PM के आने से पहले लखनऊ में अतिक्रमण हटाओ मुहिम:दुकानदारों के विरोध के बीच घंटा घर के आसपास से अतिक्रमण हटाया, 11बजे लोग दुकान खोलने पहुंचे तो हट चुका था अवैध कब्जा

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घंटाघर के इलाके में नगर निगम ने पांच घंटे तक चलाया अतिक्रमण अभियान। - Dainik Bhaskar
घंटाघर के इलाके में नगर निगम ने पांच घंटे तक चलाया अतिक्रमण अभियान।

नगर निगम की टीम ने दुकानदारों के विरोध के बीच बुधवार को ऐतिहासिक घंटाघर के पास से अतिक्रमण हटाने का अभियान चलाया। लोगों ने निगम की कार्रवाई का विरोध किया लेकिन पुलिस और प्रवर्तन दल की वजह विरोध ज्यादा देर तक नहीं चला। 5 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 5 अक्टूबर को लखनऊ आने से पहले मुख्य सड़कों से अतिक्रमण हटाने का अभियान चल रहा हे।

करीब एक किलोमीटर तक चले अभियान में सौ से ज्यादा अतिक्रमण हटाए गए। जोनल अधिकारी बिन्नो रिजवी ने बताया कि ज़ोन 6 में घंटा घर, पिक्चर गैलरी, छोटे इमामबाड़े के आस पास भारी विरोध और प्रदर्शन के बावजूद उनकी टीम ने अभियान जारी रखा। उन्होंने बताया कि अभियान में हंगामे की आशंका हो देखते हुए जोन छह की पूरी टीम के साथ पुलिस और प्रवर्तन दल के लोग भी मौजूद रहे।

इलाके में लंबे समय बाद अवैध कब्जे हटाने का अभियान चलाया गया ।
इलाके में लंबे समय बाद अवैध कब्जे हटाने का अभियान चलाया गया ।

सालों बाद चला अभियान

घंटाघर से अशफाक होटल तक सालों बाद अभियान चला। इस दौरान लोगों ने यहां गुमटी, दुकानों के सामने निर्माण समेत कई तरह के अवैध अतिक्रमण कर लिए गए थें। नगर निगम की टीम कई बार तारीख तय करने के बाद भी अभियान नहीं चला पा रही थी। लेकिन इस बार टीम पहले से तैयारी करके आई थी। सुबह कई लोगों के दुकान खोलने से पहले उनका अतिक्रमण हट गया था।

नगर निगम की टीम के खिलाफ लगते रहे नारे

अभियान के दौरान करीब पांच घंटे तक स्थानीय लोग लगातार नगर निगम की टीम के खिलाफ नारे लगाते रहे। लोगों का कहना था कि कई दशक से ऐसा निर्माण है। अभियान चलाने से पहले नगर निगम को नोटिस देना चाहिए था। हालांकि अधिकारियों ने बताया कि यहां के लिए पहले भी कई बार नोटिस दिए गए थे।

पर्यटन स्थल फिर भी अतिक्रमण

लखनऊ आने वाले सबसे ज्यादा पर्यटक इमामबाड़ा और घंटाघर के आस-पास आते हैं। लेकिन यहां हुए अवैध अतिक्रमण से ट्रैफिक जाम लगता था। यह बात कई बार नगर निगम सदन में भी हुई लेकिन उसके बाद भी अभियान नहीं चल पाता था।

खबरें और भी हैं...