• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • The Demand For Compensation For The Damage Caused By Waterlogging Began, From Business Organizations To The Common Man, The Municipal Corporation Was Responsible

बारिश से हुए नुकसान का मुआवजा नगर निगम से मांगा:लखनऊ में व्यापारी संगठनों ने जलभराव पर नाराजगी जताई, बोले-जिम्मेदारों ने ठीक से नहीं किया काम

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री अमरनाथ मिश्रा का कहना है कि पूरे शहर में शायद ही ऐसा कोई इलाका होगा जहां दुकान के अंदर पानी न घुसा हो। - Dainik Bhaskar
लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री अमरनाथ मिश्रा का कहना है कि पूरे शहर में शायद ही ऐसा कोई इलाका होगा जहां दुकान के अंदर पानी न घुसा हो।

लखनऊ में गुरुवार को हुई बारिश से शहर के कई इलाकों में जलभराव हो गया। जलभराव का खामियाजा आम आदमी से लेकर व्यापारियों को भुगतना पड़ा। नालियां चोक होने से सड़कों पर बह रहा पानी घरों और दुकानों में घुस गया। जिससे लोगों के घरों और दुकानों में रखा काफी सामान खराब हो गया। जलभराव से हुए नुकसान की भरपाई के लिए लोग अब नगर निगम और एलडीए से मुआवजे की मांग रहे हैं।

इसको लेकर लखनऊ व्यापार मंडल जल्द नगर निगम और एलडीए को पत्र लिखेगा। व्यापारियों का अनुमान है कि पिछले 24 घंटे में लखनऊ शहर में करीब 2 सौ करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हुआ है।

लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री अमरनाथ मिश्रा
लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री अमरनाथ मिश्रा

व्यापारियों का करोड़ों रुपए का नुकसान

लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री अमरनाथ मिश्रा का कहना है कि पूरे शहर में शायद ही ऐसा कोई इलाका होगा जहां दुकान के अंदर पानी न घुसा हो। इसकी वजह से कारोबारियों को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है। इसकी भरपाई नगर निगम से होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि इसको लेकर उनका संगठन सरकार और जिम्मेदार व्यक्ति को पत्र लिखेगा। आरोप है कि शहर में नगर निगम ने कहीं भी सफाई का काम ठीक से नहीं किया है। इसकी वजह से जलभराव की समस्या उत्पन्न हुई है।

कानपुर रोड सेक्टर एच निवासी ज्ञानेश पांडेय घर हर साल हजारों रुपए का सामान बर्बाद होता है।
कानपुर रोड सेक्टर एच निवासी ज्ञानेश पांडेय घर हर साल हजारों रुपए का सामान बर्बाद होता है।

विभागीय भ्रष्टाचार को ठहराया जिम्मेदार

लोगों की दलील है कि जल निकासी और तमाम मद में हजारों करोड़ रुपए आते हैं। उसके बाद भी अगर एक बारिश में यह हाल हो गया तो इसके पीछे विभागीय भ्रष्टाचार जिम्मेदार है। उसके अलावा हाउस टैक्स, इनकम टैक्स समेत हर प्रॉडक्ट में टैक्स देने के बाद भी अगर एक बारिश से लाखों रुपए का सामान बर्बाद हो जाए तो इसकी भरपाई इन्ही विभागों से होनी चाहिए।

एलडीए और नगर निगम से मुआवजे की मांग

कानपुर रोड सेक्टर एच निवासी ज्ञानेश पांडेय ने सोशल मीडिया पर पत्र सार्वजनिक किया है। इसमें वह कॉलोनी की व्यवस्था के लिए एलडीए और उसके साथ नगर निगम को जिम्मेदार ठहरा रहे है। उनका कहना है कि कानपुर रोड एलडीए कॉलोनी को लखनऊ विकास प्राधिकरण ने तैयार किया है। जब से कॉलोनी बनी है, यहां हर साल जलभराव होता है। बताया कि दो साल पहले मंत्री और स्थानीय विधायक स्वाती सिंह ने दावा किया था कि इलाके के लिए 15 करोड़ रुपए का बजट दिया गया है लेकिन आज तक उसका कोई असर नहीं दिखा। उन्होंने सोशल मीडिया पर सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखते हुए एक करोड़ रुपए मुआवजे की मांग की है। दलील है कि पिछले कई सालों से यह समस्या झेल रहे हैं। इसमें मानसिक और आर्थिक दोनों क्षति होती है।

200 करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान

कारोबार, बिजली, लोगों के घरों का सामान और तमाम चीजों को जोड़ दिया जाए तो पिछले 24 घंटे में लखनऊ शहर में करीब 2 सौ करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हुआ है। भूतनाथ व्यापार मंडल के अध्यक्ष देवेन्द्र गुप्ता का कहना है कि चार साल पहले यहां के बाजार को स्मार्ट बाजार बनाने की बात हुई थी। स्मार्ट बाजार तो दूर की बात है यहां करोड़ों रुपए का नुकसान होता रहता है। बताया कि अकेले भूतनाथ में काफी ज्यादा नुकसान हुआ है।

भूतानाथ बाजार की दुकानों के अंदर गया पानी , लाखों रुपए का हुआ नुकसान
भूतानाथ बाजार की दुकानों के अंदर गया पानी , लाखों रुपए का हुआ नुकसान
खबरें और भी हैं...