• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Most Of The Patients Arriving In OPD Have Fever And Cold cough, Difficulty In Breathing Too… Covid Report Negative… Doctor Is Saying Viral Fever

यूपी में बुखार की पड़ताल...15 शहरों की ग्राउंड रिपोर्ट:अस्पतालों की OPD में पहुंचने वाले ज्यादातर मरीज बुखार और सर्दी-खांसी के, कुछ को सांस लेने में भी तकलीफ

लखनऊ3 महीने पहले

उत्तर प्रदेश के शहरों में बुखार से हाहाकार मचा है। हर शहर में अस्पताल की OPD में पहुंचने वाले आधे मरीज बुखार और सर्दी-खांसी के हैं। इनका कोविड टेस्ट निगेटिव है। डॉक्टर इसे वायरल फीवर मान रहे हैं। कुछ शहरों में मरीज सांस लेने में भी तकलीफ बता रहे हैं। लखनऊ सहित कई शहरों में फीवर वार्ड बनाए जा रहे हैं। भर्ती मरीजों में भी ज्यादातर बुखार वाले हैं। उत्तरप्रदेश में बढ़ती इस बीमारी के रहस्य को समझने के लिए केंद्र सरकार ने भी अपनी टीम भेजी है।

दैनिक भास्कर के 15 रिपोर्टर्स ने सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक अलग-अलग शहरों के जिला अस्पतालों की ओपीडी की तस्वीर देखी। यहां बुखार के हालात डराने वाले हैं। वाराणसी, फिरोजाबाद में डेंगू के मरीज बढ़े हैं। गोरखपुर में इंसेफेलाइटिस और टायफाइड भी बढ़ रहा है।

पढ़िए ... 15 जिलों से बुखार की ग्राउंड रिपोर्ट-

फिरोजाबाद: 77 मौतों के बाद भी नहीं बदले हालात

  • अब तक 77 बच्चे और युवाओं की मौत हो चुकी है। 250 बच्चे अस्पताल में भर्ती हैं। जांच के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। कई घंटे इंतजार करने के बाद भी उन्हें रिपोर्ट नहीं मिल पा रही है।
  • शहर के कश्मीरी गेट इलाके में रहने वालीं मां खुर्शीदा अपनी 2 साल की बेटी अल्सिफा को दिखाने के लिए जिला अस्पताल के बाल रोग विभाग में पहुंची थीं। उन्होंने बताया कि वह सुबह 7 बजे आ गई थीं, लेकिन साढ़े 8 बजे तक डॉक्टर नहीं आए थे। मैनपुरी में महीने भर में 20 मौतें हो चुकी हैं। यहां ओपीडी में अब भी भीड़ है।

लखनऊ: सिविल अस्पताल OPD में रोज 4 हजार मरीज, 2 हजार से ज्यादा बुखार के

लखनऊ के सिविल अस्पताल में रोज 5 हजार मरीज ओपीडी में पहुंच रहे हैं। सीएमओ डॉ. मनोज अग्रवाल ने बताया कि शहर के सभी बड़े अस्पतालों में 20 बेड के फीवर वार्ड बनाए जा रहे हैं।
लखनऊ के सिविल अस्पताल में रोज 5 हजार मरीज ओपीडी में पहुंच रहे हैं। सीएमओ डॉ. मनोज अग्रवाल ने बताया कि शहर के सभी बड़े अस्पतालों में 20 बेड के फीवर वार्ड बनाए जा रहे हैं।
  • लखनऊ के डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल अस्पताल में रोजाना 5 हजार मरीज ओपीडी में पहुंच रहे हैं। काउंटर में लंबी कतार है। यहां आए महेंद्र पांडे का पूरा परिवार सर्दी खांसी- बुखार से पीड़ित है। वहीं, एक और मरीज अमित सिंह का कहना है कि 4 दिन से बुखार नहीं उतर रहा है।

कानपुर: हैलट में 120 बच्चों की क्षमता वाले वार्ड में 184 बच्चे भर्ती

हैलट के PICU में 120 बच्चों की क्षमता वाले वार्ड में 184 बच्चे भर्ती हैं।
हैलट के PICU में 120 बच्चों की क्षमता वाले वार्ड में 184 बच्चे भर्ती हैं।
  • हैलट की ओपीडी में शुक्रवार को 1479 पर्चे बने थे, जिनमें 700 से ज्यादा लोग बुखार से पीड़ित हैं। शनिवार दोपहर 12 बजे तक 1886 पर्चे बने हैं। इसमें ज्यादातर मरीज फीवर, सांस लेने में तकलीफ और डायरिया के हैं।

