पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Al Qaeda Terrorists Partner Shakeel Arrested In Lucknow: ATS Got Link In Interrogation Of Terrorists Minhaj And Masiruddin Arrested Partner Shakeel From Near Buddha Park In Lucknow

अलकायदा का UP कमांडर शकील गिरफ्तार:ATS ने शकील समेत 3 आतंकियों को लखनऊ से दबोचा, भाई बोला- शकील ई-रिक्शा चलाकर परिवार पाल रहा था, घर पहुंचे मीडियाकर्मियों से मारपीट

लखनऊ14 दिन पहले

यूपी ATS ने लखनऊ के बुद्धा पार्क के पास से एक और संदिग्ध आतंकी को बुधवार सुबह गिरफ्तार कर लिया। उसका नाम शकील है, जिसे पुलिस ने 11 जुलाई को पकड़े गए आतंकियों का कमांडर बता रही थी। इससे पहले पुलिस ने दुबग्गा क्षेत्र से अंसार अलकायदा हिंद (AGH) के मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर को गिरफ्तार किया था। लेकिन शकील फरार हो गया था। ATS ने लखनऊ से शकील, मुस्तकीम और मुईद को गिरफ्तार कर लिया है। इन तीनों पर असलहा, बारूद उपलब्ध कराने का आरोप है।वहीं, सूत्रों के मुताबिक, कानपुर से लईक और आफाक को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी है।

मीडियाकर्मियों से मारपीट
वहीं, लखनऊ के वजीरगंज थानाक्षेत्र में शकील के घर के बाहर पहुंचे मीडिया कर्मियों के साथ स्थानीय लोगों ने बदसलूकी की। साथ ही स्थानीय लोगों ने मीडिया के साथ मारपीट की है।

शकील का भाई बोला- पैसा होता तो अंबानी जैसी लाइफ जी रहा होता

शकील के भाई का कहना है कि भाई शकील ई-रिक्शा चलाकर परिवार का पेट पाल रहा है। अगर आतंकी होते तो पैसा होता तो अंबानी और अडानी जैसी लैविश लाइफ जी रहा होता। वहीं, पुलिस सूत्रों के मुताबिक पूछताछ में मिनहाज बार-बार अपने बयान बदल रहा है।

आतंक के ऑपरेशन पर परिवार की 3 चिंताएं-

शकील का भाई बोला- शकील ई-रिक्शा चलाकर परिवार पालता है

शकील के बड़े भाई इलियास कहते हैं - मां सुबह से बेहोश पड़ी है। कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है। देश में अब यही रह गया है कि जिसको चाहो उठवा लो। जिसपर चाहो वो इल्जाम लगा दो।

शकील की बहन बोली- ATS घर उधेड़ के गई, पर कुछ मिला नहीं

शकील की छोटी बहन बोली- मेरे भाई के आतंकवादी होने का सबूत दे। ATS आई पूरा घर उधेड़ कर रख दिया। मगर उनके हाथ कुछ न लगा। एक भी चीज मिलती तो हम मान लेते कि भाई आतंकवादी है। ई- रिक्शा चालने वाले मेरे भाई के साथ न इंसाफी हो रही है। मुस्लमान होना गुनाह है तो ठीक है हम गुनहगार है।

शकील के मोहल्ले वाले बोले- जब चुनाव आता है, ऐसा ही होता है

शकील के मोहल्ले के निवासी मुन्ना कुरैशी कहते हैं कि पूरा मोहल्ला मेहनत कश है। आज सुबह अचानक ही शकील को उठाकर ले गए। जनता दल गर्वनमेंट ने 1977 में इस मोहल्ले को बसाया है। मैं चैलेंज करता हूं कि यहां के एक भी आदमी का पुलिस रिकॉर्ड मिल गया तो मुझे फांसी पर चढ़ा दिया जाए। जब जब चुनाव आता है, ऐसा ही होता है। शकील पहले मोटरसाइकिल का काम करता था, जब वो नहीं चला तो बैटरी ई-रिक्शा चला रहा है। कोरोना काल में सबके काम- धंधे चौपट हो चुके हैं और सरकार बेवजह परेशान कर रही है।

