सचिव ने ही कराया था UP-TET का पेपर लीक:पास मिले दस्तावेजों से भूमिका का पता चला, निलंबन के 12 घंटे बाद हुए गिरफ्तार

लखनऊ10 महीने पहले

यूपी TET (शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021) का पेपर लीक होने के मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय को यूपी STF ने गिरफ्तार किया। एडीजी एलओ प्रशांत कुमार ने बताया कि पूछताछ में पता चला कि प्रश्नपत्र लीक कराने में इनकी संलिप्तता थी। अब तक 34 लोग पकड़े गए हैं। इनके पास से मिले दस्तावेजों से साफ हो गया कि ये प्रश्नपत्र परीक्षा में आने वाले थे।

मंगलवार को संजय उपाध्याय को सस्पेंड किया गया था। संजय पर ही परीक्षा कराने की जिम्मेदारी थी। सरकार ने पेपर लीक होने में उनकी बड़ी चूक मानी है। बता दें कि सचिव संजय उपाध्याय ने पेपर लीक होने के बाद बयान दिया था कि वह FIR कराएंगे, लेकिन खुद में कार्रवाई की जद में आ गए।

सस्पेंड रहने के दौरान संजय उपाध्याय को लखनऊ में यूपी बेसिक शिक्षा निदेशक के कार्यालय से अटैच करने के निर्देश दिए थे। इससे पहले STF ने एग्जाम का पर्चा छापने वाली कंपनी के मालिक राय अनूप प्रसाद को दिल्ली से गिरफ्तार किया था। इस मामले में यूपी STF अभी और गिरफ्तारी कर सकती है।

गोरखपुर का रहने वाला प्रिंटिंग प्रेस मालिक

थाना सूरजपुर में STF ने 5 प्रिंटिंग प्रेस के मालिकों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया
थाना सूरजपुर में STF ने 5 प्रिंटिंग प्रेस के मालिकों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया

SP राजकुमार मिश्रा ने बताया कि राय अनूप प्रसाद का दिल्ली के ओखला में प्रिंटिंग प्रेस है। वह मूल रूप से गोरखपुर के रहने वाला है। दरअसल, थाना सूरजपुर में STF ने 5 प्रिंटिंग प्रेस के मालिकों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया है। जांच में पता चला है कि कोलकाता, नोएडा, दिल्ली में स्थित कई प्रिंटिंग प्रेस में TET की परीक्षा के प्रश्न पत्र छपवाए गए थे। इससे पहले बागपत से भी एक आरोपी को STF ने गिरफ्तार किया है।

तैनाती के समय में यह पहली परीक्षा कराई गई
16 जून को गौतमबुद्ध नगर डायट के प्राचार्य संजय कुमार उपाध्याय का तबादला प्रभारी निदेशक राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान प्रयागराज के पद पर किया गया है। उन्हें परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया हैं। इसके तैनाती के समय में यह पहली परीक्षा कराई गई हैं।

खबरें और भी हैं...