माफिया से सरकार लेगी पाई-पाई का हिसाब:मुख्तार अंसारी के खिलाफ मनी लांड्रिंग का भी केस दर्ज, ED की प्रयागराज यूनिट ने की कार्रवाई; बेटों की संपत्तियों की भी होगी जांच

लखनऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्तार के अलावा ईडी उनके दोनों बेटों अब्बास, उमर की संपत्तियों को लेकर भी जांच शुरू कर रही है।(मुख्तार अंसारी की फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
मुख्तार के अलावा ईडी उनके दोनों बेटों अब्बास, उमर की संपत्तियों को लेकर भी जांच शुरू कर रही है।(मुख्तार अंसारी की फाइल फोटो)

मऊ से विधायक और पूर्वांचल के माफिया बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। बीते गुरुवार को मुख्तार के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉड्रिंग का मुकदमा दर्ज कर लिया है। ईडी की प्रयागराज यूनिट में दर्ज मुकदमे में करोड़ों की अवैध संपत्ति अर्जित करने को आधार बनाया गया है। मुख्तार के अलावा ईडी उनके दोनों बेटों अब्बास, उमर और करीबी बृजनाथ यादव, संजय सागर व आनंद की संपत्तियों को लेकर भी जांच शुरू कर रही है।

ED का मानना है कि 49 मुकदमों की जांच में पुलिस ने मुख्तार अंसारी और गैंग की अवैध संपत्ति का जो आंकलन किया है। वह बहुत कम है। मुख्तार अंसारी, उनके परिवार के लोगों और गैंग के सदस्यों के पास करोड़ों की संपत्ति है, जो अवैध तरीके से बनाई गई है। ED ने करोड़ों की नामी-बेनामी अवैध संपत्ति का पता लगाकर कार्रवाई करने के लिए केस दर्ज किया है। अब ED की टीम बांदा जेल जाकर मुख्तार का बयान दर्ज करेगी।

पुलिस रिपोर्ट के आधार पर ED ने तैयार किया डोजियर
पूर्वांचल के माफिया व मऊ सदर से विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ ED ने डोजियर भी तैयार किया है। मुख्तार अंसारी पर मनी लॉड्रिंग की रिपोर्ट दर्ज करने वाली ED टीम ने लिखा है कि मुख्तार ने विकास कांस्ट्रक्शन कंपनी बनाकर करोड़ों की घपलेबाजी की है। मऊ के दक्षिण टोला में ग्राम सभा की जमीन कब्जा कर अनुसूचित जाति-जनजाति के लोगों की जमीन हड़पकर उसे एफसीआई गोदाम के लिए किराए पर दिया था। इसका लगातार सात साल तक एक करोड़ आठ लाख रुपए सालाना किराया वसूला था। इसके अलावा मुख्तार पर विधायक निधि के 25 लाख रुपए के घालमेल को केस आधार बनाया गया है। आरोप है कि मुख्तार अंसारी ने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर निधि से रुपए निकाले। सरांय लखनसिंह मऊ के एक स्कूल में निर्माण के फर्जी दस्तावेज लगाए जबकि निर्माण कार्य हुआ ही नहीं। मुख्तार ने विधायक निधि से इस स्कूल को अनुदान दिया था।

परिवार के सदस्यों के नाम की संपत्तियों की भी जांच
पुलिस रिपोर्ट के आधार पर ED ने जो डोजियर तैयार किया है, उसमें मुख्तार अंसारी की मां राबिया बेगम के नाम कई करोड़ की संपत्ति का जिक्र है। इसी तरह उनकी पत्नी अशफा अंसारी के पास लाखों के गहने, गाड़ी, रिवॉल्वर का भी जिक्र किया गया है। ED ने उनके बेटों और करीबियों की संपत्ति को खंगालना शुरू कर दिया है।

कई प्रदेशों समेत नेपाल तक फैला है मुख्तार का नेटवर्क
पुलिस की जिस रिपोर्ट के आधार पर ED यह कार्रवाई कर रही है, उसमें मुख्तार अंसारी का नेटवर्क कई राज्यों के अलावा नेपाल तक फैला होने की जानकारी है। ED मुख्तार और नेपाल तक सक्रिय उनके गैंग के 22 सदस्यों की संपत्ति खंगालेगी। इससे पहले अहमदाबाद जेल में बंद पूर्व सांसद अतीक अहमद के खिलाफ ईडी ने मुकदमा दर्ज किया था। इसी तरह विधायक विजय मिश्र के खिलाफ भी मनी लॉडिंग का मुकदमा दर्ज कर ED जांच आगे बढ़ा रही है।

खबरें और भी हैं...