आतंकियों का कमांडर है शकील
मिनहाज और मसीरुद्दीन से पूछताछ में ATS को अहम सुराग हाथ लगे। यूपी में अलकायदा के आतंकी बड़ी साजिश की फिराक में थे। ATS का दावा है कि दोनों 15 अगस्त को सीरियल ब्लास्ट और मानव बम बनकर देश को दहलाने की साजिश रच रहे थे। इन दोनों को AGH का यूपी कमांडर शकील ऑपरेट कर रहा था।

ATS को 11 जुलाई को लखनऊ के दुबग्गा में आतंकियों के होने का इनपुट मिला था। लेकिन घेराबंदी से पहले शकील भाग निकला। मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन पकड़ में आए थे। ATS शकील की तलाश कर रही है।

शकील ने ब्लास्ट की बना ली थी प्लानिंग
ATS ने शकील की तलाश में लखनऊ, कानपुर, मेरठ, देवबंद और बाराबंकी में छापेमारी की है। मिनहाज व मसीरूद्दीन से मिले इनपुट से साफ हुआ कि इन लोगों के निशाने पर प्रदेश के प्रमुख मंदिर, स्मारक, रेलवे स्टेशन और 15 अगस्त के कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले राजनेता व पुलिसकर्मी थे। इन लोगों ने पूरे प्रदेश में करीब दर्जन भर स्थानों की निशानदेही कर सीरियल ब्लास्ट करने की योजना बना ली थी। इसके लिए इनके स्लीपिंग मॉड्यूल्स पूरी तरह से सक्रिय हो चुके थे।

अब सिम, बारूद सप्लाई करने वाले दो युवकों की तलाश
यूपी को दहलाने के लिए पूरा ब्लू प्रिंट तैयार कर लिया था। यह लोग ऐसे मंदिर व बाजारों को निशाना बनाने जा रहे थे, जहां विशेष दिन ज्यादा भीड़ रहती है। सुरक्षा के नाम पर कुछ नहीं। ATS सूत्रों के मुताबिक, सर्च टीम लखनऊ से शकील के साथियों को कानपुर से सिम, बारूद सप्लाई करने वाले दो युवकों की तलाश कर रही है। इसके लिए स्थानीय ATS की टीम के साथ केंद्रीय एजेंसियों की भी मदद ली जा रही है। आतंकी मिन्हाज के संपर्क में करीब 24 लोग थे। जिसमें से यह 4 आतंकी गितिविधयों को अंजाम देने में सक्रिय भूमिका निभा रहे थे।

मिनहाज के घर मिला था बारूद
ATS ने बताया कि यह लोग बारूद के साथ माजिस की तीली में लगे ज्वलनशील मसाला का विस्फोटक में इस्तेमाल करने जा रहे थे। आतंकी मिनहाज के घर से माचिस की तीली से निकाला हुआ भारी मात्रा में मसाला और बारूद भी बरामद हुआ था।

11 जुलाई को दुबग्गा क्षेत्र से दोनों आतंकियों मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर को गिरफ्तार किया गया था।
11 जुलाई को दुबग्गा क्षेत्र से दोनों आतंकियों मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर को गिरफ्तार किया गया था।

दिल्ली कनेक्शन तलाश रही स्पेशल सेल
दिल्ली से आई स्पेशल सेल मिनहाज और मसीरुद्दीन का संभल कनेक्शन सामने आने के बाद से इनका दिल्ली कनेक्शन खोजने में लगी है। स्पेशल सेल (एंटी टेरर यूनिट) ने साल 2015 में अलकायदा के एक्यूआईएस माड्यूल का खुलासा करते हुए 6 आतंकियों को गिरफ्तार किया था। उनमें से दो आतंकी मोहम्मद आसिफ एक्यूआईएस का इंडिया हेड था। जबकि दूसरा जफर मसूद फाइनेंसर था। दोनों ही संभल के रहने वाले थे। मोहम्मद आसिफ ईरान-अफगानिस्तान के रास्ते पाकिस्तान गया था। वहीं, इन्हें उमर हलमंडी निर्देश दे रहा था। जिससे मिनहाज के जुड़े होने की बात सामने आ रही है।

खबरें और भी हैं...