• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • The Murder Report Was Filed Against The Director, Manager Of The Security Agency After A Year And A Half, After The Death Of The Guard, The Family Had Alleged

चोरी का पोल खुलने के डर से की वारदात:सिक्युरिटी एजेंसी के डायरेक्टर, मैनेजर के खिलाफ डेढ़ साल बाद दर्ज हुई हत्या की रिपोर्ट, गार्ड की मौत के बाद परिवार ने लगाया था आरोप

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुनील को पहले मारापीटा उसके बा - Dainik Bhaskar
सुनील को पहले मारापीटा उसके बा

राजधानी में आवास विकास परिषद की अवध विहार आवासीय योजना में डेढ़ साल पहले हुई गार्ड की मौत के मामले में पुलिस ने अब हत्या की रिपोर्ट दर्ज की है। मृतक गार्ड के भाई की तहरीर पर सिक्युरिटी एजेंसी के डायरेक्टर, मैनेजर और फील्ड अफसर के खिलाफ केस दर्ज कर सुशांत गोल्फ सिटी थाने की पुलिस फिर से जांच करने में जुटी है।

कानपुर देहात निवासी सुनील सिंह चेतन सिक्युरिटी एजेंसी में बतौर गार्ड तैनात था। सुनील के भाई पुष्पेन्द्र ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि पिछले साल फरवरी में भाई की ड्यूटी अवध विहार योजना के एक निर्माणाधीन बिल्डिंग पर थी। 2 फरवरी को एजेंसी का एक कर्मचारी सुनील का जला हुआ शव लेकर घर पहुँचा। घरवालों ने लखनऊ आकर अपने स्तर से छानबीन की तो पता चला कि एजेंसी के अफसरों ने सुनील को पहले मारापीटा उसके बाद जलाकर मार डाला। परिजनों ने एजेंसी के डायरेक्टर डीपी सिंह, मैनेजर जितेंद्र सिंह और फील्ड अफसर मनोज कुमार हत्या का आरोप लगाकर तहरीर दी लेकिन केस दर्ज नही किया गया।

चोरी की पोल खुलने के डर से वारदात को दिया अंजाम

पुष्पेंद्र ने तहरीर में बताया है कि घटना से दो दिन पहले सुनील में फोन करके बताया था कि डीपी सिंह, जितेंद्र और मनोज ने साइड से लाखों रुपये का सरिया और सीमेंट चुराकर बेंच डाला। जानकारी होने पर सुनील इसकी शिकायत बिल्डर से करने को कहा तो आरोपियों ने जान से मारने की धमकी दी थी। इसकी जानकारी देने के बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नही की। डेढ़ साल से केस दर्ज करवाने के लिए भटक रहा परिवार पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर से मिलकर पूरी बात बताई। डीके ठाकुर के निर्देश पर एजेंसी के तीनों अफसरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।