53 पार्किंग निरस्त एक लाख गाड़ियों पर चालान का खतरा:जनता के लिए गाड़ी खड़ी करने की कोई व्यवस्था नहीं दी गई, 500 से 1500 तक देना होगा जुर्माना, पार्षद बोले तुगलकी फरमान

लखनऊ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नगर निगम ने 23 पार्किग निरस्त कर दी लेकिन लोग कहां गाड़ी खड़ी करे यह व्यवस्था नहीं दे पाए अधिकारी। - Dainik Bhaskar
नगर निगम ने 23 पार्किग निरस्त कर दी लेकिन लोग कहां गाड़ी खड़ी करे यह व्यवस्था नहीं दे पाए अधिकारी।

नगर निगम ने शहर की 53 पार्किंग निरस्त कर दिया लेकिन पब्लिक अपनी गाड़ियां कहां खड़ी करेगी इसकी व्यवस्था नहीं दे पाए है। ऐसे में नगर निगम के इस आदेश को तुगलकी फरमान बताया जाने लगा है। राजनीतिक दल से लेकर नगर निगम के पार्षदों का कहना है कि अवैध पार्किंग निरस्त करने के बाद नगर निगम उसका खुद संचालन करता था, लेकिन पूरी तरह से निरस्त करना गलत है। इससे आम लोगों का शोषण बढ़ेगा साथ ही घाटे में चल रहे नगर निगम के राजस्व को और ज्यादा नुकसान होगा।

दलील है कि शहर में अगर गाड़ी खड़ी करने की जगह नहीं होगी तो व्यवस्था चौपट हो जाएगी। लोग अगर पुरानी पार्किंग के पास अपनी गाड़ी खड़ती करते है तो उसको अवैध बता गाड़ी उठा ली जाएगी या फिर ट्रैफिक पुलिस नो पार्किंग जोन के साथ गाड़ी की फोटो क्लिक कर लेगी। इन दोनों ही परिस्थितियों में व्यक्ति को 500 से 1500 रुपए तक जुर्माना देना होगा।

खुद पार्किंग संचालित करे नगर निगम

पूर्व कांग्रेस महानगर अध्यक्ष मुकेश सिंह चौहान अपर मुख्य सचिव रजनीश दुबे की ओर से जारी आदेश को तुगलकी बता दिया है। उनका कहना है कि पहले अगर किसी पार्किंग के संचालन में गड़बड़ होती थी तो उसका आंवटन रद्द कर नगर निगम खुद संचालित करता था। लेकिन इसको पूरी तरह से कैंसिल करना लखनऊ की 35 लाख जनता को प्रताड़ित करना है। बताया कि जनता का प्रतिनिधि होने के नाते मेयर संयुक्ता भाटिया को इसमें हस्तक्षेप करना चाहिए। ऐसे में ही कांग्रेस के अमित चौधरी, पार्षद समीर पाल सोनू समेत कई लोगों ने इसको तुगलकी फरमान बता दिया है।

पूर्व कांग्रेस महानगर अध्यक्ष ने कहा कि नगर निगम को खुद पार्किंग चलानी चाहिए
पूर्व कांग्रेस महानगर अध्यक्ष ने कहा कि नगर निगम को खुद पार्किंग चलानी चाहिए

एक लाख हजार लोगों पर बढ़ा चालान का खतरा

नगर निगम ने लखनऊ में जिन 53 सेंटर को कैंसिल किया है, वहां प्रतिदिन एक लाख हजार गाड़ियां खड़ी होती है। अब इन लोगों पर चालान का खतरा बढ़ जाएगा। इसमें एक बार में 100 गुना ज्यादा भुगतान करना पड़ेगा। अभी कई जगह पर बाइक के 10 और कार के लिए 20 रुपए पार्किंग शुल्क है। लेकिन नो पार्किंग में गाड़ी रही तो 1500 रुपए तक का भुगतान करना होगा।

नगर निगम के लिए भी घाटा

पहले से ही करीब 400 करोड़ रुपए के घाटे में चल रहे नगर निगम के लिए यह एक बड़ा झटका है। सभी 53 पार्किंग के कैंसिल होने से करीब पांच करोड़ रुपए का नुकसान होगा। इसके अलावा पुलिस और गाड़ियां उठाने वालों की मनमानी बढ़ेगी। इसमें अवैध वसूली का खेल शुरू होगा।

