• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • UP Election News Updates: Akhilesh Yadav's Press Conference After The Release Of The BJP's Candidate List Said Whoever BJP Wants To Cut The Ticket, Now We Will Not Take Anyone In The SP

सपा में अब किसी की एंट्री नहीं:अखिलेश ने कहा- भाजपा चाहे जिसका टिकट काटे, हम नहीं लेंगे; योगी का इस बार घर जाना तय

लखनऊ7 दिन पहले

लखनऊ में शनिवार को अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। भाजपा की लिस्ट जारी होने के बाद अखिलेश ने कहा कि भाजपा ने योगी को घर भेज दिया है। उनका गोरखपुर जाना तो पहले से ही तय था, इसीलिए वहां से भाजपा ने टिकट दे दिया। अब वह भाजपा के किसी भी विधायक को पार्टी में नहीं लेंगे। भाजपा चाहे अब जिसका टिकट काटे, हम किसी को पार्टी में नहीं लेंगे।

सभी कार्यकर्ता अपने क्षेत्र में जाएं
अखिलेश ने कहा कि आज पार्टी कार्यालय में नोटिस लगाई गई है। कार्यकर्ताओं से अपील है कि कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें। सभी कार्यकर्ता, नेता अपने क्षेत्र में जाएं। लखनऊ में किसी को रहने की जरूरत नहीं है। समाजवादी पार्टी गठबंधन के साथ 80% जनता है।

चंद्रशेखर के सवाल पर उन्होंने कहा कि आरएलडी से बात करके उनको दो सीट दे दी गई थी। इसमें गाजियाबाद की सीट थी। लेकिन, उन्होंने किसी से फोन पर बात की और कहा कि उनका संगठन उनको इसकी इजाजत नहीं देता है।

यह भी पढ़े: चंद्रशेखर बोले- अखिलेश ने मेरा अपमान किया:जैसे बीजेपी दलितों के यहां खाना खाकर खेल कर रही है, अखिलेश भी उसी राह पर, उन्हें दलितों की जरूरत नहीं

सपा जल्द जारी करेगी मेनिफेस्टो
अखिलेश ने कहा कि वह जल्द ही मेनिफेस्टो लेकर आएंगे। एक प्रगतिशील मेनिफेस्टो होगा, जिसमें प्रदेश के स्वास्थ्य और शिक्षा संबंधित सारी मुद्दों पर बात होगी। गोरखपुर में इस बार समाजवादी पार्टी सभी सीटें जीतने जा रही है। ऐसा मुख्यमंत्री जो घोषणा कर गोरखपुर में मेट्रो न चला पाया हो, वहां की जनता उनको स्वीकार नहीं करेगी।

मुफ्त बिजली की बातें भाजपा के लोगों के मुंह से अच्छी नहीं लगती हैं। क्योंकि उनके मुख्यमंत्री ने साढ़े 4 साल में एक भी बिजली कारखाना नहीं दिया। हमने बिजली के मुद्दे पर जो भी फैसला लिया उसमें पूरा होमवर्क किया है। उत्तर प्रदेश को पूरी बिजली दी जा सकती है।

गरीबों को फ्री इलाज मिले
समाजवादी पार्टी की कोशिश होगी कि यूपी में ज्यादा से ज्यादा गरीबों को फ्री इलाज मिले। हम को यह नहीं पता कि पार्टी कार्यालय के अंदर धारा 144 कब लागू हुई थी। अगर पार्टी कार्यालय के अंदर धारा 144 लागू होती है तो आज फिर एफआईआर हो जानी चाहिए थी। वर्चुअल रैली की परिभाषा हमें पता नहीं थी। जब तक लीडर के सामने माइक और कुछ लोग न हो वह भाषण नहीं दे पाता है।

खबरें और भी हैं...