पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मरीजों की जान का संकट:बाराबंकी के ऑक्सीजन प्लांट में लिक्विड खत्म होने से संकट बढ़ा, कई जिलों में आक्सीजन की सप्लाई बंद

बाराबंकी2 महीने पहले
बाराबंकी जिले में लखनऊ-अयोध्या मार्ग के असेनी मोड पर सांरग गैस प्लांट स्थित है।

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में लिक्विड ऑक्सीजन न मिलने से जिले का आक्सीजन प्लांट बंद हो गया है। बताया जा रहा है कि बाराबंकी के सारंग ऑक्सीजन प्लांट को प्रति दिन कम से कम 10 टन लिक्विड की जरूरत होती है, मगर नियमित लिक्विड ऑक्सीजन न मिलकर तीसरे-चौथे दिन मिल रही है। ऐसे में प्लांट बंद हो गया है जिसकी वजह से मरीजों को ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है। मरीजों का आरोप है कि कई घंटों से आक्सीजन प्लांट पर खड़े रहने के बावजूद भी आक्सीजन का इंतजाम नहीं हो पा रहा है और मरीजों की हालत बिगड़ती जा रही है।

जानकारी के अनुसार, बाराबंकी जिले में लखनऊ-अयोध्या मार्ग के असेनी मोड पर सांरग गैस प्लांट स्थित है। यहां लिक्विड की कमी के चलते कोविड हास्पिटलों के अलावा निजी अस्पतालों को आक्सीजन आपूर्ति नहीं हो पा रही। इस प्लांट से बाराबंकी जिले के अलावा लखनऊ, सीतापुर, गोंडा, बहराइच, बस्ती, बलरामपुर सहित दूसरे आसपास के कई जिलों में ऑक्सीजन सप्लाई होती थी और वहां के अस्पतालों के सिलिंडर थे भरे जाते थे।

लिक्विड के बिना ऑक्सीजन की रिफिलिंग संभव नहीं
प्लांट मैनेजर जेपी तिवारी ने बताया कि लिक्विड खत्म हो गया है। जब तक लिक्विड का टैंकर नहीं आएगा तब तक प्लांट से दोबारा ऑक्सीजन की रिफिलिंग शुरू नहीं हो पाएगी। उन्होंने बताया कि उनका एक टैंकर बनारस में है। वह जब यहां पहुंचेगा तो रिफलिंग के बाद ही प्लांट दोबारा शुरू हो पाएगा। वहीं प्लांट पर ऑक्सीजन लेने पहुंचे मरीजों के परिजनों का कहना है कि प्लांट में गैस खत्म होने के चलते उन्हें ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है। परिजनों का कहना है कि वह कई घंटों से यहां खड़े हैं, लेकिन गैस नहीं मिलने से उनके मरीजों की हालत बिगड़ती जा रही है।

खबरें और भी हैं...