टीन शेड और शौचालय बनाने के बाद शहर में जगह नहीं

जारी आदेश में कहा गया कि पार्किंग शुरू होने से पहले संबंधित जगह पर टीन शेड, शौचालय और पीने के पानी की व्यवस्था करनी होगी। शहर में 80 फीसदी पार्किंग सड़क किनारे है। ऐसे में वहां अगर टीन शेड बना दिया गया तो अवैध निर्माण हो जाएगा। सड़क और सकरी हो जाएगा।

सिर्फ कमाने में लगे अधिकारी, हर फाइल पर पैसा

बीजेपी पार्षद दीलिप श्रीवास्त का कहना है कि यह बहुत गलत फैसला है। दैनिक भास्कर से बात करते हुए उन्होंने बताया कि अधिकारियों को जनता की सुविधाओं से कोई लेना नहीं है। हर फाइल पर बस उनको पैसा चाहिए। पैसे के अलावा किसी चीज से मतलब नहीं है। उन्होंने बताया कि पार्किंग निरस्त करने से आपत्ति नहीं है लेकिन पब्लिक को जगह न देना ठीक नहीं है। इससे पहले भी नरही जू , सहारागंज समेत कई जगहों की पार्किंग को निरस्त किया गया था, तब खुद नगर निगम ने पार्किंग का काम देखा था। इसबार भी ऐसा होना चाहिए था।

बीजेपी पार्षद दीलिप श्रीवास्तव का कहना है कि हर फाइल पर बस पैसा कमाने में अधिकारी लगे है।
बीजेपी पार्षद दीलिप श्रीवास्तव का कहना है कि हर फाइल पर बस पैसा कमाने में अधिकारी लगे है।

क्या कहते जिम्मेदार

इस मामले में नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी का कहना है कि शासन से जो निर्देश आया था, उसका पालन किया गया है। उसमें 24 घंटे में कार्रवाई की बात थी। हालांकि लोगों की सुविधाओं का ध्यान रखना भी नगर निगम का काम है यह सवाल जब किया गया तो वह कुछ भी बोल नहीं पाए। जबकि मेयर संयुक्ता भाटिया से बात की गई तो उन्होंने मामले को समझने की बात की। बताया कि इस संदर्भ में अधिकारियों से बात कर वह कुछ बता पाएंगी।

इन पार्किंग को किया गया निरस्त

शाहनजफ रोड स्थित सहारागंज के सामने पार्किंग , चिडिय़ाघर के बाहर पार्किंग , अमीनाबाद मंदिर रोड, त्रिलोकनाथ रोड स्थित जनपथ मार्केट के बाहर, मीराबाई मार्ग स्थित श्रीराम टॉवर के बाहर पार्किंग , ग्लोब मेडिकेयर निराला नगर, विवेकानन्द हास्पिटल, फातिमा हास्पिटल, सरकार डायग्नोसिटीक सेंटर के सामने, प्रगति बाजार कपूरथला, फन मॉल गोमती नगर, एसआरएस मॉल, सिनेपालिस, मॉल, मेयो हास्पिटल, चन्दन हास्पिटल, पिलासियों मॉल, लोहिया हास्पिटल गोमती नगर, कानपुर रोड स्थित विशाल मेगामार्ट, विशाल मेगामार्ट आशियाना, मेगामार्ट टेढी पुलिया, आरटीओ. ऑफिस ट्रांसपोर्ट नगर नगर, ट्रांसपोर्ट नगर स्थित मोरंग पार्क‍िंग संख्या छह और आठ, भूमिगत पार्किंग गोल मार्केट, सिटी कार्ट टेढ़ी पुलिया, लाला जुगल किशोर राज ज्वैलर्स एवं क्लासिक रेस्टोरेंट के सामने महानगर, चांदगंज, बैंक ऑफ इंडिया निरालानगर के सामने, कोटक महि‍ंद्रा बैंक जानकीपुरम विशाल मेगामार्ट के सामने।

खबरें और भी हैं...