• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • People's Party (Socialist) Was Taken Forward, Initiative To Break Nonia Caste, Impact Of This Society In Mau, Azamgarh, Ballia, Ghazipur And Chandauli

पूर्वांचल में बीजेपी का जातिय समीकरण बिगाड़ने में जुटी सपा:जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट) को किया आगे, नोनिया जाति में सेंध लगाने की पहल, मऊ, आजमगढ़, बलिया, गाजीपुर और चंदौली में इस समाज का असर

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिलों में होने वाले कार्यक्रम में जुट रही भीड़ से जागने लगी उम्मीद। - Dainik Bhaskar
जिलों में होने वाले कार्यक्रम में जुट रही भीड़ से जागने लगी उम्मीद।

उप्र में विधान सभा चुनाव नजदीक आते ही जातीय समीकरण भी तेज होने लगे हैं। ऐसे में इसबार भी सभी बड़े दल सबसे ज्यादा पूर्वांचल पर नजरे डाले हुए है। मुख्य विपक्षी दल सपा भी वहां से आने वाली सभी जातियों को अलग - अलग तरीके से अपने खेमे में करने की जुगाड़ में है। यहां आजमगढ़, मऊ, बलिया, गाजीपुर, चंदौली समेत आस-पास के जिलों से आने वाली नोनिया जाति पर नजरें भी टिकी हुई है। करीब 1.26 फीसदी आबादी वाली यह जाति 15 से ज्यादा सीटों पर दखल रखती है। अभी तक भाजपा की वोटर मानी ताने वाली इस पार्टी पर सपा भी अपने सहयोगी दल जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट) पार्टी के माध्यम से हस्तक्षेप करने में लग गई है। यह वही पार्टी है जिसके संस्थापक डॉ0 संजय सिंह चौहान को समाजवादी पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में चंदौली से टिकट दिया था। हालांकि वे भाजपा के महेंद्र नाथ पांडेय से करीबी मतों से हार गए थे। डॉक्टर संजय सिंह चौहान पिछले डेढ़ दशक से इलाके में राजनीतिक रूप से सक्रिय है।

31 अगस्त तक जिलों में होगा कार्यक्रम
31 अगस्त तक जिलों में होगा कार्यक्रम

जन क्रांति यात्रा से अभियान की शुरूआत

वोटरों को एक जुट करने के लिए अब संजय सिंह चौहान जनक्रांति यात्रा निकाल रहे है। इसकी शुरूआत बलिया से की जा रही है। 16 अगस्त से शुरू हुई यह यात्रा 31 अगस्त तक चलेगी। इसको भाजपा हटाओं प्रदेश बचाओं का नाम दिया गया है। अब तक तीन यात्राएं हो चुकी है। इसमें 16 अगस्त को बलिया, 17 को मऊ, 18 को सोनभद्र में कार्यक्रम हो चुके हैं। अब 23 को मिर्जापुर, 24 को भदोही, 25 को प्रयागराज, 26 को प्रयागराज यमुनापार, 28 को आजमगढ़, 30 को अम्बेडकरनगर एवं 31 अगस्त को अयोध्या में आयोजित होगी। जनवादी पार्टी का आधार नोनिया बिरादरी है। जो इस समय बीजेपी का वोटबैंक मानी जाती है। ऐसे में अगर जनवादी पार्टी अपने आधार को सपा तक ले जाने में कामयाब होती है तो इसका नुकसान सत्ताधारी बीजेपी को होना तय है।

महंगाई और एनकाउंटर को मुद्दा बनाने की तैयारी

जनवादी पार्टी द्वारा आयोजित जनवादी जनक्रांति यात्रा भाजपा हटाओ, प्रदेश बचाओ जनवादी क्रांति यात्रा के कार्यक्रम सम्मेलन में बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। इस यात्रा के दौरान जनवादी पार्टी बीजेपी को भाजपा सरकार की नीतियों, किसानों की समस्या, महंगाई, बेरोजगारी, महिला उत्पीड़न, फर्जी एनकाउण्टर, यूपी में विकास योजनाओं को खिलाफ किये जाने सहित अनेक मुद्दों पर सरकार को घेर रही है।

डॉक्टर संजय सिंह चौहान को चेहरा बनाने की तैयारी
डॉक्टर संजय सिंह चौहान को चेहरा बनाने की तैयारी

फागू सिंह चौहान और दारा सिंह चौहान बड़े नेता

बीजेपी के दो बड़े नेता फागू सिंह चौहान और दारा सिंह चौहान इसी जाति से आते है। फागू सिंह चौहान फिलहाल चौहान यूपी के पूर्व मंत्री और वर्तमान में बिहार के राज्यपाल है। जबकि दारा सिंह चौहान योगी सरकार में मंत्री है। इससे पहले वह बसपा से सांसद भी रहे हैं। मऊ की घोसी विधानसभा से फागू चौहान ने लगातार जीतने का रिकॉर्ड भी बनाया था। इसके अलावा मऊ के ही मधुबन सीट से दारा सिंह चौहान विधायक हैं। इसके अलावा घोसी लोकसभा से वो सांसद भी रह चुके हैं। यहां बालकृष्ण चौहान भी यहां से सांसद रहे हैं। ऐसे में सपा बीजेपी का काट करने के लिए संजय सिंह चौहान को आगे कर रही है। इन नेताओं की सफलता के पीछे नोनिया बिरादरी की एकजुटता राजनैतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण रही है। अब सपा संजय सिंह चौहान को इन सबके काट के तौर पर समाने लाने में गल गई है।

अभी सीटों पर बात नहीं

डॉ संजय सिंह चौहान ने बताया कि 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा बहुत बड़ी जीत दर्ज करेगी। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी सपा के साथ लगातार रही है और आगे भी रहेगी। सीटों को लेकर उन्होंने कहा कि हमने किसी प्रकार की कोई मांग नहीं की है। सपा मुखिया अखिलेश यादव कभी निराश नहीं करते हैं। बिना किसी मांग के उन्होंने हमें चंदौली से टिकट दिया था। आगामी विधानसभा चुनाव में भी हम जी-जान से सपा के साथ ही रहेंगे।

खबरें और भी हैं...