UP में करीब 61% मतदान:2017 से 4 प्रतिशत कम पड़े वोट; मुस्लिम बाहुल्य 18 सीटों में से 3 पर 72% से ज्यादा वोटिंग; संभल सीट पर सबसे कम

लखनऊ7 महीने पहले

उत्तर प्रदेश के दूसरे चरण के चुनाव में नौ जिलों की 55 सीटों मतदान हुआ। करीब 61 प्रतिशत वोटिंग हुई। इन सीटों पर मुस्लिम मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं। पिछली बार 2017 में मुस्लिम उम्मीदवारों में आपस टकराव की वजह से भाजपा गठबंधन को 38 सीटों पर सीधा फायदा मिल गया था, जबकि सपा-कांग्रेस गठबंधन को 17 (सपा -15, कांग्रेस -2) सीटें मिली थीं। बसपा और रालोद ने खाता तक नहीं खोला था। इस बार हम वोटिंग प्रतिशत के लिहाज से मुस्लिम वोटर्स के रुझान को हम आंक रहे हैं।

मुस्लिम बाहुल्य वाली हमने 18 सीटें ली हैं। इसमें 8 सीटें ऐसी हैं जिसमें 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम वोटर हैं जबकि 10 सीटें ऐसी हैं जहां 40-50 प्रतिशत के बीच मुस्लिम वोटर हैं। बाकी 37 सीटों पर हिंदू मतदाता जीत-हार के आंकड़ों को तय करते हैं।

दूसरे चरण की 55 विधानसभा सीटों पर 7 बजे तक ओवरऑल 61.69 प्रतिशत मतदान हुआ है। लेकिन अगर मुस्लिम बाहुल्य सीटों की बात करें तो 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम मतदाताओं वाली 8 सीटों पर 7 बजे तक औसतन 64.19 प्रतिशत वोटिंग हुई है, जबकि 40 से 50 प्रतिशत के बीच की मुस्लिम मतदाताओं वाली 10 सीटों पर 7 बजे तक औसतन 65.65 प्रतिशत वोटिंग हुई। वहीं कुल इन मुस्लिम बाहुल्य 18 सीटों पर 7 बजे तक औसतन 65 प्रतिशत वोटिंग हुई।

आइए जानते हैं...मुस्लिम बाहुल्य सीटों पर मतदान प्रतिशत

बात 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम मतदाता वाली 8 सीटों की...7 बजे तक का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें7 बजे तक का मतदान प्रतिशत
रामपुर सदर58.80
संभल57.40
मुरादाबाद ग्रामीण59.48
कुंदरकी65.48
अमरोहा नगर65.76
बेहट72.21
सहारनपुर देहात70.50
धामपुर63.94

बात 40-50 प्रतिशत मुस्लिम मतदाताओं वाली 10 सीटों की...7 बजे तक का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें5 बजे तक का मतदान प्रतिशत
देवबंद65.00
नकुड़72.90
कांठ67.07
ठाकुरद्वारा72.35
नेहटौर59.60
नगीना61.02
बिजनौर61.70
चांदपुर68.76
नूरपुर63.30
बढ़ापुर64.80

2017 के मुकाबले दूसरे चरण के 9 जिलों में मतदान प्रतिशत

जिला20172022 (7 बजे तक)
सहारनपुर73.0968.56
मुरादाबाद66.7664.56
बिजनौर66.5162.85
संभल65.4856.88
रामपुर63.9263.97
अमरोहा72.3466.15
बदायूं59.6757.51
बरेली62.9459.09
शाहजहांपुर61.6956.42
टोटल65.5361.69

दूसरे चरण की 55 विधानसभा सीटों पर 5 बजे तक ओवरऑल 60.44 प्रतिशत मतदान हुआ है। लेकिन अगर मुस्लिम बाहुल्य सीटों की बात करें तो 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम मतदाताओं वाली 8 सीटों पर 5 बजे तक औसतन 55.05 प्रतिशत वोटिंग हुई है, जबकि 40 से 50 प्रतिशत के बीच की मुस्लिम मतदाताओं वाली 10 सीटों पर 5 बजे तक औसतन 64.53 प्रतिशत वोटिंग हुई। वहीं कुल इन मुस्लिम बाहुल्य 18 सीटों पर 5 बजे तक औसतन 60.32 प्रतिशत वोटिंग हुई।

बात 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम मतदाता वाली 8 सीटों की...5 बजे तक का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें5 बजे तक का मतदान प्रतिशत
रामपुर सदर56.20
संभल57.40
मुरादाबाद ग्रामीण59.48
कुंदरकी65.48
अमरोहा नगर65.76
बेहट72.21
सहारनपुर देहात63.00
धामपुर63.94

