लखनऊ...चरस नहीं लाया था, इसलिए मारा डाला:प्रापर्टी डीलर के भाई ने कहा- होटल मालिक के बेटे ने नशा मंगाया था, नहीं लाने पर पीट-पीटकर मार डाला; पुलिस ने हत्या छिपाने की कोशिश की

लखनऊ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मृतक प्रापर्टी डीलर रजत के पिता ने 6 पर दर्ज कराई FIR

राजधानी लखनऊ में मंत्री आवास के सामने होटल मीना इन में हुई प्रॉपर्टी डीलर रजत सिंह सेंगर की हत्या में शनिवार रात विभूतिखंड पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। रजत के पिता हरि सिंह ने होटल मालिक प्रमोद गुप्ता के बेटे जतिन, अनमोल उनके दोस्त शलभ सिंह और तीन अन्य को नामजद किया है।

पिता हरि सिंह का आरोप है कि जतिन और अनमोल रजत से नशे का कारोबार करवाना चाहते थे। 27 अगस्त को उस पर चरस लाने का दबाव बनाया गया। इंकार करने पर होटल के कमरे में ही उनके बेटे को उसके दोस्तों ने पीट-पीटकर मार डाला और बीते शनिवार की शाम चुपके से शव को लोहिया अस्पताल की मोर्चरी में रखवाकर भाग गए। रविवार को विभूतिखंड पुलिस से रजत के मौत की जानकारी पिता और परिजनों को हुई थी।

वहीं, बड़े भाई देवेंद्र ने यह भी बताया कि होटल मीना इन में चल रहे नशे के इस कारोबार को संरक्षण देने के लिए विभूतिखंड पुलिस यहां से हर महीने ढाई से तीन लाख रुपए लेती है। यही वजह है की होटल में हुई रजत की हत्या को पुलिस छुपाने का प्रयास कर रही थी।

बेटे रजत की हत्या की तहरीर देते पिता हरि सिंह साथ में भाई देवेंद्र।
बेटे रजत की हत्या की तहरीर देते पिता हरि सिंह साथ में भाई देवेंद्र।

25 अगस्त से जतिन बुला रहा था
हरि सिंह का कहना है कि 25 अगस्त की रात से ही जतिन बार-बार कॉल करके उनके बेटे रजत को होटल बुला रहा था। 26 अगस्त की सुबह रजत घरवालों से झूठ बोलकर उसके पास होटल में गया। यहां नशे की पार्टी का इंतजाम था, जिसके लिए 4 कमरे बुक किए गए थे। उसी शाम से पार्टी शुरू हुई। 27 को जतिन, अनमोल, शलभ और उनके बाकी दोस्तों ने रजत से चरस और स्मैक लाने को कहा। उसने यह लाने से मना कर दिया। इस पर विवाद शुरू हो गया जो शाम तक काफी बढ़ गया। इसी दौरान सभी ने मिलकर रजत की हत्या कर दी।

पोस्टमार्टम में सिर पर मिला गहरा घाव, विसरा जांच के लिए भेजा गया
पोस्टमार्टम में रजत के सिर के दाहिने तरफ गहरे चोट के निशान मिले हैं। डॉक्टरों का कहना है कि किसी ब्लंट ऑब्जेक्ट (भारी वस्तु) से बगल से अचानक उसके सिर पर वार किया गया है। आंत में नीले रंग का कोई पदार्थ भी पाया गया। जिससे जहर दिए जाने की भी आशंका है। इसकी पुष्टि के लिए विसरा जांच के लिए भेजा गया है। डॉक्टरों का कहना है कि रजत खुद काफी नशे में था। इसलिए मारपीट के दौरान बचाव में ज्यादा विरोध नहीं कर पाया। यही वजह है कि शरीर पर बहुत ज्यादा चोट या खरोच नहीं आई है।

अपने बड़े भाई देवेंद्र (बाएं) के साथ मृतक रजत।
अपने बड़े भाई देवेंद्र (बाएं) के साथ मृतक रजत।

होटल मीना इन में रईसों को परोसा जाता है हर तरह का नशा
रजत के भाई देवेंद्र ने बताया कि अनमोल और जतिन ही होटल मीना इन का पूरा करोबार संभालते हैं। दोनों भाई शहर में मादक पदार्थों के सबसे बड़े सप्लायर हैं। इस होटल में हर तरह का नशा परोसा जाता है। इसलिए गोमतीनगर में रहने वाले ज्यादातर रईसों के लड़के यहां रूम बुक करवाकर ठहरते हैं। यहां बाहर से भी हाई-प्रोफाइल लोग केवल नशा करने ही आते हैं। रजत पहले इस होटल में चरस और अफीम की सप्लाई करता था। लेकिन परिवार के विरोध की वजह से काफी समय से इस धंधे से दूरी बनाकर प्रॉपर्टी का काम कर रहा था।

बाराबंकी से लाता था चरस और अफीम, पुलिस लेती है तीन लाख रुपए महीना
देवेंद्र ने बताया कि रजत बाराबंकी से चरस और अफीम लाकर होटल मीना में पहुंचाता था। कुछ महीने पहले उसने बाराबंकी के हैदरगढ़ में कुछ जमीन का एग्रीमेंट करवाया था। इसकी प्लाटिंग करके बेच रहा था। इसकी जानकारी होने पर जतिन फिर से चरस का धंधा शुरू करने के लिए रजत पर दबाव बना रहा था। इसके लिए ही उसे पार्टी में शामिल होने का झांसा देकर पार्टी में बुलाया था। देवेंद्र ने यह भी बताया कि होटल मीना इन में चल रहे नशे के इस कारोबार को संरक्षण देने के लिए विभूतिखंड पुलिस यहां से हर महीने ढाई से तीन लाख रुपए लेती है। यही वजह है की होटल में हुई रजत की हत्या को पुलिस छुपाने का प्रयास कर रही थी।

वारदात की जानकारी होते ही थाने से गायब हो गए थे थानेदार
देवेंद्र का कहना है कि 27 अगस्त की शाम रजत की हत्या करने के बाद आरोपियों ने सबसे पहले पुलिस को जानकारी दी। इस पर इंस्पेक्टर चंद्रशेखर किसी काम का बहाना बनाकर थाने से गायब हो गए और अपने भरोसेमंद पुलिसवालों को मामले को रफादफा करने की जिम्मेदारी सौंप गए। इसके बाद पुलिस ने घटना को छिपाने का तानाबाना बुना। पुलिस ने ही लोहिया अस्पताल की मोर्चरी के कर्मचारियों से बात करके रजत के शव की बिना नाम पता दर्ज करवाए लावारिस में एंट्री करवाई थी। इसीलिए शव को देर शाम होटल से निकाला गया था।

खबरें और भी हैं...