पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना वैक्सीनेशन पर मेनका गांधी का बड़ा बयान:पल्स पोलियो के समय माइनॉरिटी के गांवों ने किया था विरोध, वैक्सीनेशन लंबा खिंचा, अब ऐसा न करें,  कोरोना की न कोई जाति है न क्लास

सुल्तानपुर8 दिन पहले
सिविल अस्पताल में स्वास्थ्य व्यवस्थाओं पर मीटिंग करतीं सांसद।

उत्तर प्रदेश की सुल्तानपुर से भाजपा सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने कोरोना वैक्सीनेशन पर बड़ा बयान दिया है। अपने संसदीय क्षेत्र के 4 दिवसीय दौरे पर पहुंची मेनका गांधी ने कहा है कि पल्स पोलियो टीकाकरण के समय माइनॉरिटी के गांवों ने इसका विरोध किया था। इसलिए जो काम चार साल में हो सकता था वह खिंचता चला गया और पल्स पोलियो अभियान लंबे समय तक चला। यही हाल कोरोना वैक्सीन को लेकर हो रहा है। उन्होंने आगे कहा कि सबको समझना चाहिए कि इस बीमारी की न कोई जाति है़ न कोई क्लास। ये सबको हो जाएगी जिसने भी वैक्सीनेशन में देर कर दी। इसलिए हर किसी को प्राथमिका के आधार पर वैक्सीन लगवानी चाहिए।

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर समीक्षा

उन्होंने ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस को लेकर कहा कि फिलहाल ये यहां नहीं है। लेकिन ये बहुत खतरनाक चीज है़। इसके बारे में मैंने तीन साल पहले लिखा भी था कि ये हिंदुस्तान आएगा। मेरी राय है़ कि जिस कमरे में गलती से आ जाए तो उस कमरे को टार्च करने की जरूरत है़। मेनका गांधी ने कोरोना की तीसरी लहर में स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों को लेकर डीएम रवीश गुप्ता, सीएमओ और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ साथ जिला अस्पताल में समीक्षा बैठक की। इस दौरान मेनका गांधी ने जिला अस्पताल में लगे आक्सीजन प्लांट और बच्चों के वार्ड का निरीक्षण किया। मेनका गांधी ने अस्पताल के डॉक्टरों और सीएमओ से ब्लैक फंगस और वाइट फंगस की बीमारी पर भी चर्चा की।

काम न करने वाले डॉक्टर्स पर कार्रवाई के निर्देश

कोविड के दौरान जिला अस्पताल में ड्यूटी न करने वाले डॉक्टरों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए सीएमओ को निर्देश दिया। मेनका गांधी ने बताया की जिला अस्पताल में कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सभी तैयारी पूरी हैं। बच्चों के लिए विशेष रूप से एक हाईटेक वार्ड बना दिया गया है। मेनका गांधी 4 दिवसीय दौरे पर सुल्तानपुर आई हुई हैं।

खबरें और भी हैं...