• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Samyukta Kisan Morcha Said That We Will Celebrate Martyr Kisan Diwas All Over The Country, Burning Effigies Of PM And Home Minister On Dussehra

12 अक्टूबर के पूरे प्रदेश में निकलेगा कैंडिल मार्च:एसकेएम ने कहा कि पूरे देश में हम शहीद किसान दिवस मनाएंगे, दशहरे पर पीएम और गृह मंत्री का पुतला दहन होगा

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
किसान मोर्चा पूरे देश में मनाया जाएगा शहीद किसान दिवस। - Dainik Bhaskar
किसान मोर्चा पूरे देश में मनाया जाएगा शहीद किसान दिवस।

लखीमपुर में मारे किए किसानों की याद में 12 अक्टूबर को संयुक्त किसान मोर्चा पूरे देश में 'शहीद किसान दिवस' मनाएगा। एसकेएम ने उत्तर प्रदेश और पूरे देश के किसानों से 12 अक्टूबर को तिकोनिया, लखीमपुर खीरी में अंतिम अरदास (भोग) में शामिल होकर शहीद किसानों को श्रद्धांजलि देने की अपील की। इस दौरान गुरुद्वारा, मंदिर, मस्जिद, चर्च या किसी सार्वजनिक स्थान, टोल प्लाजा या मोर्चा पर विशेष प्रार्थना सभा या श्रद्धांजलि सभा होगी। 12 की शाम को पूरे देश में कैंडल मार्च निकाला जाएगा।

संयुक्त बयान में किसान नेताओं ने बताया है कि 11 अक्टूबर तक किसानों की मांगें पूरी नहीं होने पर एसकेएम देशव्यापी विरोध कार्यक्रम की शुरुआत करेगा। शहीद किसानों की अस्थियां लेकर लखीमपुर खीरी से यूपी के सभी जिलों और देश के सभी राज्यों में अस्थि कलश लेकर शहीद किसान यात्रा निकाली जाएगी। यात्रा का समापन प्रत्येक जिले/राज्य के किसी पवित्र या ऐतिहासिक स्थान पर होगा।

दशहरे में मोदी और शाह का पुतला दहन

दशहरे के दिन संयुक्त किसान मोर्चा ने तय किया है कि पूरे देश में पीएम नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को पुतले जलाए जाएंगे। 18 अक्टूबर को सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक रेल रोको का आयोजन होगा। वहीं, 26 अक्टूबर को किसान मोर्चा पहले ही उप्र की राजधानी लखनऊ में किसान महापंचायत बुलाने का ऐलान कर चुका है।

11 को प्रयागराज में होगी पंचायत

मोर्चा के नेताओं ने बताया कि प्रयागराज जिले के ग्राम उधागी में सोमवार को होगी। यह पंचायत न केवल 3 किसान विरोधी कानूनों को निरस्त करने और लखीमपुर खीरी किसान हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग करेगी। बल्कि पत्थर खदान श्रमिकों, रेत श्रमिकों की आजीविका के मुद्दों को भी उठाएगी और प्राकृतिक संसाधनों पर माफिया नियंत्रण का विरोध करेगी।

खबरें और भी हैं...