीट पर कई-कई उम्मीदवारों को टिकट का भरोसा देकर भीड़ इकट्ठी करने से भी ऐसे सियासी दलों का भला नहीं होगा। जनता इस बात को बखूबी जानती है।