PUBG हत्याकांड की तह तक पहुंचाएगी CDR:कॉल डिटेल से पता करेगी पुलिस, बेटे के इरादों पर फौजी पिता को पहले से क्यों हुआ शक

लखनऊ4 महीने पहले

लखनऊ में PUBG हत्याकांड में नई कड़ी जुड़ती नजर आ रही है। पुलिस यह पता लगाने में जुट गई है कि साधना की हत्या करने वाले उनके 16 साल के बेटे ने वारदात से पहले और बाद में किस-किस से बात की। इसके लिए पुलिस बेटे, मां और उसके फौजी पिता के नंबरों की कॉल डिटेल रिपोर्ट (CDR) निकलवा रही है।

घटना से तीन दिन पहले से ही फौजी नवीन की पत्नी साधना से बात नहीं हो पा रही थी। इसी दौरान 4 जून की रात 2 बजे बेटे ने उन्हीं के लाइसेंसी पिस्टल से गोली मारकर साधना की हत्या कर दी। वो तीन दिन तक 10 साल की बहन को लेकर मां की लाश के साथ उसी घर में पड़ा रहा। 7 जून की देर शाम उसने इसकी जानकारी पिता नवीन को दी, जो आसनसोल में ड्यूटी पर थे।

नवीन के संदेह से गहराया पुलिस का शक
इन पांच दिनों में नवीन ने करीब दो हजार कॉल की, लेकिन वो रिसीव नहीं हुई। इस दौरान उन्होंने कई परिचितों और रिश्तेदारों को फोन किया। पत्नी से बात न होने पर उन्होंने हर किसी से कहा कि लगता है बेटे ने अपनी मां को मार डाला। उनके इसी संदेह ने पुलिस को असमंज में डाल दिया है। मामले की जांच कर रहे पुलिस अफसरों का कहना है कि आखिर वो कौन सी बात थी, जिसकी वजह से घटना से पहले ही नवीन ने बेटे के इरादों को भांप लिया था।

नवीन से बात करने वालों की लिस्ट तैयार हो रही
पुलिस 3 जून से 7 जून के बीच नवीन से बातचीत करने वालों की लिस्ट तैयार कर रही है। इन सभी से एक-एक करके अकेले में पूछताछ की जाएगी। इसमें कुछ नवीन के रिश्तेदार और कुछ उसी यमुनापुरम कॉलोनी के रहने वाले हैं, जहां उनकी पत्नी बच्चों के साथ रहती थी। केस की जांच कर रहे इंस्पेक्टर देवेंद्र सिंह ने बताया कि साधना और आरोपी बेटे के पास अलग-अलग फोन थे। हालांकि, बेटे का फोन कुछ दिन पहले साधना ने छीन लिया था। मगर, सभी नंबरों की CDR के लिए पुलिस ने गुरुवार को टेलीकॉम कंपनियों को मेल किया है।

यह भी पढ़ें- लखनऊ में मां की हत्या, PUBG और गुमनाम किरदार:आरोपी बेटा बोला- घर पर एक व्यक्ति का आना पसंद नहीं था, विरोध पर भी मां नहीं मानी

मां-बेटे के फोन जांच के लिए भेजे गए फॉरेंसिक लैब
पुलिस ने साधना और आरोपी बेटे के फोन कब्जे में लेकर जांच के लिए फॉरेंसिक लैब में भेज दिए हैं। दरअसल, पुलिस पता लगा रही है कि फोन से कोई डेटा डिलीट किया गया है या नहीं। PUBG के कनेक्शन का पता लगाने के लिए भी पुलिस यह कदम उठा रही है। जांच में पता चलेगा कि फोन में कितने एप डाउनलोड हुए और क्या-क्या अनइंस्टॉल किया गया है।

यह भी पढ़ें- PUBG के लिए मां की हत्या:फौजी को बेटे पर शक था; 5 दिन में 2 हजार कॉल किए; घर जाता, लेकिन टिकट ही नहीं मिला

खबरें और भी हैं...