फर्जी प्रमाण-पत्र से शिक्षक की नौकरी दिलाने वाले तीन गिरफ्तार:साल्वर गैंग के सरगाना ने भी जूनियर हाईस्कूल में फर्जी प्रमाणपत्र से हासिल की थी नौकरी, सहयोगी प्राइमरी स्कूल का शिक्षक

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एसटीएफ की गिरफ्त में आरोपी। - Dainik Bhaskar
एसटीएफ की गिरफ्त में आरोपी।
  • प्रतियोगी परीक्षा कराने वाली कंपनी की मदद से टीजीटी/पीजीटी की परीक्षा कराते थे पास
  • प्रयाग राज परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के कर्मचारियों की भी मिली भगत के मिले प्रमाण

एसटीएफ ने फर्जी प्रमाण-पत्रों के आधार पर शिक्षकों की भर्ती कराने वाले साल्वर गैंग के सरगाना समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया। यह लोग प्रतियोगी परीक्षा केन्द्र का मैनेजमेंट व उसका रिजल्ट बनाने वाली कंपनी की मदद से टीजीटी/पीजीटी की परीक्षा भी पास कराते थे। इस पूरे खेल में प्रयागराज स्थित परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के कर्मचारियों की भी मिली भगत के प्रमाण मिले हैं। गिरोह के सरगना ने खुद भी फर्जी दस्तावेज से जूनियर हाई स्कूल में नौकरी हासिल की थी। वहीं उसका एक साथी प्राइमरी स्कूल में शिक्षक बना था। वहीं गिरफ्तार तीसरा सदस्य यह डाटा साफ्ट कंप्यूटर सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड का प्रोडक्शन में मैनेजर है।

एसटीएफ के डिप्टी एसपी प्रमेश कुमार शुक्ल की टीम ने शुक्रवार विभूतिखंड थानाक्षेत्र के पिकप भवन तिराहे के पास से साल्वर गैंग गिरोह को पकड़ा। गिरोह का मास्टर माइंड शिकोहाबाद का राम निवास उर्फ राम भईया है। वहीं गया चितरंजनपुर का संजय सिंह और आगरा के सिकंदरा का रविन्द्र कुमार गिरोह के सदस्य हैं। यह लोग फर्जी दस्तावेज से लोगों को शिक्षा विभाग में नौकरी दिलाते थे। यह लोग परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के लिपिक नरेन्द्र कनौजिया की मदद से फर्जी दस्तावेजों का सत्यापन कराते थे। नरेंद्र सत्यापन के नाम पर गिरोह से पचास हजार रुपये प्रति कंडीडेट के हिसाब से लेता था। विभाग के लोंगों की संलिप्तता के साक्ष्य एकत्र किए जा रहे हैं।
गिरोह के दो सदस्य देवरिया व कुशीनगर में फर्जी प्रमाण पत्र पर कर रहे नौकरी
एसटीएफ के मुताबिक गिरफ्तार राम निवास ने बताया कि देवरिया मे विनय तिवारी व कुशीनगर मे मनीष यादव फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर प्राईमरी अध्यापक के रूप मे तैनात है, वह भी विभिन्न यही काम करते हैं। इन लगों ने 2016 में 15 हजार प्राथमिक शिक्षक भर्ती में 15 लोगों की नियुक्ति का ठेका लिया था। जिसके लिए 90 लाख रूपये लिए थे। वह सभी नियुक्तियां जनपद देवरिया मे इनके माध्यम से हुई थी, लेकिन बाद में सभी को फर्जी नियुक्ति साबित होने पर निकाल दिया गया था। इसके बाद 2017 में 68500 और 2018 में 69000 प्राईमरी शिक्षको की भर्ती में दोबारा निकाले गए लोगों को भर्ती कराने की कोशिश शुरू कर दी थी।
चयनित अभ्यार्थियों की खाली सीट पर करते थे खेल
गिरफ्तार रामविलास के मुताबिक शिक्षा विभाग की बेवसाइट से 2017 व 2018 में दोनों बार चयनित होने वाले अभ्यार्थियों की सूची तैयार करते थे। जो उनके एक जगह पर ज्वाइनिंग के बाद खाली रह जाती थी। इसके बाद खाली पद से संबंधित अभ्यार्थी का नाम, पता, मार्कशीट आदि नेट से डाउनलोड कर प्रिन्ट करा लेते थे। फिर उसके नाम से फर्जी दस्तावेज तैयार कर नौकरी लगवा देते थे। यह दस्तावेज प्राइमरी स्कूल के शिक्षक नीरज और शिकोहाबाद तहसील तिराहे पर स्थित छोटू की शिवम फोटो स्टेट की दुकान से तैयार कराते थे।
इनकी हुई गिरफ्तारी

  • सरगना राम निवास उर्फ राम भईया, 276/सी, विजेन्द्र कालोनी, थाना शिकोहाबाद, जनपद फिरोजाबाद।
  • संजय सिंह , ग्राम चितरंजनपुर थाना गुरारू जिला गया बिहार। आजकल 521 राहुल बिहार गली नं0 11 थाना विजय नगर जनपद गाजियाबाद। यह डाटा साफ्ट कम्प्यूटर सर्विसेज प्रा0लि0 का प्रोडक्शन में मैनेजर है।
  • रविन्द्र कुमार, सिकन्दरा, म0नं0 16 गुलाटर इंक्लेव, सिकन्दरा, आगरा (फर्जी शिक्षक प्राथमिक विद्यालय बनकटा देवरिया)

यह हुई बरामदगी
आठ मोबाइल फोन, आठ चैक बुक, चार डेबिट कार्ड, तीन क्रेडिट कार्ड, तीन आधार कार्ड, पांच वोटर आईडी, सात पेन ड्राइव, 25 पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ, सात परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय से सम्बन्धित प्राईमरी अध्यापक का सत्यापन फार्म, राम निवास द्वारा हस्तलिखित व टाइपसुदा टीजीटी परीक्षा के 34 कंडीडेट की सूची, टीजीटी परीक्षा से संबंधित 26 कंडीडेट की टाइपसुदा सूची, खण्ड शिक्षाधिकारी द्वारा 26 जनवरी का जारी कारण बताओ नोटिस की मूल प्रति, सैलरी स्लिप संजय कुमार, 13 एडमिट कार्ड व परीक्षा मगध यूनिवर्सिटी बोधगया, बिहार के, बिहार लोकसेवा आयोग उत्तर पुस्तिका, परीक्षा नियंत्रक प्रार्थना-पत्र बोधगया यूनिवर्सिटी अभ्यर्थी माला कुमारी, 13 मगध यूनिवर्सिटी बोधगया, बिहार मार्कशीट स्टेटमेन्ट, मगध यूनिवर्सिटी बोधगया, बिहार बीएड द्वितीय वर्ष प्राप्तांक स्टेटमेंट, बोर्ड ऑफ हाईस्कूल एण्ड इण्टरमिडिएट एजूकेशन यूपी प्रयागराज अटेन्डेन्स चार्ट हाई स्कूल इग्जाम 2021 मय फोटो, 2.5 लाख रुपया खाते में।
इन जिलों में कराई फर्जी शिक्षकों की नियुक्ति
हरदोई मे 09, इटावा मे 10, अमेठी मे 05, गोण्डा मे 01, बलरामपुर मे 01, औरैया मे 01, जालौन मे 09, श्रावस्ती मे 08 तथा सीतापुर, हाथरस व प्रयागराज जनपदो मे लगभग 100 से अधिक प्राथमिक शिक्षकों को फर्जी रूप से नियुक्त कराई।

खबरें और भी हैं...