प्रियंका अपने दम पर बना रहीं यूपी में कांग्रेस:70% चेहरे नए, जिन्हें खुद प्रियंका ने तलाशा और तराशा; जानिए कैसे?

लखनऊ5 महीने पहलेलेखक: अविनाश रावत

उत्तर प्रदेश के चुनावों में कांग्रेस अब तक प्रत्याशियों की घोषणा में बाकी दलों से आगे है। पार्टी अब तक दो सूचियों में 166 प्रत्याशियों की घोषणा कर चुकी है। खास बात ये है कि इसमें 70% से भी ज्यादा यानी 117 चेहरे ऐसे हैं, जो पहली बार चुनाव लड़ेंगे। पार्टी के सूत्रों की मानें तो ये नए चेहरे ही प्रियंका गांधी की नई कांग्रेस हैं। इन चेहरों में से कई ऐसे हैं, जिन्हें खुद प्रियंका ने तलाशा, तराशा और अब चुनाव मैदान में उतारा है।

इनमें अन्याय के पीड़ित हैं तो पत्रकार, आशा वर्कर, छात्र नेता और अभिनेत्री भी हैं। कहते हैं इन नए चेहरों के चयन के मामले में पार्टी में राहुल की भी नहीं चलती। अमेठी में प्यार से ‘भइया जी’ कही जाने वाली प्रियंका का फैसला ही अंतिम है। इन नए चेहरों के सहारे कांग्रेस इतिहास बनाएगी या खुद इतिहास बन जाएगी यह तो नतीजे बताएंगे, लेकिन प्रियंका पूरी रौ में हैं, इसमें शक नहीं।

आइए हम आपको मिलवाते हैं प्रियंका की इस नई कांग्रेस के कुछ चुनिंदा चेहरों से...

आशा सिंह: कांग्रेस की सदस्य बने बिना ही प्रत्याशी

2017 में आशा सिंह से मिली थीं प्रियंका।
2017 में आशा सिंह से मिली थीं प्रियंका।

उन्नाव रेप पीड़िता की मां 55 वर्षीय आशा सिंह से प्रियंका 2017 में मिली थीं। उस समय इस मामले में पुलिस की निष्क्रियता के आरोपों पर प्रियंका गांधी आवाज उठाने उन्नाव गईं थीं। तब से लगातार अपने भाषणों और सोशल मीडिया पर की गई ज्यादातर पोस्ट में आशा सिंह का जिक्र करती रहीं। बताते हैं कि आशा सिंह चुनाव लड़ने के लिए तैयार नहीं थीं, लेकिन प्रियंका ने उन्हें मनाया। अब वे उन्नाव सीट से प्रत्याशी तो हैं, लेकिन अभी तक उन्होंने कांग्रेस की सदस्यता भी नहीं ली है।

अर्चना गौतम: पत्रकार बनना चाहती थीं, एक्टर बनीं, प्रियंका ने नेता बनाया

अभिनेत्री से नेत्री बनेंगी अर्चना गौतम।
अभिनेत्री से नेत्री बनेंगी अर्चना गौतम।

हस्तिनापुर विधानसभा सीट से कांग्रेस की प्रत्याशी अर्चना गौतम ने 2018 में मिस बिकिनी का खिताब जीता। साउथ की फिल्मों में काम करते-करते वे फेमस हो गईं। नवंबर 2021 में प्रियंका गांधी अर्चना से मिलीं और उन्हें कांग्रेस में शामिल होने का ऑफर दिया। अर्चना कहती हैं कि वे मेरठ में पढ़ाई के दौरान पत्रकार बनना चाहती थीं, लेकिन मॉडल और फिर एक्टर बन गईं। अब प्रियंका ने उन्हें नेता बना दिया है।

निदा अहमद: पत्रकारिता छोड़ कांग्रेस से जुड़ीं, दो दिन बाद प्रत्याशी बनीं

पार्टी जॉइन करने के दो दिन बाद निदा को मिला टिकट।
पार्टी जॉइन करने के दो दिन बाद निदा को मिला टिकट।