बात 40-50 प्रतिशत मुस्लिम मतदाताओं वाली 10 सीटों की...5 बजे तक का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें5 बजे तक का मतदान प्रतिशत
देवबंद65.00
नकुड़72.90
कांठ67.07
ठाकुरद्वारा72.35
नेहटौर59.60
नगीना61.02
बिजनौर61.70
चांदपुर62.60
नूरपुर63.30
बढ़ापुर59.80

2017 के मुकाबले दूसरे चरण के 9 जिलों में मतदान प्रतिशत

जिला20172022 (7 बजे तक)
सहारनपुर73.0968.56
मुरादाबाद66.7664.56
बिजनौर66.5162.85
संभल65.4856.88
रामपुर63.9263.97
अमरोहा72.3466.15
बदायूं59.6757.51
बरेली62.9459.09
शाहजहांपुर61.6956.42
टोटल65.5361.69

​​दूसरे चरण की 55 विधानसभा सीटों पर 3 बजे तक ओवरऑल 56.56 प्रतिशत मतदान हुआ है। लेकिन अगर मुस्लिम बाहुल्य सीटों की बात करें तो 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम मतदाताओं वाली 8 सीटों पर 3 बजे तक औसतन 55.27 प्रतिशत वोटिंग हुई है, जबकि 40 से 50 प्रतिशत के बीच की मुस्लिम मतदाताओं वाली 10 सीटों पर 3 बजे तक औसतन 54.14 प्रतिशत वोटिंग हुई। वहीं कुल इन मुस्लिम बाहुल्य 18 सीटों पर 3 बजे तक औसतन 54.64 प्रतिशत वोटिंग हुई।

बात 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम मतदाता वाली 8 सीटों की...3 बजे तक का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें3 बजे तक का मतदान प्रतिशत
रामपुर सदर49.50
संभल49.20
मुरादाबाद ग्रामीण51.47
कुंदरकी59.62
अमरोहा नगर60.32
बेहट60.51
सहारनपुर देहात57.60
धामपुर54.01

बात 40-50 प्रतिशत मुस्लिम मतदाताओं वाली 10 सीटों की...3 बजे तक का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें3 बजे तक का मतदान प्रतिशत
देवबंद56.00
नकुड़60.63
कांठ60.50
ठाकुरद्वारा60.82
नेहटौर51.20
नगीना51.40
बिजनौर51.80
चांदपुर51.70
नूरपुर46.20
बढ़ापुर51.20

दोपहर 1 बजे तक 9 जिलों की 55 सीटों कुल 42.32 प्रतिशत वोट पड़े हैं, जबकि 55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम वोटर्स वाली 8 सीटों में औसतन 41.42 प्रतिशत वोटिंग हुई है। वहीं, 40 से 50 प्रतिशत मुस्लिम वोटर्स वाली 10 सीटों पर औसतन 40.66 प्रतिशत वोटिंग हुई है। मुस्लिम बाहुल्य इन 18 सीटों पर एक बजे तक औसतन 41 प्रतिशत मतदान हुआ है।

55 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम मतदाता वाली 8 सीटों का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें1 बजे तक का मतदान प्रतिशत
रामपुर सदर35.90
संभल39.10
मुरादाबाद ग्रामीण38.39
कुंदरकी46.55
अमरोहा नगर42.36
बेहट60.51
सहारनपुर देहात57.60
धामपुर41.68

​​​​​बात 40-50 प्रतिशत मुस्लिम मतदाताओं वाली 10 सीटों का मतदान प्रतिशत

विधानसभा सीटें1 बजे तक का मतदान प्रतिशत
देवबंद42.00
नकुड़46.50
कांठ45.28
ठाकुरद्वारा44.87
नेहटौर40.80
नगीना37.90
बिजनौर39.30
चांदपुर31.40
नूरपुर34.80
बढ़ापुर43.80

दूसरे चरण में इतने मतदाता

  • 55 सीट पर 2.01 करोड़ मतदाता
  • कुल मतदाता- 2.01 करोड़
  • पुरुष- 1.07 करोड़
  • महिला- 93 लाख
  • थर्ड जेंडर- 1,261

