• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Shivpal Singh Yadav Reached Jaswant Nagar Said Swami Prasad Maurya's Own Personal Statement, The Party Has Nothing To Do With It, This Statement Is Not Of The Party

शिवपाल बोले- स्वामी के बयान से पार्टी का लेना-देना नहीं:हम राम और कृष्ण के आदर्शों पर चलने वाले लोग हैं; लखनऊ में दर्ज हुई FIR

लखनऊ4 दिन पहले

स्वामी प्रसाद मौर्य के रामचरित मानस को लेकर दिए विवादित बयान से सपा ने पल्ला झाड़ लिया है। मंगलवार को जसवंतनगर पहुंचे शिवपाल यादव ने कहा, "रामचरित मानस पर दिया गया स्वामी प्रसाद मौर्य का बयान उनका व्यक्तिगत है। इसका सपा की विचारधारा से कोई लेना-देना नहीं है। हम राम और कृष्ण के आदर्शों पर चलने वाले लोग हैं।" बताया जा रहा है कि अखिलेश यादव भी स्वामी प्रसाद के बयान से नाराज हैं। वह एक-दो दिन में इस मसले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं।

शिवपाल यादव ने इस दौरान भाजपा पर भी निशाना साधा। उन्होंने मीडियाकर्मियों से पूछा, क्या बीजेपी अपने वचनों पर चल रही है? इसके बाद उन्होंने रामायण की एक चौपाई-रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाए पर वचन ना जाए...सुनाई। उन्होंने कहा कि भगवान कभी झूठ नहीं बोलते हैं। भाजपा पर तंज कसते हुए कहा- ये लोग तो भगवान राम को ही बेच रहे हैं।

उधर, लखनऊ के हजरतगंज थाने में स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ FIR दर्ज की गई है। इसकी तहरीर हिंदू महासभा ने दी थी।

'चुनाव में बीजेपी को भगाना है, सपा को लाना है'
जसवंतनगर से विधायक शिवपाल सिंह ने इटावा के चोगुर्जी स्थित आवास पर कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। इसी दौरान उन्होंने मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि हर जगह समाजवादी पार्टी से लोग जुड़ रहे हैं। जनाधार बढ़ता जा रहा है। भाजपा के खिलाफ माहौल बन गया है। आगामी चुनाव में भाजपा को भगाना है। सपा को लाना है।

SP के प्रवक्ता ने कहा- आस्था पर सवाल नहीं उठाना चाहिए

इससे पहले सपा के प्रवक्ता आईपी सिंह ने भी मौर्य के बयान पर कहा था, "आस्था पर सवाल नहीं होते, चाहे किसी भी धर्म के अनुयायी हो। रामचरित मानस पर सवाल उठाना गलत है।" वहीं, सपा के वरिष्ठ नेता मनोज पांडेय ने कहा, "रामचरितमानस आस्था का केंद्र है।"

काशी में स्वामी प्रसाद की सद्बुद्धि के लिए हनुमान चालीसा पढ़ी

वाराणसी के मंशापूर्ण हनुमान मंदिर में 100 से ज्यादा महिला और पुरुष भक्तों ने मौर्य की सद्बुद्धि की कामना की।
वाराणसी के मंशापूर्ण हनुमान मंदिर में 100 से ज्यादा महिला और पुरुष भक्तों ने मौर्य की सद्बुद्धि की कामना की।

काशी में मौर्य की सद्बुद्धि के लिए हनुमान चालीसा का पाठ किया गया। मंगलवार को मंशापूर्ण हनुमान मंदिर में 100 से ज्यादा महिला और पुरुष भक्तों ने हनुमान जी से प्रार्थना की कि ऐसे नेताओं की बुद्धि दुरुस्त हो। हाथों में पोस्टर और पंपलेट लेकर सनातन धर्म का विरोध बंद करने वालों के खिलाफ नाराजगी जाहिर की। जय हनुमान के जयघोष लगाए। कहा कि विरोधी पहले गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित 'श्रीरामचरित मानस' को पढ़कर उसका भावार्थ समझें। फिर, टिप्पणी नहीं करेंगे।

