लखनऊ...ऑनलाइन शराब बिक्री के नाम पर ठगी:शराब का शौक कहीं पड़ न जाए महंगा, पुलिस ने जारी की एडवाइजरी

लखनऊ8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

साइबर ठगों ने लॉकडाउन लगने का डर दिखाकर एक बार फिर ऑन लाइन शराब बिक्री करने के प्रचार सोशल मीडिया पर देकर ठगी शुरू कर दी है। जैसे ही आप लोग अपने ऑर्डर को देने के लिए उनका आप क्यू आर कोड स्कैन कर रहें उनका खाता खाली हो रहा है। इस तरह की अचानक ठगी की घटनाएं बढ़ने पर यूपी पुलिस ने एडवाइजरी जारी किए।
यूपी पुलिस ने ट्वीट कर लोगों किया सावधान

यूपी पुलिस ने ट्वीट कर सावधान रहने की जारी की एडवाइजरी।
यूपी पुलिस ने ट्वीट कर सावधान रहने की जारी की एडवाइजरी।

किसी भी ऑनलाइन शॉपिंग एप या वेबसाइट के जरिए कोई सामान खरीदने से पहले सावधान होने की जरूरत है। क्योंकि साइबर ठगों ने इन्हीं माध्यमों को फायदा उठाते हुए ठगी शुरू कर दी है। पिछले दिनों शराब की होम डिलीवरी के नाम पर लोगों के साथ ठगी की वारदात को अंजाम दे रहे हैं। यह लोग शराब की डिलीवरी करने के नाम पर लोगों को एक क्यूआर कोड भेजते थे और जैसे ही खरीदार उस कोड का इस्तेमाल करता था उसके अकाउंट से पैसे गायब हो जाते हैं। इसके चलते यूपी पुलिस ने ट्वीट और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर ऐसे ठगों से बचने के लिए एडवाइजरी जारी की है।

गूगल व फेसबुक पेज पर कर रहे प्रचार
साइबर एक्सपर्ट अमित कुमार के मुताबिक साइबर ठग गूगल व फेसबुक पेज पर ऑन लाइन सामान बिक्री का विज्ञापन देते हैं। जैसे ही कोई खरीदार उन्हें फोन करता वह डिलीवरी के नाम पर पैसे के भुगतान के लिए एक क्यूआर कोड भेजते हैं। जिसके स्कैन करते ही खाते से पैसे कटने शुरू हो जाते हैं। जब तक खाता खाली नहीं हो जाता।

इन बातों का रखे ध्यान
QR code स्कैन से कभी आपके अकाउंट में पैसे नहीं आते हैं, हमेशा स्कैन करने वाले के अकाउंट से जाते हैं। इसलिए किसी भी पेमेंट के नाम पर QR code या कोई लिंक को डाउनलोड या स्कैन न करें

साइबर ठगी होते ही इस नंबर करें फोन, यहां करें मेल

साइबर ठगी होने पर यहां करें शिकायत।
साइबर ठगी होने पर यहां करें शिकायत।

साइबर अपराध का शिकार होने की जानकारी होते ही 155260 हेल्पलाइन नंबर पर या https://cybercrime.gov.in/ पर जाकर भी शिकायत करें। यहां शिकायत दर्ज कराने के बाद ऑन लाइन फ्राड की ट्रांजेक्शन आईडी के जरिए लेनदेन को रोक दिए जाएगा।