बुंदेलखंड में फिर पानी पर सियासत:19 को PM करेंगे अर्जुन बांध का लोकार्पण, 2016 में बुंदेलों के लिए ट्रेन से भेजे गए थे पानी के टैंकर

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बुंदेलखंड की एक पुरानी कहावत है-पेट को पानी,न खेत को पानी। यानी सूखे बुंदेलखंड में न तो पीने के लिए पानी है और न खेती के लिए। हर साल गर्मियों में झुलसते खेत और प्यासा बुंदेलखंड सुर्खियों में होते हैं। यूपी चुनाव से ऐन पहले यहां अर्जुन बांध का लोकार्पण कर भाजपा ये संदेश देना चाहती है कि उन्होंने प्यासे बुंदेलखंड में सिर्फ इंसानों की प्यास की परवाह नहीं की बल्कि खेती की भी परवाह की है। हालांकि विपक्ष का कहना है कि ये सिर्फ चुनावी लोकार्पण है। अधूरे बांध का लोकार्पण आम जनता के लिए छलावे से ज्यादा कुछ नहीं है।

अखिलेश यादव की सरकार में विधानसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार ने पानी की एक ट्रेन बुंदेलखंड के लिए भेजी थी, लेकिन अखिलेश यादव ने उसे झांसी स्टेशन पर रुकवा दिया था। अखिलेश ने इसे यह कहकर खारिज कर दिया था कि प्रदेश में लातूर जैसे संकट नहीं हैं, जो वाटर ट्रेन की जरूरत पड़े।

2016 में विधानसभा चुनाव से पहले उस वाटर ट्रेन को लेकर खूब सियासत हुई थी। केंद्र की भाजपा सरकार ने दावा किया कि वो प्यासे महोबा की प्यास मिटाना चाहते है, जबकि सूबे की सपा सरकार सहयोग नही कर रही,तब अखिलेश यादव ने आरोप लगाया था कि भाजपा सरकार खाली पानी का ट्रेन भेज कर बुंदेलखंड के लोगों से भद्दा मजाक किया है। एक बार फिर सूबे में विधानसभा चुनाव होने वाले है, उससे पहले पीएम मोदी बुंदेलखंड के खेतों को पानी देने के लिए अर्जुन बांध का लोकार्पण करने आ रहें है।

इस बार क्या सोच रहे हैं किसान, मंत्री और अफसर....

किसान मुकुंदी लाल कहते हैं कि लाखों किसानों के लिए कारगर होगी। लेकिन ये जल्दबाजी सिर्फ चुनाव के लिए है। अभी तक न तो किसानों को बताया गया है न ही नहरों की सफाई हुई है। अभी तो किसानों को मुआवजा भी नहीं मिला है। ये राजनीतिक फायदे के लिए हो रहा है।

गंज गांव के देवकांत त्रिपाठी कहते हैं कि आगे इसका फायदा होगा। फिलहाल तो हमें इसका कोई फायदा नहीं मिलेगा।

सपा सरकार में मंत्री रहे सिद्ध गोपाल साहू कहते हैं कि अभी तो काम पूरा ही नहीं हुआ है। नहरें ही नहीं बनी है तो खेतों तक पानी कैसे जाएगा।

अधिशासी अभियंता विनय कुमार कहते हैं कि परियोजना पूरी हो चुकी है। हालांकि वे अधूरी नहरों पर कोई जवाब नहीं देते।

पेट के बाद खेत के पानी के लिए PM देंगे अर्जुन बांध की सौगात

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के बाद अब पीएम मोदी यूपी के महोबा में 19 नवंबर को अर्जुन सहायक परियोजना (अर्जुन बांध) का शुभारंभ करेंगे। पानी की कमी की समस्या को कम करने और किसानों को बहुत जरूरी राहत देने के लिए प्रधानमंत्री महोबा में अर्जुन बांध परियोजना का उद्घाटन करेंगे। दावा किया जा रहा है कि एक तरफ सरकार ने हर घर नल योजना से बुंदेलखंड के लोगों की प्यास बुझाने की कोशिश हो रही है, तो वही दूसरी तरफ अर्जुन बाध के जरिए खेतों में पानी भी पहुंचाया जाएगा।