वाराणसी के हनुमान मंदिर में स्वामी प्रसाद मौर्य का विरोध और उनकी सद्बुद्धि की कामना करते लोग।
वाराणसी के हनुमान मंदिर में स्वामी प्रसाद मौर्य का विरोध और उनकी सद्बुद्धि की कामना करते लोग।

'श्रीरामचरित मानस पर टिप्पणी बर्दाश्त नहीं'
इस दौरान लोगों ने कहा कि सनातन धर्म पर प्रहार के खिलाफ हम लोग मंगलवार को हनुमान मंदिर में इकट्ठा हुए हैं। भगवान से प्रार्थना की कि ऐसी आपत्तिजनक टिप्पणी करने वालों को सद्बुद्धि मिले। हिंदू सनातन धर्म 'श्रीरामचरित मानस' पर कोई भी टिप्पणी बर्दाश्त नहीं कर सकते।

वाराणसी के मंशापूर्ण हनुमान मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति के सामने पोस्टर रखा और सद्बुद्धि की कामना की।
वाराणसी के मंशापूर्ण हनुमान मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति के सामने पोस्टर रखा और सद्बुद्धि की कामना की।

जगतगुरु रामभद्राचार्य बोले- सठिया गए हैं मौर्य
चित्रकूट के तुलसी पीठाधीश्वर स्वामी जगतगुरु रामभद्राचार्य ने कहा कि मौर्य सठिया गए हैं। उन्होंने कहा कि मौर्य जैसे लोग, जिनको करिया अक्षर भैंस बराबर सुन्ना जैसे पड़वा भी नहीं आता। वह रामचरितमानस पर क्या टिप्पणी करेंगे।

चित्रकूट के तुलसी पीठाधीश्वर स्वामी जगतगुरु रामभद्राचार्य।
चित्रकूट के तुलसी पीठाधीश्वर स्वामी जगतगुरु रामभद्राचार्य।

राजनीति के चक्कर में अपने ही धर्म पर सवाल?
सोमवार को भी वाराणसी में अलग-अलग जगहों पर स्वामी प्रसाद मौर्य के विरोध में प्रदर्शन हुए। अखिल भारतीय अखाड़ा संत समिति के महामंत्री से लेकर आम हिंदू संगठनों ने विरोध जताया था।

वाराणसी में स्वामी प्रसाद मौर्य का रावण रूपी 10 सिर वाला पुतला फूंका।
वाराणसी में स्वामी प्रसाद मौर्य का रावण रूपी 10 सिर वाला पुतला फूंका।

स्वामी प्रसाद का पुतला दहन किया
वाराणसी के नदेसर स्थित विवेकानंद प्रतिमा के सामने भी स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ जमकर नारेबाजी और विरोध-प्रदर्शन हुआ। स्वामी प्रसाद का 10 सिर वाला रावण रूपी पुतला दहन किया। इस दौरान लोगों ने स्वामी प्रसाद मौर्य मुर्दाबाद के नारे लगाए।

अब आपको स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान के बारे में बताते हैं...

रामचरित मानस बकवास, बैन लगना चाहिए: सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य

स्वामी प्रसाद मौर्य ने रविवार को रामचरित मानस को लेकर विवादित बयान दिया था। मौर्य ने रविवार को कहा- कई करोड़ लोग रामचरित मानस को नहीं पढ़ते। यह तुलसीदास ने अपनी खुशी के लिए लिखा है। सरकार को रामचरित मानस के आपत्तिजनक अंश हटाना चाहिए या इस पूरी पुस्तक को ही बैन कर देना चाहिए। मौर्य ने आगे और क्या कहा, सिलसिलेवार पढ़ें...