पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

UP की सभी तहसीलों में कल सपा का प्रदर्शन:अखिलेश यादव ने सभी MLC को चुनावी शंखनाद का मंत्र दिया; दो अहम पदों पर हुए बदलाव

लखनऊ23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मंत्री राजपाल कश्यप ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 2022 के चुनाव व कल होने वाले प्रदर्शन के संबंध में दिशा निर्देश दिए हैं। - Dainik Bhaskar
मंत्री राजपाल कश्यप ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 2022 के चुनाव व कल होने वाले प्रदर्शन के संबंध में दिशा निर्देश दिए हैं।

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी इलेक्शन मोड में आ गई है। अखिलेश यादव ने सपा दफ्तार में बुधवार को एमएलसी के साथ बैठक की। इस दौरान अखिलेश की पत्नी और पूर्व सांसद डिंपल यादव भी मौजूद रहीं। इस बैठक में पंचायत चुनाव में समाजवादी पार्टी के खराब प्रदर्शन को लेकर मंथन किया गया। साथ ही 15 जुलाई से तहसीलों पर होने वाले प्रदर्शन को लेकर रणनीति बनाई गई। इसे आमजन के बीच भाजपा के खिलाफ शंखनाद कहा जा रहा है।

मंत्री राजपाल कश्यप ने कहा, 2022 के चुनाव को लेकर या बैठक की गई। इस बैठक में कल होने वाले प्रदर्शन के संबंध में दिशा निर्देश दिए गए हैं। इस दौरान दो पदों पर नियुक्ति भी हुई है। मोहम्मद फहाद को समाजवादी युवजन सभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष और राष्ट्रीय सचिव की कमान उदय प्रकाश यादव को दी गई है।
रामगोपाल की मौजूदगी में बैठक हुई

यूपी विधानसभा चुनाव में अब छह महीने से कम समय रह गया है। पंचायत चुनाव में जनता से हुए चुनाव में पार्टी को मिली बढ़त से अखिलेश यादव काफी खुश हैं‚ मगर जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख चुनाव में सत्तारूढ़ दल भाजपा द्वारा अपनाए गए तरीके से सपा को मात जरूर मिली है। बावजूद इसके सपा नेतृत्व हताश नहीं है। लखीमपुर खीरी में पार्टी प्रत्याशी और उसकी प्रस्तावक महिला के साथ हुई अभद्रता को अखिलेश यादव ने ‘बहन' का अपमान करार देकर इसे भाजपा के खिलाफ चुनावी मुद्दे बना ड़ाला है। अब 15 जुलाई को तहसीलों पर सपा के होने वाले प्रदर्शन में भाजपा राज में महिलाओं के ‘चीरहरण' (खीरी की घटना) को प्रमुखता से उठाने की रणनीति है। ​​​​​​​
इन बिंदुओं पर हुई चर्चा

  • बैठक में कल होने वाले प्रदर्शन को प्रभावी ढंग से करने का लिया गया फैसला।
  • बेरोजगारी कानून व्यवस्था दलितों के साथ हो रहे अत्याचार जैसे मुद्दे पर सपा और होगी मुखर।
  • आरक्षण खत्म किया जा रहा, लोकतंत्र खतरे में है जैसे मुद्दे होंगे अहम।
  • 2022 में सपा की सरकार बनाने को लेकर जिम्मेदारी सौंपी गई।
  • जातिगत क्षेत्रवार लोगों को जिम्मेदारी सौंपी गई।

मंगलवार को भी हुई थी बैठक
पार्टी के प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव सोमवार को ही लखनऊ आ गए थे। अखिलेश यादव मंगलवार को दिल्ली में थे। ऐसे में प्रो. रामगोपाल ने पार्टी मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम के साथ कई घंटे तक पार्टी संगठन से लेकर विधानसभा चुनाव के प्रत्याशी चयन पर चर्चा की। इसी कड़़ी में प्रो.यादव की मंगलवार को सपा अध्यक्ष के साथ लंबी बैठक हुई। आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी की रणनीति‚ चुनावी मुद्दों के साथ ही सपा एमएलसी को भी चुनाव मैदान में उतारने पर मंथन हुआ। डिम्पल यादव ने भी प्रदेश में महिलाओं के साथ हुई घटनाओं को अपने विचार रखे और उन्हें चुनावी मुद्दों में शामिल करने की बात कही।

खबरें और भी हैं...