• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • New Responsibility Received After 24 Hours Of Cabinet Expansion, Emphasis Will Be On Taking Forward The Campaigns Of The Organization As Well As The Department

UP में नए मंत्रियों को बांटे गए विभाग:कैबिनेट विस्तार के 24 घंटे बाद मिली नई जिम्मेदारी, लेकिन विभाग से ज्यादा उन समीकरणों को साधने का होगा जिम्मा जिनके चलते बने हैं मंत्री

लखनऊ8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंत्री पद की शपथ लेने के बाद सीएम योगी से मिले जितिन प्रसाद - Dainik Bhaskar
मंत्री पद की शपथ लेने के बाद सीएम योगी से मिले जितिन प्रसाद

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार के 24 घंटे बाद दूसरे दिन सोमवार को सभी सात नए मंत्रियों के विभागों का बंटवारा भी हो गया। लंबे अरसे के इंतजार के बाद रविवार को हुए योगी कैबिनेट विस्तार में 7 नए मंत्री बनाए गये।

इन सात में इकलौते कैबिनेट मंत्री जितिन प्रसाद को प्राविधिक शिक्षा मंत्री बनाया गया है। इनके अलावा छह राज्य मंत्रियों को बांटे गए विभागों की जानकारी भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद ट्वीट की है।

मंत्रियों को विभागों को लेकर हुआ मंथन

पहले मंत्रिमंडल विस्तार और फिर विस्तार के बाद विभाग को लेकर भी खूब मंथन हुआ। पहले मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पर रविवार देर रात तक बैठक चलती रही। उसके बाद सोमवार को भी इस पर विचार विमर्श किया गया और फिर रात को विभागों की जानकारी सीएम को ओर से दी गई।

विभागों के बंटवारे में सबसे ज्यादा जोर कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को लेकर हुआ। सरकार ने जितिन को विधान परिषद सदस्य मनोनीत कर कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलाई है, लिहाजा उनके लिए विभाग पर भी जम कर चर्चा हुई।

नए मंत्रियों को मिली नई जिम्मेदारी के मायने

सियासत में मैसेजिंग के मायने होते है। कैबिनेट मंत्री जितिन प्रसाद को प्राविधिक शिक्षा मंत्री बनाया गया है। योगी कैबिनेट में पहले यह विभाग कमल रानी वरुण के पास था, जिनका कोरोना के चलते निधन हो गया। उसके बाद से यह विभाग मुख्यमंत्री के पास ही था।

नए मंत्रियों के पास वक्त बेहद कम है। ऐसे में विभागों को समझने और बड़े काम करने से पहले आचार संहिता लग सकती है, लिहाजा इन्हें ऐसे विभागों की जिम्मेदारी दी गई, जो सीधे आम जनता से ना जुड़ी हो। नए मंत्रियों को विभाग से ज्यादा संगठन के अभियानों को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी है। इसीलिए ऐसे विभाग दिए गये जिससे दोनो में तालमेल रख कर काम किया जा सके।

राज्य मंत्रियों को भी मिली जिम्मेदारी

कैबिनेट के अलावा राज्यमंत्रियों को भी विभाग बांटे गये। राज्य मंत्री पल्टू राम को सैनिक कल्‍याण, होमगार्ड, प्रांतीय रक्षक दल एवं नागरिक सुरक्षा विभाग दिया गया है।राज्य मंत्री संगीता बलवंत को सहकारिता विभाग और धर्मवीर प्रजापति को औद्योगिक विकास विभाग का दायित्व दिया गया है।

छत्रपाल सिंह गंगवार को राजस्‍व विभाग और संजीव कुमार को समाज कल्‍याण, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्‍याण विभाग दिया गया है. वहीं, दिनेश खटीक को जल शक्ति एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग की जिम्मेदारी दी गई है।

नई जिम्मेदारी की नई कहानी

जातीय-क्षेत्रीय संतुलन बनाते हुए छह राज्य मंत्री बनाए गए हैं। सरकार और संगठन दोनों की मंशा साफ है। इस सभी नए मंत्रियों को अपने विभाग से ज्यादा जोर संगठन के अभियानों और समाज को जोड़ने की है।

कहा जा रहा है कि इतने कम वक्त में मंत्री विभाग की बड़ी जिम्मेदारी शायद पूरी ना कर पाएं, लिहाजा इन्हें संगठन के अभियानों को आगे बढ़ाने पर जोर देना होगा। कुछ ही महीनों में सरकार चुनाव में जाएगी, लिहाजा इनका विभाग से ज्यादा चुनावी इस्तेमाल होगा।

पार्टी के पक्ष में समीकरण साधने का जिम्मा

ये भी बताया जा रहा है कि आगामी चुनाव को देखते हुए जिन समीकरणों को साधने के लिए इन नेताओं को मंत्री बनाया गया है, अब ये जमीन पर उतरकर उन्हीं समीकरणों को भाजपा के पक्ष में करने का प्रयास करेंगे। इस समय भाजपा के सांसद और केंद्रीय मंत्री जन-आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं। ऐसे में इन नए मंत्रियों की तात्कालिक जिम्मेदारी जन-आशीर्वाद यात्रा से अपने समाज और क्षेत्र के लोगों को जोड़ने की होगी।

खबरें और भी हैं...