टेंडर दिलाने के नाम पर 5 लाख ठगे:लखनऊ की फर्म के मालिक को रुपए वापस मांगने पर जमकर पीटा, रिपोर्ट

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

लखनऊ में बिजली के मीटर लगाने का टेंडर दिलाने के नाम पर एक कंपनी ने दूसरी फर्म को ठग लिया। ठेका दिलाने का झांसा देकर पांच लाख रुपये ऐंठ लिए। काम न मिलने पर पीड़ित फर्म मालिक ने रुपये वापस मांगे तो आरोपियों ने उसकी जमकर पिटाई भी की। पीड़ित की तहरीर पर शुक्रवार को आशियाना थाने में तीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

कानपुर ररोड एलडीए कॉलोनी सेक्टर-डी, निवासी राजेंद्र शुक्ला की आकृति इंटरप्राइजेज के नाम से फर्म है। राजेंद्र के मुताबिक गार इंफ्रा रियलटी प्राइवेट लिमिटेड के प्रोपराइटर गिरीश वर्मा, उनके साथी प्रदीप सिंह व अनूप गुप्ता ने उन्हें बिजली के मीटर लगवाने का टेंडर दिलाने का आश्वासन दिया था।

इसके लिए एग्रीमेंट करके तीनों ने गार इंफ्रा रियलटी प्राइवेट लिमिटेड के खाते में पांच लाख रुपये जमा कराए थे। काफी समय बीतने पर भी टेंडर नहीं मिला तो राजेंद्र ने अपनी रकम का तगादा किया। राजेंद्र का आरोप है कि तीनों लोगों ने उन्हें ब्याज समेत रकम लौटाने का वादा किया। इसके बाद पांच लाख रुपये के एवज में साढ़े पांच लाख रुपये का चेक दिया। चेक बाउंस होने पर राजेंद्र विभूतिखंड के ओमेक्स हाइट्स स्थित आरोपियों के ऑफिस गया। राजेंद्र का आरोप है कि वहां अनूप गुप्ता व प्रदीप सिंह ने एक साल के अंदर रुपये वापस कराने का आश्वासन दिया। मगर रकम नहीं लौटाई।

चौराहे पर घेरकर पीटा, ऊंची पहुंच की धमकी दी

राजेंद्र के मुताबिक पांच अक्तूबर को तीनों आरोपी आशियाना में पावर हाउस चौराहे के पास मिले। वहां रकम का तगादा करने पर तीनों ने उन्हें पीटा और गालीगलौज करते हुए अपनी ऊंची पहुंच का हवाला देकर धमकाया। आशियाना इंस्पेक्टर धीरज कुमार शुक्ल ने बताया कि छानबीन में आरोप सही पाए जाने पर आरोपी गिरीश वर्मा, प्रदीप सिंह निवासी मानस इंक्लेव, इंदिरानगर व अनूप गुप्ता निवासी मानसनगर, कृष्णानगर के खिलाफ अमानत में खयानत, मारपीट, गाली-गलौज व धमकी देने की रिपोर्ट दर्ज की गई है।

खबरें और भी हैं...