बुंदेलखंड में भाजपा की उम्‍मीदों को और बुलंद करेंगे पीएम मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुंदेलखंड में भाजपा की उम्‍मीदों को और बुलंद करेंगे। शुक्रवार को दौरे पर आ रहे मोदी बुंदेलखंड में योगी सरकार और भाजपा के लिए सबसे बड़ा चुनावी प्‍लेटफार्म तैयार करेंगे। मोदी के दौरे के जरिये भाजपा बुंदेलखंड में अपनी चुनावी रणनीति को जमीन पर उतारने की तैयारी कर रही है।रक्षा क्षेत्र में सरकार की योजनाओं के शिलान्यास के साथ ही देश की रक्षा के प्रति संकल्प, शौर्य, पराक्रम और बलिदान की भारतीय परंपरा की झलक से ‘झांसी जलसा’ एतिहासिक बनेगा।

खुली जिप्सी में झांसी किले के प्रमुख स्थलों को भी करीब से देखेंगे पीएम

महारानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर रक्षा मंत्रालय और राज्य सरकार के समन्वय से झांसी में मनाया जा रहा राष्ट्र रक्षा पर्व बुधवार से शुरू हो चुका है। उत्सव के समापन समारोह में पीएम मोदी झांसी पहुंचेंगे। प्रधानमंत्री खुली जिप्सी में झांसी किले के प्रमुख स्थलों को भी करीब से देखेंगे। पीएम नरेन्द्र मोदी डिफेंस कॉरिडोर के झांसी नोड पर पहले प्रोजेक्ट की नींव भी रखेंगे। पीएम दिल्ली स्थित नेशनल वॉर मेमोरियल में बने नए कियोस्क और एक मोबाइल ऐप को भी देश को समर्पित करेंगे।

जनसभाओं के जरिये पीएम करेंगे बुंदेलखंड में चुनावी एजेंडा सेट
पीएम मोदी इस दौरान बुंदेलखंड के लोगों को अरबों रुपये की योजनाओं की सौगात भी देंगे। पीएम लगभग दर्जन भर योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्‍यास करेंगे। साथ ही शुक्रवार को महोबा और झांसी में दो जनसभाओं के जरिये पीएम मोदी बुंदेलखंड में भाजपा का चुनावी एजेंडा सेट करेंगे।

प्रधानमंत्री राष्ट्र को समर्पित करेंगे कई बड़ी सौगात

  • यूपी डिफेंस इंडस्ट्रीयल कॉरीडोर के तहत बन रहे भारत डायनामिक्स लिमिटेड की झांसी इकाई का शिलान्यास करेंगे। यह इकाई 183 हेक्टेयर में 400 करोड़ की लागत से बनेगी।
  • यहां पर भारतीय सैनिकों के लिए एंटी गाइडेड मिसाइल्स के निर्माण के साथ ही जमीन से हवा और हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल्स और पानी के अंदर भी दुश्मनों को मार गिराने वाले हथियारों का निर्माण किया जाएगा।
  • पीएम मोदी इस दौरान झांसी में 600 मेगावाट क्षमता के अल्‍ट्रा मेगा सोलर पावर प्लांट का शिलान्‍यास करेंगे
  • 600 मेगावाट क्षमता के अल्ट्रा मेगा सोलर पावर प्लांट का गरौठा में शिलान्यास करेंगे।
  • झांसी में ही अटल एकता पार्क का लोकार्पण भी प्रधानमंत्री करेंगे।
  • 04 हेक्टेयर क्षेत्रफल में 11.30 करोड़ की लागत से झांसी विकास प्राधिकरण की ओर से बनाए गये अटल एकता पार्क का उद्घाटन करेंगे। यहां 8000 पुस्तकों के संग्रह के पुस्तकालय, ओपेन जिम और 500 व्यक्तियों की क्षमता के ओपर थिएटर का उदघाटन भी करेंगे।
  • भारत डायनामिक्‍स लिमिटेड की झांसी इकाई का शिलान्‍यास भी प्रधानमंत्री करेंगे। इसके साथ ही एनसीसी की सिमुलेटर ट्रेनिंग फैसिलिटी का शुभारंभ, एनसीसी एलुमिनी एसोसिएशन का शुभारंभ पीएम करेंगे।
खबरें और भी हैं...