प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का BJP पर वार:अजय लल्लू बोले- UP में कुपोषण के चलते हर 10 में 4 बच्चों में गंभीर समस्या, लखनऊ में 17.09% बच्चे शिकार

लखनऊ6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लल्लू बोले- भाजपा सरकार के 2022 में कुपोषण पर विजय प्राप्त करने का दावा फेल। - Dainik Bhaskar
लल्लू बोले- भाजपा सरकार के 2022 में कुपोषण पर विजय प्राप्त करने का दावा फेल।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने भाजपा की योगी आदित्यनाथ सरकार की कुपोषण संकट से बच्चों को बचाने की नीति पर सोमवार को हमला बोला। उन्होंने कहा कि देश में सर्वाधिक 46 प्रतिशत कुपोषित बच्चे उत्तर प्रदेश में होना यह साबित करता है कि योगी सरकार का पोषण मिशन कागजों पर है। जमीनी सच्चाई से उसका कोई लेना-देना नहीं है। उन्होने कहा कि 6 माह से 6 साल तक के बच्चों में कुपोषण की 46 फीसद दर से यह समझा जा सकता है कि सरकार का पोषण मिशन पूरी तरह भ्रष्टाचार का शिकार हो चुका है। जिसके कारण प्रतिदिन लगभग 700 बच्चे असमय सरकारी लापरवाही के चलते मौत के मुंह में जा रहे है और सरकार अपने गाल बजाने में मस्त है।

10 में से 4 बच्चे गंभीर अतिकुपोषित
अजय लल्लू ने कहा कि ताजा आंकड़े दिल की धड़कनों को बढ़ाने के लिए पर्याप्त हैं कि शिशु मृत्यु दर में यूपी देश में पहले पायदान पर खड़ा है। यह विकास की गाथा की झूठी कहानी बता रहा है, जबकि जमीनी सच यह है कि कुपोषण के चलते हर 10 में 4 बच्चे गंभीर रूप से अतिकुपोषित है। जिसके कारण उनके शारीरिक विकास में भी बाधा आती है।

2022 में कुपोषण पर विजय प्राप्त करने का दावा फेल
उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि डिजे बाल्टी एडजस्टमेंट लाइफ ईयर्स की रिपोर्ट के अनुसार, सवार्धिक कुपोषण यूपी के बच्चों में पाया जाना चिंताजनक है। यही नहीं नेशनल न्यूट्रिशन मिशन की रिपोर्ट कहती है कि यूपी की योगी आदित्यनाथ की सरकार के दावे (2022 तक कुपोषण पर विजय प्राप्त कर लेंगे) को उसने पूरी तरह खारिज कर दिया है। साथ ही कहा है कि जिस तरह राज्य सरकार के स्तर पर लापरवाही बरती गई है, उसके कारण यह सम्भव नहीं है। उन्होंने कहा कि जच्चा को पोषण युक्त आहार न मिलने का कारण गर्भ में ही बच्चे कुपोषित होने को विवश है।

केवल लखनऊ में 17.09% बच्चे कुपोषण के शिकार
कांग्रेस अध्यक्ष अजय लालू ने कहा कि दूसरी तरफ बच्चे जन्म के बाद पुष्टाहार की सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित है। जिसके चलते प्रतिदिन औसतन 700 बच्चों की मौतें हो रही हैं। इन मौतों के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि लखनऊ में ही 17.09% बच्चे कुपोषण के शिकार हैं तो अन्य जनपदों व दूरस्थ ग्रामीण इलाकों की तस्वीर कितनी भयावह होगी। उसके बाद भी राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार झूठे आंकड़ों की बाजीगरी के खेल के माध्यम से जनता को गुमराह करती है।

खबरें और भी हैं...