पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुलिस भर्ती की मांग को लेकर चारबाग का घेराव:3528 पदों को भरने की मांग को लेकर चारबाग जंक्शन का हुआ घेराव, परेशान हुए हजारों लोग, 2015 से चला आ रहा मामला

लखनऊ22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सीट बढ़ाने की मांगं को लेकर चारबाग में  प्रदर्शन करते अभ्यर्थी। - Dainik Bhaskar
सीट बढ़ाने की मांगं को लेकर चारबाग में प्रदर्शन करते अभ्यर्थी।

पुलिस भर्ती मामले में विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। बुधवार को एक बार फिर पदों पर भरती की मांग को लेकर नाराज अभ्यर्थियों ने चारबाग में प्रदर्शन किया। नाराज लोगों ने चारबाग जंक्शन का घेराव कर दिया।

आरोप है कि 2015 में 34716 पदों पर भर्ती आई थी। उसको अभी तक पूरा नहीं किया गया है। इसमें से अभी भी 3528 पद रिक्त बच गए हैं। इनको ही भरने की मांग चल रही है। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि अभी भी वह लोग अभी भी इस भर्ती को भरने की मांग कर रहे है। सरकार अभी तक उस पर कोई कार्रवाई नहीं कर पाई है।

ऐसे में लोगों की नाराजगी बढ़ती जा रही है। प्रदर्शन के दौरान लोगों ने कहा कि सरकार के लोग केवल आश्वासन देने के काम करते है। लेकिन मांगों पर कार्रवाई नहीं हो रही है। उन लोगों ने कहा कि जल्द ही मांगों को पूरा नहीं किया गया तो आंदोलन को और तीव्र किया जाएगा। अभ्यर्थियों की मांग है कि इस भर्ती को तत्काल पूरा किया जाए। सैकड़ों परिवारों की आस इस भर्ती से जुड़ी हुई है। अभ्यर्थियों का कहना है कि सरकार की जिम्मेदारी है कि इसमें आने वाली अड़चनों को दूर किया जाए।

संख्या बढ़ती जा रही है

पुलिस भर्ती से जुड़े युवा बड़ी संख्या में चारबाग रेलवे स्टेशन पर अभी भी पहुंच रहे है। युवाओं का दावा है कि अभी और भी अभ्यर्थी प्रदेश भर से आ रहे हैं। अभ्यर्थी चारबाग रेलवे स्टेशन पर ही धरने पर बैठ गए हैं। संख्या बढ़ती ही जाएगी।

बड़ी संख्या में महिलाएं भी पहुंची

बड़ी संख्या वहां महिलाएं भी पहुंची। प्रदर्शन करने पहुंची सुनिता ने बताया कि वह लोग कई बार आंदोलन के लिए यहां लखनऊ आ चुके हैं। बावजूद उसके कोई कार्रवाई नहीं होती है। बताया कि इसका नुकसान बीजेपी को आने वाले चुनावों में झेलना होगा। पूरे प्रदेश में कोई ऐसी भर्ती नहीं जिसमें गड़बड़ी नहीं हुई है। महिला अभ्यर्थियों का कहना है कि अब आरपार की लड़ाई होगी। जब तक हमारी मांगों को नहीं माना जाएगा, तब तक हम यहां से जाएंगे नहीं।

खबरें और भी हैं...