दिग्गज उम्मीदवार मैदान में
1. सुरेश खन्ना-
शाहजहांपुर सदर विधानसभा सीट पर भाजपा के संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना की सीधी टक्कर समाजवादी पार्टी के तनवीर खान से है, जबकि सपा के सर्वेश चंद्र यहां से प्रत्याशी हैं।
2. आजम खान- रामपुर सदर सीट सपा के दिग्गज नेता आज़म खान मैदान में हैं, जो फिलहाल सीतापुर जेल में बंद हैं। आज़म के खिलाफ भाजपा के आकाश सक्सेना हैं। जबकि बसपा से शंकर लाल सैनी मैदान में हैं।
3. धर्म सिंह सैनी- योगी सरकार में मंत्री रहे धर्म सिंह सैनी को सपा ने सहारनपुर की नकुल विधानसभा से टिकट दिया है, उनके सामने भाजपा के मुकेश चौधरी मैदान में हैं।
4. धर्म पाल सिंह- योगी सरकार में मंत्री धर्म पाल सिंह आंवला विधानसभा सीट से मैदान में हैं, उनका सामना सपा के राधाकृष्ण शर्मा, बसपा के लक्ष्मण प्रसाद और कांग्रेस के ओमवीर यादव से है।
5. महबूब अली- अमरोहा सीट की बात करें तो यहां से सपा ने एक बार फिर महबूब अली को उम्मीदवार बनाया है, जबकि भाजपा के राम सिंह सैनी मैदान में हैं, तो बसपा के नावेद इस मुकाबले को त्रिकोणीय बना रहे हैं।
6. बलदेव सिंह औलख- योगी सरकार के एकमात्र सिख मंत्री बलदेव सिंह औलख बिलासपुर विधानसभा से चुनाव लड़ रहे हैं, उनके सामने सपा के अमरजीत सिंह और बसपा के राम अवतार कश्यप और कांग्रेस के संजय कपूर मैदान में है।
7. गुलाबो देवी- योगी सरकार में मंत्री गुलाबो देवी एक बार फिर चुनावी मैदान में हैं, इनका मुकाबला कांग्रेस के मिथिलेश, सपा के विमिलेश और बसपा के रणविजय सिंह से है।

क्या कहते हैं 2017 के नतीजे

  • जिन 55 सीटों पर दूसरे चरण में आज मतदान हुआ, उनमें 2017 में 38 सीटें भाजपा को मिली थीं।
  • 15 सीटें सपा के खाते में गई थीं।
  • 2 सीटें कांग्रेस को मिली थीं।
  • सपा ने 42 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे। 21 उम्मीदवार दूसरे नंबर पर रहे थे।
  • बसपा एक भी सीट नहीं जीत पाई थी।
  • 40 सीटों पर बसपा नंबर 3 पर रही थी।

राजनीतिक दलों की इस बार की रणनीति...
सपा-रालोद

  • 55 सीटों में से 52 पर सपा और 3 पर रालोद के उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं।
  • सपा-रालोद गठबंधन ने 55 में से 34 पर अपने उम्मीदवारों को बदला है।
  • 4 ऐसे उम्मीदवार हैं, जो पिछला विधानसभा चुनाव जीते थे, उन्हें टिकट नहीं दिया।
  • रालोद ने भी 3 नए चेहरों को टिकट दिया है।

भाजपा

  • भाजपा 54 पर और अपना दल (एस) एक सीट पर चुनाव लड़ रही है।
  • भाजपा ने 25 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार बदले हैं।
  • पिछली बार के जीते हुए 10 उम्मीदवारों का भी टिकट काट दिया है।

बसपा

  • 54 विधानसभा सीटों पर बसपा ने सारे उम्मीदवार ही बदल दिए हैं।
  • सिर्फ एक सीट पर बसपा ने अपने पुराने उम्मीदवार को मौका दिया है।
  • सुरक्षित सीट रामपुर मनिहारन पर रविंद्र कुमार चुनाव लड़ रहे हैं।
  • 2017 विधानसभा चुनाव में रविंद्र कुमार महज 595 मतों से हार थे।
  • 11 विधानसभा सीटें ऐसी हैं जहां बसपा और सपा के मुस्लिम उम्मीदवारों का आमना-सामना है।

कांग्रेस

  • कांग्रेस का सपा के साथ गठबंधन था। 2017 चुनाव में कांग्रेस ने 55 सीटों में से15 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे।
  • कांग्रेस के 15 में से सिर्फ 2 उम्मीदवार ही जीत पाए थे।
  • रामपुर जिले की बिलासपुर सीट से संजय कपूर को रिपीट किया है, बाकी जगह सभी नए उम्मीदवार उतारे हैं।
  • संजय कपूर पिछले चुनाव में हार गए थे।

586 में से 25 फीसदी पर आपराधिक मामले
एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स यानी ADR के मुताबिक, कुल 586 उम्मीदवारों में से 25 फीसदी पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। वहीं, 45 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं। सभी उम्मीदवारों की औसत संपत्ति 4.11 करोड़ रुपए है। भाजपा के 53 में से 52 यानी 98 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं। वहीं, सपा के 52 में से 48 उम्मीदवार करोड़पति हैं। बसपा के 46, रालोद के दो, कांग्रेस के 31 और आप के 16 उम्मीदवार करोड़पति हैं। रामपुर सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार काजिम अली खान इस चरण के सबसे अमीर उम्मीदवार हैं। उनके पास 296 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। बरेली कैंट से सपा उम्मीदवार सुप्रिया ऐरन दूसरे नंबर पर हैं। उनके पास 157 करोड़ रुपये की संपत्ति है। 140 करोड़ रुपये की संपत्ति के मालिक भाजपा के देवेंद्र नागपाल तीसरे सबसे अमीर उम्मीदवार हैं।

खबरें और भी हैं...