अलकायदा के आतंकियों की जांच NIA ने शुरू की:स्वतंत्रता दिवस पर लखनऊ और आस-पास के जिलों में तबाही की प्लानिंग थी; पाकिस्तान और अफगानिस्तान से जुड़े हैं तार

लखनऊ5 महीने पहले

लखनऊ से पकड़े गए अलकायदा के पांचों आतंकवादियों की जांच नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने शुरू कर दी है। स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (SIT) ने इन्हें जुलाई में लखनऊ और आस-पास के जिलों से गिरफ्तार किया था। अब तक मामले की जांच कर रही स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (SIT) का दावा है कि इन सभी का कनेक्शन आतंकी संगठन अलकायदा के अंसार गजवातुल हिंद मॉड्यूल से है। ये 15 अगस्त पर लखनऊ और आस-पास के इलाकों में आतंकी वारदात को अंजाम देने की साजिश रच रहे थे।

IG ने अफसरों के साथ बैठक की
दिल्ली के NIA मुख्यालय से IG आशीष बत्रा लखनऊ आ गए हैं। उन्होंने DIG प्रशांत कुमार और SP ज्योति प्रिया सिंह समेत तमाम अधिकारियों के साथ इस मामले की समीक्षा की। एनआईए जल्द ही इस मामले के गिरफ्तार संदिग्ध आतंकियों से जेल में पूछताछ करने की तैयारी में है। इसके साथ ही आरोपियों को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर कुछ जगहों पर छापेमारी भी कर सकती है।

11 जुलाई को दो संदिग्ध हुए थे गिरफ्तार

11 जुलाई को लखनऊ से दो संदिग्ध आतंकियों मिनहाज और मशीरुद्दीन को गिरफ्तार किया था।
11 जुलाई को लखनऊ से दो संदिग्ध आतंकियों मिनहाज और मशीरुद्दीन को गिरफ्तार किया था।

यूपी एटीएस के ऑपरेशन के दौरान 11 जुलाई को लखनऊ से दो संदिग्ध आतंकियों मिनहाज और मशीरुद्दीन को गिरफ्तार किया था। यूपी एटीएस ने जांच के बाद इनके तीन अन्य साथियों वजीरगंज निवासी शकील, सीतापुर रोड के मदेयगंज निवासी मोहम्मद मुस्तकीम और कैम्पबेल रोड स्थित न्यू हैदराबाद निवासी मोहम्मद मुईद को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

पाकिस्तान- अफगानिस्तान से चलता है आतंक का खेल

इनके पास से पिस्टल, कुकर बम, विस्फोटक बरामद किया था।
इनके पास से पिस्टल, कुकर बम, विस्फोटक बरामद किया था।

ATS को सूचना मिली थी कि उमर हलमंडी पाकिस्तान-अफगानिस्तान बॉर्डर पर सक्रिय है। इंडिया सब कॉन्टिनेंट में आतंकियों की नर्सरी तैयार कर रहा है। इसमें लखनऊ के भी कई लोगों को जिहादी गतिविधियों में शामिल किया गया है।

इसमें काकोरी के मिनहाज, मड़ियांव के मशीरुद्दीन और शकील मेन हैं। उमर हल मंडी के इशारे पर 15 अगस्त पर लखनऊ व आसपास के बड़े शहरों में आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की साजिश रच रहे हैं। इसके बाद एटीएस ने छापेमारी कर इनके पास से पिस्टल, कुकर बम, विस्फोटक बरामद किया था।

केंद्र सरकार ने एनआईए को सौंपी जांच
केंद्र ने इस मामले की जांच एनआईए के सुपुर्द करने का निर्णय लिया था। इसके बाद एनआईए ने इस मामले को टेकओवर कर लिया। एनआईए लखनऊ की एसपी ज्योति प्रिया सिंह को मुख्य जांच अधिकारी बनाया गया है।

खबरें और भी हैं...