पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लोन की गाड़ियों से बना रहे थे भौकाल:फाइनेंस पर करोड़ों रुपये की लग्जरी गाड़ियां खरीदकर बाहुबलियों को बेचने वाले दो शातिर गिरफ्तार

लखनऊ उत्तर प्रदेश13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिस कंपनी के नाम से गाड़ियां खरीदी गई थी उसके मालिक को सीबीआई पहले ही भेज चुकी है जेल

जगुआर, बीएमडब्ल्यू और टाटा की लग्जरी गाड़ियां लोन पर खरीदकर बाहुबलियों को बेचने वाले दो जालसाजों को राजधानी की विभुतिखंड पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इनके पास से जगुआर और बीएमडब्ल्यू की दो गाड़ियां भी बरामद कर ली गई है। जिस कंपनी के नाम से गाड़ियां फाइनेंस करवाई गई उसके मालिक फूलचंद छाबड़ा को सीबीआई पहले की गिरफ्तार कर चुकी है।

बीएमडब्ल्यू, टाटा मोटर्स फाइनेंस की तरफ शुक्रवार को विभुतिखंड थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई थी। कंपनियों के फाइनेंस मैनेजरों ने पुलिस को बताया कि फसलों के लिए जैविक दवाएं बनाने वाली कंपनी बायोकेमिकल्य इंडस्ट्रीज ने 2018 में छह लग्जरी गाड़ियां फाइनेंस करवाई थी। लेकिन इनकी एक भी किस्त बैंको में जमा नहीं की गई।

कंपनी के मालिक के खिलाफ कई मामले दर्ज हैं

इसी बीच पता चला कि कंपनी के मालिक ओमेक्स हाईट विभुतिखंड निवासी फूलचंद छाबड़ा के खिलाफ धोखाधड़ी के कई मामले दर्ज हैं। इनकी जांच सीबीआई कर रही है और उसने छाबड़ा को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है। इसपर कंपनी के दूसरे डारेक्टरों से संपर्क करके छानबीन की गई तो पता चला कि लोन पर खरीदी गई गाड़ियों को यूपी के कई बाहुबलियों के हाथों बेंच दिया गया है।

इन गाड़ियों को रिकवर करने का प्रयास किया गया तो राजनीतिक रसूखदारों ने बैंक के लोगों को जान से मारने की धमकी देकर भगा दिया। इसपर फाइनेंस कंपनी के लोग थाने पहुंचे। पुलिस तत्काल सक्रिय हुई तो छानबीन में पता चला कि कैसरबाग के मॉडल हाउस निवासी शेख उफीर् छाबड़ा के डायरेक्टर कमेटी का मेंबर है।

ठाकुरगंज के हुसैनाबाद निवासी रेहान अहमद के साथ मिलकर फाइनेंस की कई गाड़ियां बेची है। इसमें से कुछ गाड़ियां अभी उसी के पास है। इसपर पुलिस ने छापेमरी करके उफीर् और रेहान को गिरफ्तार कर लिया। इंस्पेक्टर विभूतिखंड चंद्रशेखर ने बताया कि इनके इनके पास से दो बीएमडब्ल्यू और जगुआर भी बरामद कर ली गई है।

खबरें और भी हैं...