पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शाहजहांपुर में किसान को अफसर की धमकी:धान बेचने के लिए 12 दिन से परेशान था किसान, शिकायत की तो एसडीएम ने धमकाया- "नेतागिरी की तो जेल भिजवा दूंगा"

शाहजहांपुर9 महीने पहले
यह फोटो शाहजहांपुर में तिलहर क्रय केंद्र की है। यहां एसडीएम ने एक किसान को धमकाया, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है।
  • तिलहर क्रय केंद्र का मामला, धान की गुणवत्ता खराब बताकर तौल करने से किया गया था मना

धान खरीद को लेकर मुख्यमंत्री योगी ने साफ कहा कि किसानों का शोषण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। लेकिन, अफसर इसके उलट काम कर रहे हैं। ताजा मामला शाहजहांपुर का है। यहां 12 दिनों से एक किसान अपनी उपज को बेचने के लिए क्रय केंद्र के चक्कर लगा रहा था। आज जब उसका धैर्य जवाब दे गया तो उसने एसडीएम तिलहर वेद सिंह चौहान से शिकायत कर दी। लेकिन बदले में उसे धमकी मिली। एसडीएम ने कहा कि तुम शक्ल से ही बदमाश लग रहे हो। ज्यादा नेतागिरी की तो जेल भिजवा दूंगा। यह सुनते ही अन्य किसान भड़क गए। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने किसानों को शांत कराया। पुलिस का कहना है कि किसान नशे में था।

तौल न होने पर एसडीएम से की थी शिकायत

दरअसल, रतनपुर गांव का किसान राजीव कुमार 12 दिन पहले धान बेचने के लिए तिलहर सेंटर गया था। लेकिन केंद्र प्रभारी ने धान में कमी बताकर तौलने से मना कर दिया। मंगलवार को एक बार फिर किसान सेंटर पहुंचा। जहां उसने देखा कि एक किसान का खराब क्वालिटी का धान तौला जा रहा था। इस पर उसने एसडीएम तिलहर वेद सिंह चौहान से शिकायत की कि उसका अच्छा धान है, उसके बाद भी तौल करने से इंकार कर दिया गया, दूसरे किसान का धान खराब है, फिर भी उसके धान की तौल कर दी गई। शिकायत कर देने भर से एसडीएम आगबबूला हो गए। उसके बाद उन्होंने किसान को जेल भेजने की धमकी तक दे डाली। सोशल मीडिया पर घटनाक्रम का वीडियो वायरल हो रहा है।

एसडीएम और किसान के बीच क्या बात हुई?

एसडीएम: तुम अगर सोच रहे हो कि दबाव बनाकर तौल करा लूंगा तो दबाव बनाकर नहीं तौल करा पाओगे।

किसान: हम गरीब आदमी हैं हम दबाव किस पर बना पाएंगे।

एसडीएम: तुम (पुलिस) इसको लेकर जाओ, थाने में बैठाओ, ये कोई स्थान नहीं है हंगामा करने का, जब तुमको एक बात लिखित में दे रहे हैं तो क्या बड़े लाट साहब हो क्या?

किसान: ये खराब धान क्यों तौल रहा है?

एसडीएम: धान में आग आग लगाना है तो अपने घर ले जाकर लगाओ। धान अपने घर लेकर जाओ, जो तुम्हे करना हो वो करना।

किसान: हम कुछ नाई कर पाइब।

एसडीएम: खराब धान की तौल को रुकवा दिया गया है। लेकिन ये जो तुम्हारा एटीट्यूड है न, तुम 12 दिन से ड्रामा कर रहे हो। तुम्हारे शक्ल दिख रही है कि तुम बदमाशी कर रहे हो। प्यार से कभी बात हीं नही करते हो तुम कभी। ज्यादा ड्रामा किया, ज्यादा नेतागीरी की तो भिजवा दूंगा जेल, तुम नेतागीरी क्यों कर रहे हो इतनी, कभी कहते लो आग लगा दूंगा, कभी कहते हो ये कर दूंगा।

एसडीएम के तेवर से भड़के किसान

एसडीएम के तेवर देख वहां पर दूसरे किसान भड़क गए और उन्होंने किसान का समर्थन करते हुए हंगामा करना शुरू कर दिया। पुलिस ने हंगामा बढ़ता देख मामले को मौके पर ही रफा-दफा कर दिया। अब जब एसडीएम से बात करने की कोशिश की तो उनका मोबाइल नेटवर्क कवरेज एरिया से बाहर बता रहा है। खास बात ये है कि वीडियो में दिख रहा किसान शराब के नशे में नहीं लग रहा है। वह एसडीएम से बात कर रहा है। लेकिन पुलिस शराबी किसान बोल रही है।

शराब के नशे में था किसान

इंस्पेक्टर तिलहर दीपक शुक्ला ने बताया कि, एसडीएम की सूचना पर सब इंस्पेक्टर मंडी पहुंचे थे। वहां शराब के नशे में किसान हंगामा कर रहा था। फिलहाल उसको समझाकर हंगामा शांत करा दिया था।

खबरें और भी हैं...