खौफ में​​​​​​​ लालजी टंडन की पौत्रवधू दिशा टंडन:लखनऊ में बोलीं- मेरे ससुर कहते हैं, कैबिनेट मंत्री हूं, कानून खरीद सकता हूं, FIR नहीं होने दे रहे

लखनऊ7 महीने पहलेलेखक: मनीषा भल्ला

लखनऊ के पूर्व सांसद और मध्यप्रदेश के राज्यपाल रहे लालजी टंडन की पौत्रवधू दिशा टंडन ने पीएम मोदी और सीएम योगी से न्याय की गुहार लगाई है। दिशा योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन के भाई की पुत्रवधू हैं। दैनिक भास्कर ने दिशा से बात की।

बड़ी मान मनौवल के बाद दिशा टंडन अपनी व्यथा सुनाने के लिए हमारे साथ हमारी कार के अंदर ही आईं। किसी रेस्त्रां, अपने घर या हमारे घर या फिर किसी सार्वजनिक जगह पर बात करने से साफ इनकार कर देती हैं। दिशा कहती हैं ‘माननीय मंत्री (आशुतोष टंडन) जी मुझे इस बात की धमकी बार-बार देते हैं कि वो एक मंत्री हैं, वो कानून खरीद सकते हैं, गोली मरवा सकते हैं, लेकिन अब मैं यह देखना चाहती हूं कि एक मंत्री बड़ा है या देश का कानून। भाजपा का जैसा कि नारा है कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, लेकिन मंत्री जी यानी हमारे ससुर आशुतोष टंडन जी का नारा है कि बहू लाओ-बहू भगाओ।’

दिशा टंडन का आरोप है कि वह बीते डेढ़ साल से अपने मायके रह रही हैं क्योंकि उनके ससुराल वाले उन्हें रखने के लिए तैयार नहीं। इसकी वजह है कि दिशा ने शादी के दो साल बाद तंग आकर पारिवारिक हिंसा और दहेज की मांग की मुखालफत शुरू कर दी थी। अदालत जाने की बात कह दी थी। जिसके चलते मंत्री समेत उनके परिवार ने दिशा से पल्ला झाड़ना तय कर लिया और वह तलाक की मांग करने लगे।

लालजी टंडन की पौत्रवधू की गुहार, कहा- मुझे मारने की धमकियां दीं, उसकी भी रिकॉर्डिंग मेरे पास

परिवार की महिला के साथ दिशा।
परिवार की महिला के साथ दिशा।

दैनिक भास्कर से दिशा बताती हैं ‘मैं अपने खानदान में अकेली बेटी थी, मुझे मेरे पेरेंट्स ने एक प्रिंसेस की तरह पाला था। लेकिन जैसे ही मैं टंडन परिवार में गई तो उन लोगों ने घर के सभी नौकरों को हटा दिया। मुझे अकेले दस लोगों का खाना बनाना होता था। राजनीतिक परिवार था तो घर में आना-जाना बहुत रहता था, घर के बड़े सभी लोग बीमार रहते हैं तो मैं उनके लिए एक नर्स की हैसियत से भी काम करती थी।’

घर में नौकरानी की तरह रखते थे

दिशा का कहना है कि टंडन परिवार में उनकी हैसियत एक नौकरानी जैसी थी। वह कहती हैं कि मैं बहू थी, काम तो करना ही था मुझे...लेकिन सब लोग मुझे एक नौकरानी की तरह रखते थे। दिशा कहती हैं ‘मंत्री जी अपनी पत्नी को बोलते थे कि वह मुझे बालों से पकड़ कर घसीटते हुए लाए, मंत्री जी की पत्नी और उनके छोटे भाई की पत्नी मुझसे बहुत बुरा व्यवहार करती थी। मेरे पति को बोलते थे कि वो मुझे मारे। वो मुझे मारने की भी धमकी देते थे। आशुतोष टंडन बोलते थे कि यह सब बातें अगर परिवार से बाहर गईं तो मैं गोली मार दूंगा, मेरे पति के मामा भी ऐसा बोलते थे।’

जब तक लालजी टंडन जिंदा थे...सब ठीक था

बातचीत में दिशा बताती हैं कि उनके परिवार को शादी से पहले इन सब बातों का नहीं पता था। वह बताती हैं कि मेरे मायके वालों ने मेरी शादी बहुत भव्य तरीके से की। बाबा (लाल जी टंडन, पूर्व राज्यपाल मध्य प्रदेश) के आशीर्वाद से यह अरेंज मैरिज हुई थी। लाल जी टंडन की मौत के बाद से ही उनकी शादी में दिक्कतें आनी शुरू हो गईं। उनके रहते कभी दिक्कत नहीं आई क्योंकि बाबा उन्हें बहुत मानते थे और प्यार-सम्मान देते थे। लेकिन परिवार को यह बात पसंद नहीं थी कि लाल जी टंडन दिशा को इतना मानते हैं।

मंत्री जी कहते हैं- हमारे परिवार में बहुएं दहेज लेकर आती हैं

दिशा के अनुसार टंडन परिवार उन्हें दहेज के लिए प्रताड़ित करता था। मंत्री आशुतोष टंडन का कहना था कि हमारे परिवार में मैं एक कैबिनेट मंत्री हूं, गवर्नर के परिवार में तुम्हारी शादी हुई है हमारा बैकग्राउंड ऐसा है कि हमारे यहां जो भी बहुएं आती हैं वो दहेज लेकर आती हैं क्योंकि मुझे भी समाज में इन चीजों को दिखाना पड़ता है। लेकिन मैं एक किसान की बेटी हूं, मध्यम वर्गीय परिवार की बेटी हूं। मेरे माता-पिता का इतना सामर्थ्य नहीं है कि उनकी मांगे पूरी की सकें।

बात करने को तैयार नहीं टंडन परिवार...अब अदालत में ही लड़ूंगी

दिशा के अनुसार बहुत हद तक उनके मां-बाप ने टंडन परिवार की मांगें पूरी भी कीं लेकिन जब असमर्थ हो गए तो ही मैंने जुबान खोली है। जब मैंने बोला कि मैं दहेज और पारिवारिक प्रताड़ना के खिलाफ अदालत जाऊंगी तब से ही लोग मेरी शादी को ही खारिज करने में लग गए हैं। दिशा का आरोप है कि उनके माता-पिता ने टंडन परिवार से कई दफा बात करने की कोशिश की लेकिन टंडन परिवार ने कभी बात नहीं की। यहां तक कि टंडन परिवार दिशा की मां के बारे में बहुत अपशब्द बोलते थे। अब दिशा का कहना है कि उसने तय किया है कि टंडन परिवार के खिलाफ लड़ेंगी।

वह कहती हैं कि जब वो इतने बड़े पद पर होते हुए उनके साथ ऐसा कर सकते हैं, तो आम जनता के साथ कैसा करते होंगे। दिशा का कहना है कि उनके ससुर उनकी एफआईआर तक नहीं होने दे रहे हैं। वह कहती हैं कि मैं जनता की मदद से एफआईआर करवाना चाहती हूं।

खबरें और भी हैं...