लखनऊ में मुनव्वर राना पर केस दर्ज:तालिबान के समर्थन में बयानबाजी में फंसे शायर, अखिल भारत हिंदू महासभा ने दर्ज कराया केस; रासुका के तहत कार्रवाई भी मांग

लखनऊ3 महीने पहले

तालिबान के समर्थन में बयानबाजी करने वाले मशहूर शायर मुनव्वर राना कानूनी दावपेंच में फंस गए। अखिल भारत हिंदू महासभा ने शुक्रवार को उनके खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में केस दर्ज करवाया है। इंस्पेक्टर श्याम बाबू शुक्ला का कहना है कि रिपोर्ट दर्ज कर जांच की जा रही है।

अखिल भारत हिंदू महासभा के अध्यक्ष शिशिर चतुर्वेदी का कहना है कि मुनव्वर राना ने तालिबान की तुलना रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि से करके हिंदुओं की भावनाओं को आहत किया है। जिस तरह मोहम्मद साहब और कुरान पर टिप्पणी मुस्लिमों की भावनाओं को आहत करता है, उसी तरह कट्टर व चरमपंथी तालिबानियों की तुलना हिंदुओं के आराध्य महर्षि से करके मुनव्वर राना ने अपराध किया है। शिशिर ने सरकार से मांग की है कि मुनव्वर राना के खिलाफ रासुका की कार्रवाई भी की जाए।

RSS और बजरंग दल से भी की थी तुलना
इससे पहले मुनव्वर राना ने गुरुवार को अफगानिस्तान के हालात को भारत से बेहतर बताया था। राना ने तालिबान की तुलना RSS, BJP और बजरंग दल से की थी। मुनव्वर राना ने कहा था कि अफगानिस्तान से ज्यादा क्रूरता तो हिंदुस्तान में है। अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा उसका अंदरूनी मसला है। तालिबानी-अफगानी जो भी हैं, जैसे भी हैं, सब एक हैं। जैसे हमारे यहां बजरंग दल, BJP और RSS सब एक हैं। एक हजार साल पुराना इतिहास उठाकर देख लीजिए, अफगानियों ने कभी हिंदुस्तान को धोखा नहीं दिया है।

राना के बयान से दलित समाज में उबाल
अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल ने भी महर्षि वाल्मीकि पर मुनव्वर राना की टिप्पणी पर आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि इससे दलित समाज में काफी उबाल है। महासभा के महामंत्री अमरनाथ प्रजापति ने भी राना के खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में तहरीर दी है।

खबरें और भी हैं...