पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेरा बेटा बेकसूर है...:आतंकी आमिर की मां ने आरोपों को बताया फर्जी, कहा 2003 के बाद परिवार का सदस्य नहीं गया साऊदी

लखनऊ13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आतंकी आमिर की मां रूमाना - Dainik Bhaskar
आतंकी आमिर की मां रूमाना
  • 1995 से 2003 तक पूरा परिवार था जद्दा में, पिता एक नामी कंपनी में थे प्रबंधक
  • बाबा आरपीएफ में थे इंस्पेक्टर, आमिर ने नदवा में की थी अपनी पढ़ाई

लखनऊ में मंगलवार को पकड़े गए आतंकी मो. आमिर जावेद की मां रुमाना ने कहा कि बेटा बेकसूर है, उसको फसाया जा रहाहै। आमिर साऊदी में आठ साल रहा। जब उसकी उम्र पांच से 13 साल के बीच की थी। 2003 के बाद परिवार का कोई सदस्य साऊदी नहीं गया। रुमान ने बताया कि 1990 में आमिर का जन्म हुआ था। आमिर के पिता असलम जावेद ने अलीगढ़ मुस्लिम विवि से एमबीए किया था। उनकी नौकरी जद्दा में हिंदुस्तान यूनीलीवर कंपनी में मैनेजर पद पर लग गई थी। जिसके चलते पूरा परिवार 1995 से 2003 तक जद्दा में रहा। वहीं 2003 में लौटने के बाद आमिर की 2013 में नदवा से अपनी पढ़ाई पूरी की। आजकल आमिर कुर्सी रोड पर स्थित एक नामी शापिंग माल के स्लाटर हाउस में सुपरवाइजर था। उन्होंने बताया कि उनके ससुर व आमिर के बाबा मो. रियाज बेग आरपीएफ में इंस्पेक्टर थे।

भाईयों से 14 घंटे पूछताछ, मोबाइल जब्त

एटीएस की कार्रवाई के विषय में जानकारी देते आतंकी आमिर के परिजन।
एटीएस की कार्रवाई के विषय में जानकारी देते आतंकी आमिर के परिजन।

आमिर के भाई अब्दुल्ला और जावेद के मुताबिक मंगलवार सुबह सात बजे एटीएस टीम अपने साथ ले गई और रात नौ बजे के करीब छोड़ा। टीम ने मोबाइल फोन अपने पास रख लिए। साथ ही शहर न छोड़ने की बात कही। अब्दुल्ला का आरोप है कि एक दरोगा ने उससे धार्मिक कमेंट करते हुए आमिर को जेल भेजने की बात कही।
पत्नी व दुधमुंहे बच्चे को लेकर परेशान
आमिर की दो साल पहले ही शादी हुई थी। भाई जावेद के मुताबिक आमिर की गिरफ्तारी के बाद भाभी का रो-रोकर बुरा हाल है। जिससे दो माह का भतीजा भी सही से देखभाल न होने से बेहाल है।

खबरें और भी हैं...