लखीमपुर हिंसा का अनकट VIDEO:90 की स्पीड से किसानों को रौंदते निकली थी थार जीप, पीछे से गुजरीं इनोवा और स्कॉर्पियो; 8 लोगों ने गंवाई जान

लखीमपुर / लखनऊ10 दिन पहले

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया गांव में तीन अक्टूबर की दोपहर हुई हिंसा की वजह का अनकट वीडियो सामने आया है। जिसमें आंदोलन कर रहे किसानों को एक थार जीप तेज रफ्तार में रौंदते हुए दिख रही है। जीप के पीछे इनोवा और स्कॉर्पियो भी गुजरी। इतने में भगदड़ मच गई। अब तक घटना के तीन वीडियो सामने आ चुके हैं। हालांकि, इस बात की पुष्टि नहीं की जा सकती है कि गाड़ियों में कौन-कौन सवार है। घटना से किसानों में आक्रोश बना हुआ है।

नया वीडियो 45 सेकेंड का है। इसमें कोई एडिटिंग नहीं की गई है। इसलिए इसे अनकट कहा जा रहा है। जबकि इससे पहले 5 अक्टूबर को सामने आया वीडियो 27 सेकेंड का था। उसे स्लो मोशन में जारी किया गया था।

चश्मदीद बोला- करीब 80-90 की स्पीड से आई थीं कारें
भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के नेता राम सिंह गिलोनी के मुताबिक, किसान आंदोलन में सैकड़ों की संख्या में भीड़ थी। पुलिस की फोर्स भी तैनात थी। जगह-जगह बैरिकेडिंग लगाई गई थी। शाम को हम मंच से सभी से बातचीत कर रहे थे। तभी अचानक तिकुनिया की तरफ से 3 गाड़ियां तेजी से आते हुए दिखाई दीं। सभी गाड़ियां करीब 80 से 90 की स्पीड में थीं। आगे जाकर तीनों कारें पलट गईं।

इस दौरान गाड़ी से केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष मिश्र उतरते ही, फायरिंग करते हुए भागने लगे। लोगों ने उन्हें पकड़ने की कोशिश। तब पुलिस ने उन्हें पकड़ा और आगे जो गाड़ी थी उसमें बैठाकर ले गई।

काफिले में पूर्व कांग्रेस सांसद अखिलेश दास के भतीजे के होने का दावा
5 अक्टूबर को हिंसा से जुड़ा एक और वीडियो सामने आया था। जिसमें पुलिस माइक लेकर घटना में जख्मी युवक से बयान दर्ज करा रहा थी। इसमें जख्मी व्यक्ति ने पुलिस के सामने दावा किया कि काफिले में पूर्व कांग्रेस सांसद अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास भी अपनी फॉर्च्यूनर गाड़ी में सवार थे।

बयान में आगे बताया गया कि वह लखनऊ के हुसैनगंज का निवासी है। हम लोग अंकित दास की गाड़ी में बैठे हुए थे। वह अंकित दास के साथ लिखा-पढ़ी का काम करता है। वह 5 लोगों के साथ लखनऊ से लखीमपुर के कार्यक्रम में शामिल होने आया था। काफिले में उनके आगे थार जीप सड़क पर खड़े लोगों को कुचलती हुई जा रही थी।

अंकित दास की काले रंग की फॉर्च्यूनर गाड़ी उस जीप के पीछे-पीछे चल रही थी। इसी दौरान बाहर खड़ी भीड़ ने उन लोगों पर हमला बोल दिया। थार जीप किसकी थी और उसमें कौन लोग सवार थे, इस बारे में शख्स ने जानकारी से इनकार कर दिया।

बीजेपी सांसद वरुण गांधी बोले- प्रदर्शनकारियों की हत्या कर उनकी आवाज नहीं दबाई जा सकती

टेनी के बेटे आशीष मिश्र समेत 14 पर FIR
3 अक्टूबर को हुई रूह कंपा देने वाली हिंसा में 4 किसानों समेत 8 लोगों की जान गई। UP सरकार ने हर किसान के परिवार को 45 लाख रुपए का चेक देने का निर्देश अफसरों को दे दिया है। पुलिस केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र समेत 14 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर चुकी है। हालांकि, अभी तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

इनकी गई जान

  • शुभम मिश्रा (27) निवासी शिवपुरी, गढ़ी रोड, लखीमपुर।
  • हरिओम मिश्रा(26) निवासी फरधान।
  • रमन कश्यप (30) निवासी निघासन।
  • श्यामसुंदर निषाद (30) निवासी सिंगहा कलां, सिंगाही।
  • लवप्रीत सिंह(18) निवासी चौखड़ा फार्म, मझगईं, पलियाकलां।
  • नक्षत्र सिंह (55) निवासी धौरहरा।
  • गुरुविंदर सिंह (40) नानपारा, बहराइच।
  • दलजीत सिंह (36) निवासी बंजारन टांडा, नानपारा, बहराइच।
खबरें और भी हैं...