जानेमाने पत्रकार कमाल खान का निधन:61 साल के खान की सुबह 5 बजे हार्ट अटैक से मौत, देर रात तक की थी रिपोर्टिंग

लखनऊ6 दिन पहले

लखनऊ में NDTV के वरिष्ठ पत्रकार कमाल खान का हार्ट अटैक से निधन हो गया है। लखनऊ की बटलर पैलेस कॉलोनी में रहने वाले खान लंबे समय से टीवी पत्रकारिता में थे। उन्होंने देर रात तक रिपोर्टिंग की। सुबह अचानक उनकी तबीयत बिगड़ी और थोड़ी देर बाद उनकी मौत हो गई। बताया गया है कि हार्ट अटैक से उनका निधन हुआ।

61 साल के कमाल बीते 3 दशकों से पत्रकारिता में थे। 22 साल से वे NDTV से जुड़े थे। उनकी पत्नी रुचि भी लखनऊ में एक न्यूज चैनल ब्यूरो हेड हैं। साथी पत्रकारों ने बताया कि गुरुवार शाम के 7 बजे और रात 9 बजे के प्राइम टाइम में उनकी खबरें चली थीं। प्राइम टाइम शो को होस्ट कर रहीं नगमा ने बताया कि कांग्रेस के 150 उम्मीदवारों की सूची पर कमाल खान ने बात की थी। खान ने कहा था कि प्रियंका का यह फैसला लंबे समय तक असर डालेगा।

नगमा ने बताया कि रात में जब वे कमाल से शो पर बात कर रही थीं, तो उनकी सेहत बिल्कुल ठीक लग रही थी। वे अपनी सेहत को लेकर काफी सतर्क रहते थे। उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि चंद घंटे बाद अब उनकी आवाज सदा के लिए गुम हो गई। उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि कमाल उनके बीच नहीं रहे।

योगी आदित्यनाथ और अखिलेश ने दुख जताया

कमाल की निधन की सूचना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव व अन्य नेताओं ने भी दुख जाहिर किया है। CM योगी ने कहा कि यह पत्रकारिता की अपूरणीय क्षति है। कमाल चौथे स्तंभ और निष्पक्ष पत्रकारिता के एक मजबूत प्रहरी थे। परवर दिगार उनकी आत्मा को शांति दे।

बसपा प्रमुख मायावती ने भी कमाल खान के असामयिक निधन पर संवेदना प्रकट की है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी कमाल खान के निधन पर संवेदनाएं प्रकट की है। उन्होंने लिखा है कि कुछ दिन पहले उनकी कमाल से मुलाकात हुई थी।

पत्रकारों ने कहा- नहीं भूल पाएंगे
पत्रकारों ने कहा कि कमाल खान का निधन बेहद कष्टप्रद है। उनका ना रहना पत्रकारिता जगत के लिए बहुत क्षति है। देर रात तक वो दायित्वों का निर्वहन करते रहे। सबसे वरिष्ठ होने के बाद भी उन्होंने फील्ड रिपोर्टिंग कभी नहीं छोड़ी। खबर पेश करने का उनका अंदाज देशभर में पत्रकारों को प्रेरित करता था। उन्हें कभी नहीं भूल पाएंगे।

खबरें और भी हैं...