पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • The Driver's Wife Accused The Former Chairman Of Uttar Pradesh Shia Waqf Board Of Rape, Said That He Was Doing Blackmail On The Basis Of Obscene Photos, The Court Ordered For Non hearing At The Police Station

वसीम रिजवी पर दर्ज होगा दुष्कर्म का केस:ड्राइवर की पत्नी ने कहा था- ब्लैकमेल कर दुष्कर्म का लगाया था आरोप, कोर्ट ने FIR का दिया आदेश

लखनऊ12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोर्ट ने कहा- वसीम रिजवी पर लगे आरोप गंभीर हैं। पुलिस मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्रवाई करे। - Dainik Bhaskar
कोर्ट ने कहा- वसीम रिजवी पर लगे आरोप गंभीर हैं। पुलिस मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्रवाई करे।

शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी के खिलाफ कोर्ट ने ड्राइवर की पत्नी के साथ दुष्कर्म करने के मामले में मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं। चालक की पत्नी ने आरोप लगाया है कि आरोपी ने दुष्कर्म के दौरान उसकी अश्लील फोटो खींची। साथ ही पुलिस या पति को बताने पर जान से मार देने की धमकी दी। थाना पुलिस के सुनवाई न करने पर कोर्ट में अर्जी डालनी पड़ी। जिसकी सुनवाई करते हुए लखनऊ में एसीजेएम अंबरीष कुमार श्रीवास्तव ने पीड़िता की शिकायत पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश जारी किया। साथ ही तीन दिन के अंदर सआदतगंज पुलिस को इससे कोर्ट को अवगत करने की निर्देश दिया।

पीड़िता का आरोप- पति को काम के बहाने बाहर भेजता था
पीड़िता का आरोप है कि पति पिछले चार साल से वसीम रिजवी की कार चला रहा है। पांच माह पहले पति के किसी काम से बाहर जाने के दौरान वसीम ने उसके साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान उसकी कई अश्लील फोटो भी खींची। जिसके दम पर ब्लैक मेल कर शारीरिक संबंध बनाने शुरू कर दिए। साथ ही पति को अक्सर काम के बहाने दूसरे जिले भेज देता और रात में घर आकर गलत काम करता। परिजनों व पुलिस को बताने पर जान से मारने की धमकी देता। पहले परिवार की इज्जत के खातिर चुप रही, लेकिन वसीम की जोर जबरदस्ती बढ़ने पर हिम्मत जुटा कर 11 जून 2021 को पति को पूरी घटना की जानकारी दी। उनके हिम्मत दिलाने पर सआदतगंज थाने पर शिकायत की, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। इस पर कोर्ट की शरण ली।

कोर्ट आदेश की कॉपी।
कोर्ट आदेश की कॉपी।

कोर्ट ने पीड़िता की शिकायत को संज्ञान में लेते हुए आदेश में कहा है कि वसीम पर लगाए गए आरोप गंभीर है। लिहाजा उसके इस तथ्य को बल मिलता है कि धमकी के चलते पीड़िता प्रभावित हुए। पुलिस मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्रवाई करे।

खबरें और भी हैं...