आगरा: 1500 से ज्यादा मरीज पहुंचे ओपीडी में...ज्यादातर बुखार के

एसएन मेडिकल कॉलेज की ओपीडी में 1550 मरीज आए थे। ज्यादातर को बुखार है।
एसएन मेडिकल कॉलेज की ओपीडी में 1550 मरीज आए थे। ज्यादातर को बुखार है।
  • एसएन मेडिकल कॉलेज की ओपीडी में 1550 मरीज आए थे। इसमें 1409 मरीज नए और 141 पुराने थे। ज्यादातर को बुखार के साथ खांसी और जुकाम की समस्या थी। यहां आए नारायण हरि अपनी 3 साल की बेटी कृतिका को दिखाने आए हैं। दोनों को पिछले 7 दिन से बुखार आ रहा है। लोहा मंडी में रहने वाले धर्मेंद्र अपनी 4 साल की बेटी को लेकर आए थे।

गोरखपुर: 306 बेड के जिला अस्पताल में 250 मरीज बुखार के भर्ती

गोरखपुर के जिला अस्पताल में 306 बेड हैं। इनमें 250 से ज्यादा मरीज वायरल फीवर के हैं
गोरखपुर के जिला अस्पताल में 306 बेड हैं। इनमें 250 से ज्यादा मरीज वायरल फीवर के हैं
  • गोरखपुर जिला अस्पताल में रोजाना बुखार से पीड़ित 1500 से 1800 मरीज ओपीडी पहुंच रहे हैं। 306 बेड का जिला अस्पताल है। इनमें 250 से ज्यादा मरीज वायरल फीवर के हैं। डॉक्टर कोरोना के शक से कोविड जांच करा रहे हैं, लेकिन इसकी रिपोर्ट निगेटिव है। इनमें टाइफायड के भी मरीज मिल रहे हैं।
  • सीएमओ डॉ. सुधाकर पांडेय ने बताया कि गोरखपुर में बाढ़ आई थी। इस वजह से सं​क्रमण वाली बीमारियां बढ़ रही हैं। इससे इंसेफेलाइटिस का भी खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है।

वाराणसी: मंडलीय अस्पताल में डेंगू के 800 संदिग्ध, 300 भर्ती

वाराणसी में अब तक डेंगू के 75 मरीज़ों की पुष्टि हुई है। 800 से ज्यादा को डेंगू का अंदेशा है।
वाराणसी में अब तक डेंगू के 75 मरीज़ों की पुष्टि हुई है। 800 से ज्यादा को डेंगू का अंदेशा है।
  • वाराणसी के मंडलीय अस्पताल में 11 बजे तक 700 से ज्यादा मरीजों का रजिस्ट्रेशन हुआ। इसमें से मेन OPD में 500 से ज्यादा मरीज और मंडलीय अस्पताल के महिला चिकित्सालय में 172 महिला मरीजों का रजिस्ट्रेशन हुआ।
  • मंडलीय अस्पताल के एमएस डॉ. प्रसन्न कुमार सिंह ने बताया कि अभी डेंगू के 20 में से 6 मरीज ही डेंगू वार्ड में भर्ती हैं। 300 से ज्यादा वायरल बुखार से पीड़ित मरीज भर्ती हैं। वाराणसी में अब तक डेंगू के 75 मरीजों की पुष्टि हुई है, वहीं 800 से ज्यादा संदिग्ध हैं।

मेरठ: 500 की ओपीडी में 375 मरीज वायरल के

मेडिकल अस्पताल में 1000 मरीज ओपीडी में आ रहे हैं। इसमें 300 मरीज बुखार के हैं।
मेडिकल अस्पताल में 1000 मरीज ओपीडी में आ रहे हैं। इसमें 300 मरीज बुखार के हैं।
  • मेरठ जिला अस्पताल में रोजाना 500 मरीजों की ओपीडी हो रही है। इसमें 375 मरीज वायरल बुखार के हैं। जिला अस्पताल के SIC डॉ. हीरा सिंह का कहना है अस्पताल में मरीजों के इलाज के लिए अलग से डेंगू वार्ड बनाया है।

