भाजपा का 'प्रोपेगेंडा' उजागर करेगा कांग्रेस का टॉस्क फोर्स:श्रमिकों को बताएंगे कोरोना काल में कैसे रोजगार छीने गए... धर्म-जाति के नाम पर समाज को बांटने की कोशिश हो रही

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर प्रियंका गांधी लखनऊ में पिछले दो दिनों से मैराथन बैठक कर रही है। इस दौरान अक्टूबर महीने के दूसरे सप्ताह में शुरु होने वाले अभियानों की तैयारियों के साथ ही संगठन को मजबूत करने और भाजपा को काउंटर करने की रणनीति भी तैयार हो रही है। ये तय हुआ है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं की एक टॉस्क फोर्स आम लोगों को यह बताएंगे कि कैसे रोजगार छीने गए। जानबूझकर उन मुद्दों को उठाया जा रहा है, जिससे धर्म के नाम पर वैमस्यता फैले।

प्रियंका गांधी ने मंगलवार को पार्टी की महाराष्ट्र इकाई के उपाध्यक्ष सचिन नाइक के नेतृत्व में एक "प्रशिक्षण टास्क फोर्स" का गठन किया है। पार्टी के एक सीनियर लीडर ने बताया कि यह टास्क फोर्स जिलों में हो रहे प्रशिक्षण शिविरों के दौरान अलग-अलग विषयों पर चर्चा करेगी और बीजेपी और आरएसएस की राष्ट्र विरोधी नीतियों के बारे में बताएगी।

भाजपा और संघ को काउंटर करेगा कांग्रेस का टास्क फोर्स

कांग्रेस के इस टास्क फोर्स को 'प्रशिक्षण टास्क फोर्स' नाम दिया गया है। दरअसल, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस का 'प्रशिक्षण से पराक्रम' महाभियान लगातार जारी है। इस प्रशिक्षण शिविर मे सात टीमें प्रशिक्षण के काम में लगी हुई हैं। प्रशिक्षण ले रहे पदाधिकारियों को कांग्रेस के इतिहास के साथ साथ संघ और भाजपा के अतीत, बूथ मैनेजमेंट और सोशल मीडिया के बेहतर इस्तेमाल पर प्रशिक्षण दिया इसी प्रशिक्षण के तहत 'प्रशिक्षण टास्क फोर्स' का गठन किया गया है। इसे भाजपा के झूठ और संघ के राष्ट्र विरोधी नीति का विरोध करने की जिम्मेदारी दी गई है। प्रशिक्षण शिविरों के दौरान श्रमिकों के साथ पांच अलग-अलग विषयों पर चर्चा करने के लिए टास्क फोर्स की अलग-अलग टीमों का गठन किया गया है। इसके लिए प्रशिक्षण सामग्री और किट तैयार किए जाएंगे।

पितृपक्ष के बाद कांग्रेस का चुनावी आगाज

उत्तर-प्रदेश में कांग्रेस पार्टी ने 'हम वचन निभाएगें' नाम से प्रतिज्ञा यात्रा को फिलहाल टाल दिया है। 12 हजार किमी की यह यात्रा गांधी जयंती के मौके पर 2 अक्टूबर से शुरु होने वाली थी। कहा जा रहा है कि कांग्रेस में इसको लेकर एक मत नही था। पार्टी के तमाम नेता इस तारीख को लेकर सहमत नही थे। हिंदू मान्यता के अनुसार पितृपक्ष में कोई भी शुभ कार्य शुरु नही किया जाता। लिहाजा पितृपक्ष में यह यात्रा नही शुरु होना चाहिए। लिहाजा अब पार्टी इसे नवरात्र के शुभ दिनों में इस यात्रा को शुरु करने की तैयारी कर रही है। कहा जा रहा है कि 7 अक्टूबर को प्रियंका गांधी मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से अपने चुनावी अभियान की आगाज करेंगी।

पार्टी के आम कार्यकर्ताओं से आज मिलेंगी प्रियंका

प्रियंका गांधी आज लखनऊ पार्टी कार्यालय में उन कार्यकर्ताओं और सामान्य लोगों से भी मुलाकात करेंगी, जो प्रियंका तक नही पहुंच पाते है। दरअसल, प्रियंका गांधी ज्यादातर दिल्ली में रहती है, लिहाजा आम कार्यकर्ता उन तक नही पहुंच पाता है। लखनऊ में भी उनका प्रवास छोटा होता है और तय कार्यक्रम के मुताबिक ही बैठकें होती रहती है। ऐसे में बहुत सारे आम कार्यकर्ता अपने प्रियंका से नही मिल पाता है। ऐसे लोगों से मिलने के लिए ही आज प्रियंका ने वक्त तय किया है। आज पार्टी दफ्तर में मुलाकात कर उनकी समस्याएं भी सुनेंगी और पार्टी की तैयारियों को लेकर फीडबैक भी लेंगी।

खबरें और भी हैं...