9 दिसम्बर को सपा के जिला-महानगर अध्यक्षों की होगी बैठक:2022 चुनाव की तैयारियों को लेकर अखिलेश करेंगे समीक्षा, सपा प्रमुख ने कहा- भाजपा ने जनता को बुरी तरह निराश किया

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
यूपी चुनाव को लेकर सपा अध्यक्ष पार्टी के विधानसभा अध्यक्षों को भी बैठक में बुलाया है। - Dainik Bhaskar
यूपी चुनाव को लेकर सपा अध्यक्ष पार्टी के विधानसभा अध्यक्षों को भी बैठक में बुलाया है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा ने जनता को बुरी तरह निराश किया है। उसकी नीतियों और कार्यप्रणाली से उत्तर प्रदेश की जनता असंतुष्ट है। किसान, नौजवान, गरीब महंगाई की मार से टूट गए हैं। इसलिए जनता अब भाजपा से मुक्ति चाहती है। उसको भरोसा है कि समाजवादी सरकार बनने पर ही भला होगा। समाजवादी पार्टी के समस्त जिला/महानगर अध्यक्षों तथा प्रदेश की सभी विधानसभा क्षेत्रों के विधानसभा अध्यक्षों की एक आवश्यक बैठक दिनांक 09 दिसम्बर, गुरुवार को सुबह 10 बजे प्रदेश कार्यालय लखनऊ में होंगी। बैठक को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव सम्बोधित करेंगे।

भाजपा सरकार लोकार्पण और शिलान्यास का नाटक करने लगी अखिलेश यादव आज समाजवादी पार्टी कार्यालय लखनऊ में डॉ. राममनोहर लोहिया सभागार में एकत्र कार्यकर्ताओं को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जनता यह भी जानती है कि भाजपा ने देश की अर्थव्यवस्था को तहस-नहस करने के साथ नोटबंदी और जीएसटी से व्यापार और काम धंधा भी चौपट कर दिया हैं। विकास अवरुद्ध है। समाजवादी सरकार के कामों को ही वह अपना बताकर अपनी अकर्मण्यता पर पर्दा डाल रही है। जब उसकी सत्ता से रवानगी के चंद दिन रह गए हैं लोगों को बहकाने के लिए भाजपा सरकार लोकार्पण और शिलान्यास का नाटक करने लगी है।

अखिलेश ने कहा कि सच तो यह है कि भाजपा ने अब तक एक ही काम किया है वह है समाजवादी पार्टी के विरूद्ध साजिशें रचना। भाजपा का काम झूठे आरोपों का प्रचार-प्रसार करना भी है। राजनीति को अभद्र भाषा और असंगत कार्य व्यवहार से भाजपा ने बुरी तरह प्रदूषित किया है। भाजपा को लोकलाज के विरूद्ध आचरण करने में जरा भी संकोच नहीं। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा राज की सबसे बड़ी उपलब्धि है कि उसके राज में अन्नदाता किसान और देश के भविष्य नौजवान दोनों की घोर उपेक्षा हुई है। अपने जीवन-मरण की लड़ाई लड़ रहे किसानों को भाजपा ने लांछित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आज भी किसानों की आवाज नहीं सुनी गई है।

नौजवान बेरोजगारी के शिकार है। प्रदेश में तमाम होहल्ले के बावजूद बाहर से निवेश नहीं आया जिसकी वजह से रोटी-रोजगार के साधन नहीं बन पाए। नौकरियां मिलने के बजाय छूट रही हैं। जनसामान्य के साथ बढ़ते अन्यायों के कारण हर तरफ आक्रोश है। जनता ने अब तय कर लिया है कि वह सन् 2022 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनाएगी और भाजपा को किसी भी कीमत पर सत्ता में नहीं आने देगी।

खबरें और भी हैं...