सहारनपुर: हर दिन 1800 से 2000 मरीज ओपीडी में पहुंच रहे

सहारनपुर में जिला अस्पताल में एक महीने में 10 हजार से ज्यादा मरीज ओपीडी में पहुंचे।
सहारनपुर में जिला अस्पताल में एक महीने में 10 हजार से ज्यादा मरीज ओपीडी में पहुंचे।
  • अगस्त में 33,736 मरीजों की ओपीडी हुई। जुलाई में 23,954 की ओपीडी हुई। बीमारी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एक माह में लगभग 10,000 मरीजों की संख्या बढ़ी है।

अलीगढ़: 558 में 113 मरीज बुखार और खांसी के

558 मरीजों का रजिस्ट्रेशन हुआ। इसमें 113 मरीज सर्दी बुखार के थे।
558 मरीजों का रजिस्ट्रेशन हुआ। इसमें 113 मरीज सर्दी बुखार के थे।

पंडित दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय की ओपीडी में 10:30 बजे तक 558 मरीजों का रजिस्ट्रेशन हो चुका है। इसमें से 113 मरीज सर्दी बुखार के आए हैं। अस्पताल के फिजिशियन डॉ एसके सिंघल ने बताया कि जिनको परेशानी ज्यादा है उनकी खून की जांच कराई जा रही है। मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

प्रयागराज: ओपीडी में 60% मरीज बुखार के

स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में शुक्रवार को 1250 लोग पहुंचे। दो महीनों में ओपीडी में पहुंचने वाले मरीजों की ये सबसे ज्यादा संख्या है।
स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में शुक्रवार को 1250 लोग पहुंचे। दो महीनों में ओपीडी में पहुंचने वाले मरीजों की ये सबसे ज्यादा संख्या है।
  • मंडलीय चिकित्सालय स्वरूप रानी नेहरू हॉस्पिटल में सुबह 10 बजे तक कुल ओपीडी 350 रही है। इनमें से 60% लोग बुखार से पीड़ित हैं। स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में औसत ओपीडी 1000 से ज्यादा रहती हैं। शुक्रवार को 1250 लोगों ने डॉक्टरों को दिखाया था। गुरुवार की ओपीडी 1450 थी। अगस्त और सितंबर में यह अब तक की सबसे बड़ी संख्या है।

झांसी: जिला अस्पताल में रोजाना एक हजार मरीज

झांसी में सरकारी अस्पताल की ओपीडी में हर दिन करीब 800-1000 लोग पहुंच रहे हैं। औसत 300 मरीज बुखार, खांसी और जुकाम के होते हैं।
झांसी में सरकारी अस्पताल की ओपीडी में हर दिन करीब 800-1000 लोग पहुंच रहे हैं। औसत 300 मरीज बुखार, खांसी और जुकाम के होते हैं।

आजमगढ़: बुखार के मरीज डॉक्टर्स का इंतजार करते रहे

  • आजमगढ़ में भी बुखार के मरीज बढ़ रहे हैं। यहां मंडलीय चिकित्सालय में सुबह 10:30 बजे तक 90 मरीज आए पर इन्हें देखने वाले डॉक्टर नहीं पहुंचे। कई मरीज प्राइवेट अस्पतालों की ओर चले गए। कुछ डॉक्टर के आने का इंतजार करते दिखे।

मुरादाबाद: 700 मरीज बुखार के, सांस लेने में तकलीफ की शिकायत

  • शुक्रवार को अस्पताल ओपीडी में कुल 1270 मरीज पहुंचे थे। इनमें से करीब 700 मरीजों में बुखार की शिकायत थी। इससे पहले गुरुवार को ओपीडी में मरीजों की संख्या 1114 थी। शनिवार को 70 मरीज पहुंचे। इनमें से 50 में सांस फूलने और बुखार की दिक्कत है। इन मरीजों को अस्पताल की कोविड हेल्प डेस्क पर रेफर किया गया है।

मथुरा: 200 मरीजों में 50 बुखार के

मथुरा में अब तक बुखार से महीने भर में 12 मौतें हो चुकी हैं। यहां 5 फीवर वार्ड बनाए गए हैं
मथुरा में अब तक बुखार से महीने भर में 12 मौतें हो चुकी हैं। यहां 5 फीवर वार्ड बनाए गए हैं
  • मथुरा के जिला संयुक्त चिकित्सालय में हर दिन 200 मरीज पहुंच रहे हैं। जिसमें से 50 बुखार के हैं। इनमें 10 से 15 बच्चे हैं। जिला संयुक्त चिकित्सालय में 5 फीवर वार्ड बनाए गए हैं जहां 30 बेड रखे गए हैं। अभी 12 मरीज भर्ती हैं। इनमें से 6 डेंगू के हैं।
खबरें और भी हैं...