पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

UP में आज से BJP का चुनावी आगाज:PM मोदी के वाराणसी दौरे के साथ शुरू होगा चुनावी अभियान; अगले छह माह में मोदी के होंगे कार्यक्रम

लखनऊ17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

देव दीपावली के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को करीब 8 महीने बाद अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी आ रहे हैं। इस दौरान पीएम मोदी काशी को करीब 1500 करोड़ की योजनाओं की सौगात देंगे। प्रधानमंत्री वाराणसी में करीब 744.02 करोड़ की पूरी हो चुकी योजनाओं का लोकार्पण समेत 838.91 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास भी करेंगे।

काशी से होगा चुनावी आगाज

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक बार फिर मां गंगा का आशीर्वाद लेकर यूपी के महासंग्राम में चुनावी शंखनाद करने जा रहे हैं। इसके पहले भी पीएम मोदी गंगा के तट पर बसे शहरों से ही चुनावी अभियान शुरू करते रहे हैं। कहने को तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का वाराणसी दौरा सरकारी है पर मोदी काशी विश्वनाथ के दर्शन के साथ ही 1475 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का शुभारंभ कर यूपी में अपने चुनाव अभियान का आगाज करेंगे।

अपने दौरे से ठीक पहले पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि “15 जुलाई को में काशी में 1500 करोड़ रुपये से अधिक के विकास कार्यों की एक विस्तृत श्रृखंला का उद्घाटन करने के लिए मौजूद रहुंगा। यह विकास कार्य काशी और पूर्वांचल के लोगों के लिए बेहद ही लाभदायक साबित होंगे।”

बीजेपी के पूर्वांचल है बेहद खास
पीएम के इस ट्वीट में पूर्वांचल का जिक्र साबित करता है कि पार्टी का फोकस इस बार पूर्वांचल को लेकर है। इसके पीछे वजह भी बेहद साफ है। यूपी में सारे विरोधी भी पूर्वांचल में अपनी ताकत आजमा रहे हैं। अखिलेश यादव. प्रियंका गांधी और छोटे दल के साथ ओवैसी भी पूर्वांचल को अपना केंद्र बना चुके हैं। ऐसे में पार्टी एक बार फिर मोदी के जरीए पूर्वांचल को साधने की कवायद में जुट गई है। बीजेपी ने पूर्वांचल के अपने सबसे विश्वस्त साझेदार अपना दल को एक बार फिर अपने विश्वास में ले लिया और अनुप्रिया पटेल को मंत्री बनाया है। लेकिन पूर्वांचल से आने वाले संजय निषाद फिलहाल नाखुश हैं।भागीदारी मोर्चा के बैनर तले ओमप्रकाश राजभर भी पूर्वांचल को ही निशाना बना रहे है। क्योंकि यहां सबसे ज्यादा ओबीसी और अति पिछड़ी जातियां हैं।बीजेपी के खिलाफ बन रहा गठबंधन भी पूर्वांचल में सबसे ताकतवर दिख रही है।

चुनावी मोड में है भाजपा

पीएम के इस दौरे से पहले ही बीजेपी चुनावी मोड में आ चुकी है। पिछले एक महीने में सरकार के कामकाज और संगठन की तैयारियों को देखने से साफ समझ में आता है कि कोरोना की दूसरी लहर के खत्म होने से पहले ही पार्टी चुनावी चौसर तैयार करने में जुट गई है। मुख्यमंत्री से लेकर पार्टी के प्रदेश सरकार के तमाम मंत्री लगातार उद्घाटन और शिलान्यास के कार्यक्रम में जुट गये है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लागातार चल रहें विकास कार्यों की समीक्षा कर उसे तय समय से पहले पूरा करने के निर्देश दे रहें है। उप-मुख्यमंत्री केशव मौर्या भी हजारों करोड़ की सड़क परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्धाटन पिछले एक महिने में कर चुके है। संगठन भी लागातार सरकार के विकास कार्यों को जनता तक पहांने के लिए कार्यकर्ताओं को अभियान से जोड़ रहा है।

विकास कार्यो के जरीए पीएम मोदी की ब्रांडिग

कहा जा रहा है कि दिल्ली में सरकार संगठन और संघ की बैठक में इस बात की चर्चा हुई थी कि कोरोना के दूसरी लहर में मोदी की इमेज को काफी नुकसान पहुंचा है। लिहाजा पीएम मोदी के ईमेज बिल्डिंग को लेकर रणनीति तैयार की जाए। पार्टी सूत्रों की मानें तो इसी रणनीति के तहत सरकार और संगठन को जमीन पर उतर कर काम करने के लिए कहा गया था। संगठन को जिम्मेदारी दी गई थी, कि वो कोविड19 के दौरान अपनों को खो चुके लोगों के घरों में जाकर उनके जख्मों पर मरहम लगाएं। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने इसी के तहत यूपी के लगभग सभी जिलों में उन कार्यकर्ताओं के घर पहुंच रहें है जिन्होंने कोरोना काल में अपनों को खोया है।

हर महीने हो सकता है पीएम का दौरा
यूपी में विधान सभा चुनाव में करीब 6 महीने बाकी है। इन 6 महीनों में यूपी की सियासत को बदलने के लिए पीएम मोदी के लगातार दौरे हो सकते है। पार्टी के रणनीतिकारों ने तय किया है कि यूपी सरकार की बड़ी योजनाओं के उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा जैसे बड़े नेताओं का यूपी दौरा लागातर हो सकता है। योगी सरकार सूबे में 4 बड़े एक्सप्रेस-वे बना रही है। इनमें से तीन पर तेजी से काम हो रहा है। कहा जा रहा हैकि चुनाव से पहले प्रधानमंत्री इनका उद्घाटन कर सकते है।

  • पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य पूरा होने वाला है। यूपी के 9 जिलों से होकर गुजरने वाले 341 किमी. लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य लगभग 98 फिसदी हो चुका है। सरकार के इस ड्रीम पोरजेक्ट के पूरा होने से यूपी का पूर्वांचाल का हिस्सा देश की राजधानी से जुड़ जायेगा।कहा जा रहा है कि इसका उद्घाटन भी पीएम मोदी के हथों जल्द होगा।
  • बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य भी करीब 66 फीसदी हो चुका है। सरकार हर कीमत पर इसे चुनाव से पहले पूरा करना चाहती है। 296 किमी0 लंबी इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण के साथ ही बुंदेलखंड का इलाका विकास की रफ्तार में जुड़ जायेगा। पीएम मोदी इसका भी उद्घाटन कर सकते है।
  • गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे बनने के बाद गोरखपुर से लखनऊ आने-जाने के लिए एक और मार्ग तैयार हो जाएगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को गोरखपुर से जोड़ने के लिए गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे का निर्माण तेजी से हो रहा है और चुनाव से पहले इसे पूरा करने का लक्ष्य है।
  • गंगा एक्सप्रेसवे के लिए जमीनों का अधिग्रहण तेजी से हो रहा है। जुलाई के अंत तक बैनामे और भूमि अधिग्रहण का कार्य पूर्ण हो जाएगा।जनपद मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेसवे का काम विधानसभा चुनाव से पहले शुरू होना है।संभव है कि प्रधानमंत्री इसका शिलान्यास भी करें।
खबरें और भी हैं...