BJP ने वेस्ट UP को साधने का बनाया बड़ा प्लान:किसान आंदोलन और जयंत चौधरी का बढ़ता कद बना परेशानी का सबब, CM योगी करेंगे दौरा, 4 पॉइंट में समझिए क्या होंगे मायने

लखनऊ8 महीने पहलेलेखक: विनोद मिश्र

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने में अब छह माह से कम का समय बचा है। ऐसे में भाजपा का जहां पूरा जोर सत्ता वापसी पर है तो विपक्षी दल किसान, कानून व्यवस्था के मुद्दे पर सरकार को घेरने में जुटे हैं। पश्चिमी यूपी का सियासी माहौल फिलहाल भाजपा के फेवर में नहीं दिख रहा, और यही बात पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को काफी परेशान कर ही है।

यहां एक तरफ किसान आंदोलन और दूसरी तरफ आरएलडी नेता जयंत सिंह का बढ़ता कद है। कहा जा रहा है कि अगर यही माहौल रहा तो आने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी को काफी सियासी नुकसान हो सकता है। लिहाजा पार्टी इसके लिए प्लान तैयार कर रही है।

भाजपा के एक बड़े नेता ने बताया कि पार्टी पश्चिमी यूपी के नेताओं से फीडबैक लेने के साथ-साथ कई स्तर पर सर्वे भी करा रही है। जमीनी हकीकत से रूबरू होने के बाद इस प्लान को लागू किया जाएगा।

चार पॉइंट में समझिए भाजपा का पश्चिमी यूपी का प्लान...

26 सितंबर को सीएम योगी गन्ने का मूल्य बढ़ा सकते हैं।
26 सितंबर को सीएम योगी गन्ने का मूल्य बढ़ा सकते हैं।

गन्ने का बढ़ सकता है समर्थन मूल्य
भाजपा ने पश्चिम उत्तर प्रदेश को समस्याओं के आधार पर बांट लिया है और इसके लिए अलग-अलग रणनीति तैयार की है। किसान आंदोलन के साथ जुड़े किसानों से इतर पश्चिमी यूपी में खासकर मेरठ और मुजफ्फरनगर बेल्ट में गन्ना किसानों की बड़ी संख्या है। इन गन्ना किसानों में भी एक जाति (जाट) विशेष का वर्चस्व है। लिहाजा इसके लिए सरकार गन्ना के समर्थन मूल्य को बढ़ाने का मास्टर स्ट्रोक प्लान कर रही है।
दैनिक भास्कर को मिली जानकारी के मुताबिक भाजपा किसान मोर्चा 26 सितम्बर 2021 को स्मृति उपवन लखनऊ में किसान सम्मेलन का आयोजन कर रहा है। इसमें मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ होंगे। सीएम इस मौके पर गन्ना का समर्थन मूल्य बढ़ाने का ऐलान कर सकते हैं।

जयंत चौधरी का बढ़ता कद और जाटों की नाराजगी
भाजपा ने जाटों की नाराजगी को कम करने और उनके सम्मान के लिए रणनीति पर काम शुरु कर दिया है। अलीगढ़ में पीएम मोदी के हाथों जाट राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर स्टेट यूनिवर्सिटी का शिलान्यास इसी रणनीति का हिस्सा है। कहा जा रहा है कि जाटों में विभाजन हो रहा है। सभी जाट किसान आंदोलन के नेतृत्व कर रहे भारतीय किसान यूनियन (टिकैत गुट) के प्रवक्ता राकेश टिकैत के साथ नहीं है।

साथ ही राष्ट्रीय लोक दल नेता जयंत चौधरी किसानों के आंदोलन का समर्थन कर अपना समर्थन बढ़ा रहें है। पिता अजित चौधरी के बाद जयंत के लिए बड़ी चुनौती है। जाटों की संवेदना भी जयंत के साथ है। भाजपा इसीलिए पश्चिमी यूपी में विपक्ष का बिखराव कर सियासी फायदा लेना चाहती है।

19 सितंबर को अजित सिंह की रस्म पगड़ी के बहाने उनके बेटे जयंत चौधरी ने शक्ति प्रदर्शन किया। इसमें पश्चिमी यूपी के कई बड़े नेता और नरेश टिकैत पहुंचे थे।
19 सितंबर को अजित सिंह की रस्म पगड़ी के बहाने उनके बेटे जयंत चौधरी ने शक्ति प्रदर्शन किया। इसमें पश्चिमी यूपी के कई बड़े नेता और नरेश टिकैत पहुंचे थे।

गुर्जर समुदाय के लिए भी खास प्लान तैयार
सीएम योगी 21 सिंतबर से लगातार यूपी का दौरा करेंगे। 21 तारीख को सीएम नोएडा के दादरी में रात्रि विश्राम करेंगे और सुबह गुर्जर सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। पश्चिमी यूपी में मुस्लिम, दलित और जाटों के बाद गुर्जर समुदाय की संख्या ज्यादा है। इस इलाके में पीएम मोदी भी जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के लिए दौरा कर सकते हैं। इसके साथ ही इस इलाके के विकास के दावे के साथ सरकार इस समुदाय को भाजपा के पक्ष में करने के मूड में है।

कल यानी 21 सितंबर को योगी नोएडा जाएंगे। 22 सितंबर को वे सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण करेंगे।
कल यानी 21 सितंबर को योगी नोएडा जाएंगे। 22 सितंबर को वे सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण करेंगे।

बिजली के महंगे रेट और आवारा पशुओं की समस्या
भाजपा के पश्चिमी यूपी के एक कद्दावर नेता ने बताया कि बिजली के महंगे रेट और आवारा पशुओं की समस्या भी इस क्षेत्र में काफी विकराल है। उनके मुताबिक अगर सरकार इन समस्याओं का समाधान कर दे तो किसानों और समाज विशेष की भाजपा सरकार से दूरी को पश्चिम उत्तर प्रदेश में पाटा जा सकता है। कहा जा रहा है कि सीएम योगी अपने पश्चिमी यूपी के दौरों के दौरान किसानों की इन दोनों समस्याओं के समाधान के लिए कुछ घोषणाएं कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...