लखनऊ...IAS के निजी सचिव ने खुद को गोली मारी:सुसाइड नोट में बहन की ससुराल वालों को ठहराया जिम्मेदार, छुट्‌टी के दिन लाइसेंसी रिवाल्वर लेकर पहुंचा था सचिवालय, पत्नी बोलीं- घर में भी गुमसुम रहते थे

लखनऊ3 महीने पहले
बापू भवन में ये घटना हुई। कर्मचारियों में अफरा-तफरी का माहौल है।

लखनऊ में सोमवार को IAS ऑफिसर रजनीश दुबे के निजी सचिव विशंभर दयाल ने लाइसेंसी रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली। आत्महत्या का प्रयास हाई सिक्योरिटी जोन, उत्तर प्रदेश सचिवालय बापू भवन के 8वें फ्लोर के कमरा नंबर 824 में किया गया। उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यहां उनके परिजन भी मौजूद हैं। विशंभर के सिर में दाहिने तरफ गोली लगी है।

वहीं, पुलिस के हाथ घटनास्थ्ल से रिवाल्वर, खोखा व जिंदा कारतूस, मोबाइल फोन और एक सुसाइड नोट लगा है। पुलिस के मुताबिक, सुसाइड नोट में विशंभर ने बहन के ससुराली विवाद को तनाव का कारण बताया है। उधर, विशंभर की पत्नी का कहना है कि उन्हें दफ्तर के किसी विवाद की जानकारी नहीं है। वे बहन की ससुराल के विवाद से जरूर परेशान थे।

अपर मुख्य सचिव नगर विकास नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन विभाग में कार्यरत IAS रजनीश दुबे का कहना है कि विशंभर उनके साथ बीते 9 सालों से काम कर रहे हैं। वे बहुत ही शांत स्वभाव के हैं। वे खुद भी नहीं समझ पा रहे हैं कि ऐसा कैसे हुआ? विशंभर दुबे के साथ अलग-अलग विभागों में उनके निजी सचिव के तौर पर काम कर चुके हैं। उधर पुलिस के लिए सबसे बड़ा सवाल ये है कि सचिवालय में हथियार कैसे पहुंचा?

मोबाइल में खुद का बयान रिकॉर्ड किया?

पुलिस ने सचिवालय के 8वें फ्लोर के रूम नंबर 824 से पिस्टल और विशंभर का मोबाइल बरामद कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, विशंभर के सिर में दाहिने तरफ गोली लगी है। विशंभर का मोबाइल स्टैंड मोड में रखा हुआ था। आशंका है कि खुद को गोली मारने से पहले विशंभर ने वीडियो बयान बनाया है। हालांकि, अभी पुलिस ने मोबाइल को कब्जे में ले लिया है।

उधर, विशंभर के बगल वाले कमरे में काम कर रहे कर्मचारी से भी पूछताछ की जा रही है। घटना के दौरान 8वें फ्लोर पर विशेष सचिव नगर विकास संजय कुमार और उनके निजी सचिव एल एल गौतम भी मौजूद थे। संजय कुमार ही अपनी गाड़ी में विशंभर को अस्पताल ले गए।

सुसाइड नोट में बहन के ससुराल को ठहराया जिम्मेदार
उन्नाव जिले के थाना औरास में विशंभर दयाल की बहन का उसके ससुराल वालों के साथ विवाद चल रहा था, जिसमें मुकदमें दर्ज हुए थे। जिसके कारण वह तनाव में थे, इसी वजह से विशंभर दयाल ने सुसाइड का प्रयास किया गया।

सचिवालय की सुरक्षा पर उठे सवाल

विशंभर खुद के साथ सचिवालय रिवाल्वर भी लेकर गए थे। ऐसे में अब सचिवालय की सुरक्षा पर भी सवाल उठने लगे हैं। ये भी देखा जा रहा है कि क्या सचिवालय में प्रवेश से पहले कर्मचारियों और अन्य लोगों की जांच नहीं होती है? सचिवालय के जिस कमरे में गोली चली है, पुलिस ने उसे सील कर दिया है। फॉरेंसिक एक्सपर्ट इसकी जांच करेंगे।

पत्नी बोलीं- छोटी बहन के ससुराल के विवाद से थे परेशान

विशंभर की पत्नी गीता ने दैनिक भास्कर को बताया कि उन्नाव के बहादुरपुर में छोटी बहन लालता की ससुराल वालों से वे जरूर परेशान थे। उन लोगों ने एक बीघा जमीन विवाद को लेकर भांजों पर मुकदमा दर्ज करा दिया था। इनके खिलाफ भी शिकायत की गई थी। वे इस बात से चिंतित थे कि कहीं उनके खिलाफ भी एफआईआर दर्ज न हो जाए। पत्नी ने दफ्तर के किसी विवाद की जानकारी होने से इंकार किया है। उन्होंने 6 साल पहले लाइसेंसी पिस्टर ली थी। उधर, विशंभर के साले राकेश वर्मा का कहना है कि भांजे के खिलाफ केस दर्ज होने से वे परेशान थे। उन्होंने दफ्तर के किसी विवाद की कोई जानकारी कभी नहीं दी।

तस्वीरें देखें...

लोहिया अस्पताल में विशंभर का इलाज चल रहा है।
लोहिया अस्पताल में विशंभर का इलाज चल रहा है।
विशंभर की हालत गंभीर बताई जा रही है।
विशंभर की हालत गंभीर बताई जा रही है।
विशंभर दयाल के नाम का लगा बोर्ड। इसी कमरे में विशंभर ने खुद को गोली मार ली।
विशंभर दयाल के नाम का लगा बोर्ड। इसी कमरे में विशंभर ने खुद को गोली मार ली।
घायल अवस्था में विशंभर दयाल को लोहिया अस्पताल ले जाया गया है।
घायल अवस्था में विशंभर दयाल को लोहिया अस्पताल ले जाया गया है।
बापू भवन का परिसर। यहीं IAS ऑफिसर के निजी सचिव ने खुद को गोली मार ली है।
बापू भवन का परिसर। यहीं IAS ऑफिसर के निजी सचिव ने खुद को गोली मार ली है।
अस्पताल में विशंभर के साथी कर्मचारी भी पहुंचे।
अस्पताल में विशंभर के साथी कर्मचारी भी पहुंचे।
खबरें और भी हैं...