निदा अहमद कई टीवी चैनलों से जुड़ी रहीं। यूं तो पहले कई बार प्रियंका गांधी से मिली थीं, लेकिन नवंबर की मुलाकात ने उन्हें कांग्रेस का प्रत्याशी बना दिया। दो महीनों में कई मुलाकातों के बाद 11 जनवरी को निदा ने पत्रकारिता छोड़ विधायक बनने की ख्वाहिश लेकर कांग्रेस पार्टी जॉइन की। दो दिन बाद ही 13 जनवरी को पार्टी ने उन्हें संभल सीट से प्रत्याशी बना दिया।

सलमान इम्तियाज: छात्र नेता में प्रियंका को दिखा कन्हैया कुमार

पार्टी जॉइन करने के अगले दिन प्रियंका से मुलाकात।
पार्टी जॉइन करने के अगले दिन प्रियंका से मुलाकात।

2018 में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के सोशल वर्क विभाग के रिसर्च स्कॉलर सलमान इम्तियाज रिकॉर्डतोड़ मतों से छात्रसंघ के अध्यक्ष चुने गए। 44 वर्ष बाद अलीगढ़ का कोई छात्र ये चुनाव जीता था। उन्हें अलीगढ़ में पढ़ने वाले विदेशी छात्रों ने भी वोट किया। वे कन्हैया कुमार के भी नजदीकी रहे। उनका प्रचार भी किया और बोलते भी ठीक कन्हैया जैसा हैं।

लिहाजा प्रियंका ने उन्हें कांग्रेस में लाने की जिम्मेदारी हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल को सौंपी। 25 नवंबर को सलमान इम्तियाज को कांग्रेस में शामिल कराया गया और 26 नवंबर को प्रियंका ने मिलने बुला लिया। बताते हैं पहली मुलाकात में ही अलीगढ़ से उनका टिकट तय हो गया था।

पूनम पंडित: किसान आंदोलन में मिलीं और प्रत्याशी बना दिया

किसान आंदोलन के दौरान प्रियंका से मिली थीं पूनम पंडित।
किसान आंदोलन के दौरान प्रियंका से मिली थीं पूनम पंडित।

बुलंदशहर के इस्माइलपुर निवासी पूनम पंडित के पिता किसान थे। उनके निधन के बाद मां ने ही सब कुछ संभाला। पूनम पंडित कभी हरियाणवी डांसर सपना चौधरी की बाउंसर हुआ करती थीं। बाउंसर से एक इंटरनेशनल शूटर का सफर तय किया। नेपाल में हुए रूरल यूथ गेम में 2018 शूटिंग रेस 10 मीटर एयर पिस्टल में गोल्ड मेडल भी जीता। पूनम तब घर चलाने के लिए नौकरी करती थीं। बाद में किसान आंदोलन से जुड़ गईं। इसी दौरान प्रियंका से मुलाकात हुई। प्रियंका ने उन्हें अपना प्रत्याशी बनाने के लिए 22 अक्टूबर को उन्हें कांग्रेस की सदस्यता दिला दी। पूनम पंडित को दूसरी सूची में स्याना सीट से प्रत्याशी घोषित किया गया है।

पूनम पांडेय: आशा वर्कर थीं, प्रियंका आकर मिलीं फिर प्रत्याशी बना दिया

प्रियंका ने शाहजहांपुर में की थी पूनम पांडेय से मुलाकात।
प्रियंका ने शाहजहांपुर में की थी पूनम पांडेय से मुलाकात।

शाहजहांपुर स्थित नई बस्ती रेती की रहने वाली पूनम पांडेय उस समय सुर्खियों में आ गईं थीं जब पुलिस के हाथों उनकी पिटाई का वीडियो वायरल हो गया। वे आशा वर्कर हैं और शाहजहांपुर में CM के सामने मांगपत्र रखने के प्रयास में पुलिस ने उन्हें पीटा था। इस घटना के बाद प्रियंका गांधी ने 11 नवंबर 2021 को पूनम पांडेय समेत कुछ आशा कार्यकर्ताओं से मुलाकात की थी। प्रियंका ने एक घंटे तक लगभग 20 आशा कार्यकर्ताओं से बात की थी और घटना के बारे में जाना। प्रियंका गांधी ने पीड़ित पूनम पांडेय को उस वक्त इंसाफ दिलाने का आश्वासन देकर उनको हरसंभव मदद का भरोसा दिया था। फिर उन्हें कांग्रेस की सदस्यता दिलाकर शाहजहांपुर से अपना उम्मीदवार बनाया है।